क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

यौन क्रिया-कलाप और खतरे(Sex activities and risk)

अलग-अलग यौन गतिविधियों से यौन संचारित संक्रमण (STI) होने की आशंकाओं के बारे में पढ़ें।

कंडोम आपको लगभग हर समस्या से बचाने में मददगार होगा।

योनि मैथुन

पुरुष के लिंग का एक महिला की योनि में प्रविष्ट करने को योनि मैथुन कहते हैं।

कंडोम प्रयोग नहीं करने पर गर्भ ठहरने या एसटीआई (STI) से संक्रमित होने या संक्रमित करने का खतरा हो सकता है। इसमें निम्नलिखित को शामिल किया जा सकता है:

क्लैमाइडिया (chlamydia)

जननांग में दाद होना(genital herpes)

जननांग में मस्से होना(genital warts)

गोनोरिया (gonorrhoea) 

एचआईवी (HIV) 

सिफलिस (syphilis)

लिंग के पूरी तरह योनि में प्रवेश नहीं होने या पुरुष  के स्खलित नहीं होने पर भी संक्रमण फैल सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पूर्व- स्खलन द्रव (प्री-कम) में भी संक्रमण मौजूद हो सकता है । 

योनि में लिंग का हल्का सा प्रवेश भी दोनों ही साथियों के लिए जोखिम पैदा कर सकता है। कंडोम के प्रयोग से इस तरह के संक्रमण से सुरक्षा मिल जाती है। 

अनचाहे गर्भ से बचाव

गर्भधारण को रोकने के लिए बहुत सी गर्भनिरोध के बहुत से तरीके हैं, जिनमें गर्भ निरोधक सुई, गर्भनिरोधक पैच, गर्भनिरोधक इम्पालन्ट्स  और संयुक्त गोलियां शामिल होती हैं।

इस बात को ध्यान में रखें कि कंडोम ही गर्भनिरोध की एकमात्र पद्धति है जो गर्भधारण और यौन संचारित संक्रमण से सुरक्षा देती है। इसलिए गर्भनिरोधक की पद्धति के साथ भी कंडोम का प्रयोग ज़रुर करें। 

गर्भनिरोधक के 15 तरीकों के बारे में जानें।  

गुदामैथुन

यह तब होता है जब पुरुष का लिंग अपने साथी के गुदा द्वार में प्रवेश करता है। कुछ लोग , कभी कभी अपने यौन जीवन में इसे करना पसंद करते हैं और कुछ लोग इसे पसंद नहीं करते हैं। महिला और पुरुष गुदा मैथुन को चुन सकते हैं, भले ही वो समलैंगिक हो या नहीं।

बाकी मैथुन के मुकाबले गुदामैथुन में एसटीआई (STI) फैलने की आशंका सबसे ज्यादा होती है। क्योंकि गुदा द्वार की परतें पतली होती हैं और आसानी से नष्ट हो सकती हैं। इसलिए संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। 

गुदामैथुन के द्वारा जो एसटीआई (STIs) फैल सकते हैं उनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • क्लैमाइडिया(chlamydia)
  • जननांग में होने वाले दाद
  • जननांग में होने वाले मस्से
  • गोनोरिया(gonorrhoea)
  • एचआईवी (HIV)
  • सिफलिस (syphilis)

कंडोम का इस्तेमाल गुदामैथुन से एसटीआई (STI) फैलने के खतरे को रोक सकता है। 

अगर आप लुब्रिकेंट्स का उपयोग करते हैं तो सिर्फ पानी आधारित लुब्रिकेंट्स का उपयोग करें,  ये किसी भी दवा विक्रेता के पास आसानी से मिल जाते हैं। तेल युक्त लुब्रिकेंट्स जैसे कि लोशन और मॉइस्चराइजर की वजह से कंडोम विफल हो सकता है या फट सकता है।

कंडोम इस्तेमाल करने का सही तरीका जानें।

मुखमैथुन

योनि, लिंग या गुदाद्वार को चूसने या चाटने को मुखमैथुन के अंतर्गत शामिल किया जाता है। इस तरह काम क्रियाएं कुछ महिला-पुरुष (समलैंगिक या स्ट्रेट) करना पसंद करते हैं तो कुछ लोग नहीं करते  हैं।

मुखमैथुन में में एसटीआई (STI)का खतरा होता है। ये आशंका तब और बढ़ जाती है अगर मुंह, जननांग या गुदा द्वार पर कोई चोट है। 

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वीर्य, योनि स्राव और खून में वायरस या बैक्टीरीया उपस्थित हो सकते हैं, जो त्वचा में चोट के जरिये दूसरे साथी के शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।  

अमूमन मुख मैथुन देने की अपेक्षा लेने में संक्रमण का खतरा कम होता है। मगर फिर भी एसटीआई (STI) का खतरा बना रहता है। 

मुख मैथुन के जरिए भी एसटीआई(STI) फैल सकता है। इसमें इन संक्रमण को शामिल किया जा सकता है। 

  • क्लैमाईडिया (chlamydia)
  • हर्पीस - टाइप 1 और टाइप 2। इसके कारण मुंह, जननांग या गुदा द्वार में फोड़े हो सकते हैं। 
  • जननांग पर मस्से
  • गोनोरिया (gonorrhoea)
  • हैपिटाइटिस A B और C
  • एचआईवी (HIV)
  • सिफलिस (syphilis)

