क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

यौन संचारित संक्रमण (STIs)

यौन संचारित संक्रमण (STIs) एक से दूसरे व्यक्ति मे असुरक्षित यौन संबंध अथवा जननांग संपर्क द्वारा पारित होते हैं।

यौन संचारित संक्रमण के लिए आपकी जांच किसी यौन स्वास्थ्य क्लीनिक मे अथवा जननांग चिकित्सा (Genito Urinary Medicine, GUM) विभाग मे की जा सकती है |

यह लेख विभिन्न यौन संचारित संक्रमणों का संक्षिप्त विवरण प्रदान करता है।

क्लैमिडिया(Chlamydia)

क्लैमिडिया (chlamydia) एक सबसे आम प्रकार का यौन संचारित संक्रमण है तथा यौन संबंध के दौरान आसानी से पारित होता है। अधिकतर लोग इसके किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं करते इसलिए वे इस बात से अनजान होते हैं कि वे संक्रमित हैं।

महिलाओं में, क्लैमिडिया(chlamydia) के कारण मूत्र त्याग करते समय दर्द अथवा जलन का अनुभव, योनि स्राव, यौन क्रिया के दौरान अथवा उसके बाद पेडू (lower abdomen) में दर्द तथा यौन क्रिया के समय या उसके बाद अथवा मासिक स्राव(periods) के बीच मे रक्तस्राव हो सकता है। इसके कारण अत्यधिक मासिक स्राव भी हो सकता है।

पुरुषों में, क्लैमिडिया के कारण मूत्र त्याग करते समय दर्द अथवा जलन, लिंग के अग्र भाग से सफेद, मटमैला या पानी जैसा स्राव निकालना तथा वृषणों मे दर्द या स्पर्शसह्यता (tenderness) होता है।

क्लैमिडिया (chlamydia) संक्रमण का आपकी गुदा(rectum), गले अथवा आंखों में होना भी संभव है।

मूत्र जांच द्वारा अथवा प्रभावित भाग का नमूना लेकर क्लैमिडिया का निदान आसानी से किया जा सकता है। इस संक्रमण का उपचार एंटीबायोटिक्स(antibiotics) द्वारा आसानी से किया जाता है लेकिन यदि इसका उपचार न किया जाए तो इसके कारण बांझपन जैसी लंबे समय तक चलने वाली गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

क्लैमिडिया(chlamydia) के बारे मे और पढ़ें।

जेनिटल वार्ट्स (Genital warts)

जेनिटल वार्ट (Genital warts,जननांग के मस्से) छोटी मांसल वृद्धियाँ, उभार या त्वचा मे बदलाव होते हैं जो आपके जननांग या मलद्वार क्षेत्र पर या उसके आसपास उत्पन्न होते हैं। ये एचपीवी (मानव पेपिलोमावायरस, Human Papilloma Virus) के कारण होते हैं।

आमतौर पर यह मस्से दर्द रहित होते हैं लेकिन आप इनमें खुजली अथवा लालिमा का अनुभव कर सकते हैं। कभी-कभी इनके कारण रक्त स्राव हो सकता है।

संक्रमण पारित करने के लिए आपको प्रवेशक यौन क्रिया(penetrative sex) करने की आवश्यकता नही होती क्योंकि HPV त्वचा से त्वचा के संपर्क द्वारा फैलता है।

जेनिटल वार्ट के लिए विभिन्न उपचार उपलब्ध हैं जिनमें क्रीम तथा क्रोथेरपी (cryotherapy) (मस्सों को जमा देना) शामिल हैं | 

जेनिटल वार्ट के बारे में और पढ़ें|

जननांग दाद (Genital herpes)

जननांग दाद, हर्पीस सिम्पलेक्स वायर(herpes simplex virus, HSV) के कारण होने वाला एक आम संक्रमण है, मुँह के छाले भी इसी वायरस के कारण होते हैं।

कुछ लोगों मे HSV के लक्षण वायरस के संपर्क मे आने के कुछ दिनों बाद विकसित होते हैं। आमतौर पर छोटे, पीड़ादायक फफोले या घाव उत्पन्न होते हैं जिसके कारण खुजली या जलन हो सकती है अथवा मूत्र त्याग को पीड़ादायक हो सकता है।

