वयस्कों में मूत्र पथ संक्रमण

मूत्र पथ के संक्रमण बहुत आम हैं। वो दर्दनाक और असुविधाजनक हो सकते हैं, लेकिन आमतौर पर कुछ दिनों के भीतर चले जाते हैं या एंटीबायोटिक दवाओं के एक पूरे नियम के साथ आसानी से इनका इलाज किया जा सकता है।

मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) सामान्य संक्रमण हैं जो मूत्राशय, गुर्दे और उनसे जुड़ी नलियों को प्रभावित कर सकते हैं।

यूँ तो ये किसी को भी हो सकतें है, लेकिन महिलाओं में विशेष रूप से आम हैं। कुछ महिलाओं को नियमित रूप से होते हैं (जिन्हें पुनरावर्ती यूटीआई कहा जाता है)।

यूटीआई दर्दनाक और असुविधाजनक हो सकता है, लेकिन आमतौर पर कुछ दिनों के भीतर चला जाता है और एंटीबायोटिक दवाओं के साथ आसानी से इनका इलाज किया जा सकता है।

यह पृष्ठ वयस्कों में यूटीआई के बारे में है। बच्चों में यूटीआई के बारे में एक अलग लेख दिया गया है।

यूटीआई के लक्षण

मूत्राशय (सिस्टिटिस) या मूत्रमार्ग (शरीर से मूत्र को बाहर निकालने वाली नली) के संक्रमण को निचली यूटीआई के रूप में जाना जाता है। इसके कारण हो सकता है:

  • सामान्य से अधिक बार पेशाब करने की आवश्यकता
  • पेशाब करते समय दर्द या तकलीफ
  • अचानक पेशाब करने की जल्दी
  • ऐसा लगे जैसे आप अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली नहीं कर पा रहे हैं
  • पेट के निचले भाग में दर्द
  • मूत्र जो धुँधला दिखे, दुर्गंधयुक्त हो या जिसमें रक्त है
  • आम तौर पर अस्वस्थ रहना, दर्द और थकान महसूस करना

गुर्दे या मूत्रवाहिनी के संक्रमण (मूत्राशय में गुर्दे को जोड़ने वाली नली) को ऊपरी यूटीआई के रूप में जाना जाता है। इससे उपरोक्त लक्षण हो सकते हैं और निम्न भी:

  • 38ºC (100.4ºF) या उससे उच्च तापमान (बुखार)
  • आपकी पसलियों या पीठ में दर्द
  • काँपना और ठंड लगना
  • बीमार होना और महसूस करना
  • उलझन होना
  • व्याकुलता या बेचैनी

निचले यूटीआई आम हैं और आमतौर पर बड़ी चिंता का कारण नहीं हैं। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो ऊपरी यूटीआई गंभीर हो सकती है क्योंकि वे गुर्दे को नुकसान पहुँचा सकते हैं या रक्तप्रवाह में फैल सकते हैं।

डॉक्टरी सलाह कब लें

यदि आपको लगता है कि आपको यूटीआई है तो अपने चिकित्सक को दिखा लें, खासकर यदि:

  • आपको ऊपरी यूटीआई के लक्षण दिखने लगे (ऊपर देखें)
  • लक्षण गंभीर या बदतर हो रहे हैं
  • कुछ दिनों के बाद भी लक्षणों में सुधार शुरू नहीं हुआ है
  • आपको बार-बार यूटीआई हो रहा हो

आपके डॉक्टर आपके मूत्र के नमूने का परीक्षण करके आपके लक्षणों के अन्य संभावित कारणों का पता लगा सकते हैं और यदि आपको संक्रमण है तो आप एंटीबायोटिक्स दी जा सकती है।

एंटीबायोटिक्स आमतौर पर दी जाती हैं क्योंकि यदि उन्हें फैलने की अनुमति दी जाती है तो अनुपचारित यूटीआई संभावित रूप से गंभीर समस्याओं का कारण बन सकते हैं।

यूटीआई के उपचार

यूटीआई का आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं के एक छोटे नियम के साथ इलाज किया जाता है।

ज़्यादातर महिलाओं को एंटीबायोटिक कैप्सूल या गोलियों के तीन दिन का नियम दिया जाता है। पुरुषों, गर्भवती महिलाओं और अधिक गंभीर लक्षणों वाले लोगों को थोड़ा लंबा नियम करने की आवश्यकता हो सकती है।