अगर आप को फोड़े हैं और आप अपने साथी को मुख मैथुन देते हैं, तो आपके साथी को आप से हर्पीस या दाद का संक्रमण हो सकता है । इसी तरह से हर्पीस या दाद जननांग से मुंह तक जा सकता है। 

बिना कंडोम के योनि मैथुन या गुदा-मैथुन के मुकाबले मुख मैथुन से एचआईवी (HIV) का खतरा बहुत कम होता है। यदि आपके मुंह, जननांग या गुदा द्वार में कट या घाव हों तो ये खतरा बढ़ सकता है। 

कंडोम पहन कर आप सुरक्षित तौर पर मुख मैथुन कर सकते हैंक्योंकि ये अवरोधक बन कर मुंह और लिंग के बीच होता है।

किसी भी तरह का कंडोम आपको मुख मैथुन में सुरक्षित रखता है। 

फिंगरिंग (योनि या गुदा में ऊँगली)

इसमें साथी की योनि या गुदा द्वार में एक या दो उंगलियां प्रवेश की जाती हैं। हालांकि उंगली से एसटीआई(STI) का संक्रमण मुश्किल होता है मगर फिर भी इसमें खतरा बना रहता है।

अगर आपकी उंगली पर कट या घाव हो,  चाहे कितना भी छोटा क्यों न हो, तो खून से होने वाले संक्रमण जैसे हैपिटाइटिस बी या सी या एचआईवी (HIV) का खतरा बना रहता है। 

कुछ लोग पूरा का पूरा हाथ ही अपने साझेदार की योनि या गुदा द्वार में प्रवेश करा देते हैं, इसे फिस्टिंग (fisting) कहते हैंI हर कोई इसे नहीं करता। 

किसी भी साझेदार की त्वचा कटी या छिली हुई हो तो संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। आप शल्य चिकित्सा में प्रयोग होने वाले दस्ताने इस्तेमाल कर के खतरे को कम कर सकते हैं।

सेक्स टॉयज

ये सामान की बड़ी श्रृंखला होती है जिसमें सेक्स डॉल्स और वाइब्रेटर भी शामिल हैं। काम क्रिया में इस्तेमाल होने वाली कोई भी वस्तु चाहे इसके लिए बनाई गयी हो या नहीं, को सेक्स टॉयज या यौन खिलौने में शामिल किया जा सकता है। 

ये बेहद जरुरी है कि यौन खिलौनों को साफ रखा जाए। अगर आप सेक्स टॉयज साझा कर रहे हैं तो, हर बार नए कंडोम चढाकर या फिर धो  कर ही इन्हे साझा करें।

यौन खिलौनों को शेयर करने में क्लामैडिया (chlamydia), सिफलिस (syphilis) या हर्पीज़ के संक्रमण का खतरा हो सकता है। अगर योनि, लिंग या गुदा द्वार के पास चोट, फोड़े या खून होता है, तो हैपिटाइटिस बी, सी या एचआईवी (HIV) का खतरा और ज्यादा हो जाता है । 

मूत्र और मल

कुछ लोगों को यौन जीवन में अपने साथी के ऊपर मूत्र त्याग भी अच्छा लगता है मगर कुछ को नहीं। जिस के ऊपर मूत्र त्याग किया जा रहा है, अगर उसकी त्वचा कटी हुई या छिली हुई हो, तो संक्रमण का खतरा और ज्यादा हो जाता है । 

ये खतरा मल से और ज्यादा बढ़ जाता है। क्योंकि मल में  ऐसी जैविक सरंचनाएं होती है जिससे शिगेला(shigella) सरीखी बीमारी या संक्रमण फैल सकता है। यह आंत का एक जीवाणु संक्रमण है जो अतिसार या पेचिश तक कर सकता है और जिसको अक्सर विशाक्त भोजन का दुष्प्रभाव मान लिया जाता है। यह गुदा-मुख मैथुन से या फिर गुदा मैथुन के बाद मुख मैथुन से सकता है। जिसमें संक्रमित मल की जरा सी मात्रा भी मुंह में आने संक्रमण फैल सकता है। 

मल में हैपिटाइटिस ए के कीटाणु हो सकते हैं मगर अमूमन एचआईवी (HIV) नहीं होता। मल के कटी-फटी हुई त्वचा, मुंह या आंख के संपर्क में आने से संक्रमण का खतरा हो सकता है। 

कटना

यौन क्रियाओं के दौरान खुरचने से त्वचा के कटने या छिलने से खतरा हो सकता है। त्वचा के कटने या छिलने से एक से दूसरे व्यक्ति में एचआईवी (HIV), हैपिटाइटिस बी और सी का संक्रमण हो सकता है।

सिर्फ साथी के शरीर से खून के सम्पर्क में आने से ही ये संक्रमण हो सकते हैं इसमें किसी काम क्रिया की आवश्यकता नहीं है। 

काटने और छेदने वाले उपकरणों को कीटाणु रहित करने और आपस में बांटने से बच कर से इस संशय को कम किया जा सकता है। 

बाकी जानकारी

क्या यौन खिलौने सुरक्षित हैं?

एसटीआई के लक्षण कितनी जल्दी दिखने लगते हैं?

एसटीआई से पीड़ित होने की शंकाहोने पर  मुझे क्या करना चाहिए?

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।