उपचार शुरू करने के तीन से पाँच दिनों के भीतर आपके लक्षण सामान्य रूप से चले जायेंगे। लेकिन सुनिश्चित कर लें कि आप एंटीबायोटिक्स का नियम पूरा करते हैं, भले ही आप बेहतर महसूस कर रहे हों।

पेरासिटामोल जैसे दवाई-दूकान से मिलने वाली दर्द-निवारक किसी भी प्रकार के दर्द में सहायता कर सकते हैं। बहुत सारी तरल चीजें पीने से आपको बेहतर महसूस करने में सहायता मिल सकती है।

यदि आपके लक्षणों में सुधार नहीं होता है या इलाज के बाद लक्षण वापस आ जाएँ तो अपने चिकित्सक के पास वापस जाएँ।

यूटीआई के कारण

यूटीआई तब होता है जब मूत्र पथ आमतौर पर बैक्टीरिया द्वारा संक्रमित हो जाता है। ज़्यादातर मामलों में, आंत से बैक्टीरिया मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्र पथ में प्रवेश करते हैं।

उदाहरण के लिए, अपने निचले हिस्से को पोंछते या सम्भोग करते समय ऐसा हो सकता है, लेकिन अक्सर यह स्पष्ट नहीं होता है कि ऐसा क्यों होता है।

निम्नलिखित आपको यूटीआई होने के जोखिम बढ़ा सकते हैं:

  • ऐसी अवस्था जो आपके मूत्र पथ को बाधित करती है, जैसे कि गुर्दे की पथरी
  • अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करने में कठिनाई
  • एक गर्भनिरोधक डायफ्राम या शुक्राणुनाशक में लेपित कंडोम का उपयोग करना
  • मधुमेह
  • एक कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली - उदाहरण के लिए कीमोथेरेपी या एचआईवी से
  • एक मूत्र नलिका (आपके मूत्राशय में एक नली जो मूत्र को बहाती है)
  • पुरुषों में एक बढ़ी हुई प्रोस्टेट ग्रंथि

महिलाओं में यूटीआई होने की अधिक संभावना हो सकती है क्योंकि उनका मूत्रमार्ग पुरुष की तुलना में छोटा होता है और उनके गुदा (पीछे के मार्ग) के करीब है।

यूटीआई से बचाव

यदि आपको बार-बार यूटीआई होता है, तो कुछ चीजें हैं जिन्हें आप आज़मा सकते हैं जो इसे वापस आने से रोक सकती हैं। हालाँकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इनमें से अधिकांश उपाय कितने प्रभावी हैं।

इन उपायों में शामिल हैं:

  • अपने जननांगों के चारों ओर सुगंधित बुलबुला स्नान, साबुन या टैल्कम पाउडर से परहेज करें - सादे, बिना सुगंध वाली किस्मों का उपयोग, और स्नान के बजाय शॉवर लें
  • जैसे ही आपको पेशाब करने की ज़रूरत हो, शौचालय जाएँ और हमेशा अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करें
  • अच्छी तरह से जलायोजित रहें
  • जब आप लैट्रीन जाते हैं तो अपने नीचे के हिस्से को आगे से पीछे की तरफ पोंंछे
  • संभोग करने के बाद जितनी जल्दी हो सके अपने मूत्राशय को खाली करना
  • गर्भनिरोधक डायाफ्राम या उन पर शुक्राणुनाशक स्नेहक के साथ कंडोम का उपयोग नहीं करना - आप इसके बजाय गर्भनिरोधक की कोई और विधि का उपयोग करना चाहेंगे
  • नायलॉन जैसे सिंथेटिक सामग्री के बजाय कपास से बने अंडरवियर पहने, और तंग जींस और पतलून से बचें

अगर ये उपाय काम नहीं करते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें। वो एंटीबायोटिक दवाओं का लंबा नियम करने का सुझाव दे सकते हैं या वे आपको यूटीआई के लक्षणों का अनुभव करते ही एंटीबायोटिक दवाओं के लिए एक निर्धारित दवा दे सकते हैं।

वर्तमान में यह बताने के लिए बहुत कम सबूत हैं कि करौंदे का रस पीने या प्रोबायोटिक्स का उपयोग करने से आपके यूटीआई होने की संभावना कम हो जाती है।

NHS Logo
शीर्ष पर लौटें