आपके संक्रमित होने के पश्चात, वायरस अधिकांश समय के लिए निष्क्रिय(inactive) रहता है। लेकिन कुछ विशिष्ट उत्तेजक पदार्थ (triggers) इसे दोबारा सक्रिय कर सकते हैं, जिसके कारण फफोले दोबारा उत्पन्न हो जाते हैं, लेकिन आमतौर पर यह छोटे तथा कम पीड़ादायक होते हैं।

यदि आपमे लक्षण हैं तो HSV की जांच करवाना बहुत आसान है। हालांकि जननांग दाद का कोई इलाज नहीं है, लेकिन आमतौर पर इसके लक्षण एंटीवायरल औषधियों द्वारा नियंत्रित किए जा सकते हैं।

जननांग दाद के बारे में और पढ़ें।

गोनोरिया (Gonorrhoea)

गोनोरिया (Gonorrhoea) बैक्टीरीया के कारण होने वाला एक यौन संचारित संक्रमण है जो यौन क्रिया के दौरान आसानी से पारित होता है।

लगभग 50% महिलाएं तथा 10 % पुरुष इसके किसी लक्षण का अनुभव नहीं करते तथा इस बात से अनजान होते हैं कि वे संक्रमित हैं।

महिलाओं में, गोनोरिया(gonorrhoea) के कारण मूत्र त्याग करते समय दर्द अथवा जलन का अनुभव, योनि स्राव (आमतौर पर पानी जैसा, पीला या हरे रंग का) , यौन क्रिया के दौरान अथवा उसके बाद पेडू (lower abdomen) में दर्द तथा यौन क्रिया के समय या उसके बाद अथवा मासिक स्राव के बीच मे रक्तस्राव हो सकता है तथा कभी कभी अत्यधिक मासिक स्राव भी हो सकता है|

पुरुषों मे, गोनोरिया के कारण मूत्र त्याग करते समय दर्द या जलन का अनुभव, लिंग के अग्र भाग से सफेद,पीला या हरा स्राव निकलना तथा वृषणों मे दर्द या स्पर्शसह्यता हो सकती है।

आपकी गुदा ,गले अथवा आँखों मे भी गोनोरिया संक्रमण का होना संभव है।

मूत्र की जांच द्वारा अथवा प्रभावित भाग का नमूना लेकर गोनोरिया का निदान आसानी से किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स द्वारा संक्रमण की चिकित्सा आसानी से की जा सकती है लेकिन यदि इसकी चिकित्सा ना की जाए तो इससे लंबे समय तक चलने वाली गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है जैसे बाँझपन।

गोनोरिया (Gonorrhoea) के बारे में और पढ़ें।

सिफलिस (Syphilis) 

सिफलिस एक बैक्टीरीयल संक्रमण है जिसके प्रारंभिक अवस्था में आपके जननांगों पर या मुख के आस पास दर्द रहित किंतु अत्यधिक संक्रामक घाव उत्पन्न होता है। यह घाव गायब होने से पहले 6 हफ्तों तक बना रह सकता है |

तब इसके अन्य लक्षण(secondary symptoms) जैसे चकत्ते(rash), फ्लू के समान रोग या कहीं कहीं से बालों का झड़ना (patchy hair loss) विकसित हो सकते हैं| ये कुछ ही हफ्तों के अंदर गायब हो सकते हैं, जिसके बाद आपमें लक्षण मुक्त (symptom-free) अवस्था होगी|

सिफलिस (Syphilis)  की तृतीय अवस्था (tertiary stage) आमतौर पर कई वर्षों बाद उत्पन्न होती है तथा इसके कारण हृदय से संबंधित समस्याएँ, पक्षाघात तथा दृष्टिहीनता (blindness) जैसी गंभीर स्थितियाँ उत्पन्न हो सकती हैं।

सिफलिस (Syphilis) के लक्षणों को पहचानना मुश्किल हो सकता है। साधारणतः एक सामान्य रक्त जांच द्वारा सिफलिस (Syphilis) का परीक्षण किसी भी अवस्था मे किया जा सकता है। इसकी चिकित्सा एंटीबायोटिक्स द्वारा की जा सकती है, प्रायः पेन्सिलिन के इंजेक्शन द्वारा। जब सिफलिस की चिकित्सा उचित रूप में की जाती है तो इसकी बाद की अवस्थाओं से बचा जा सकता है।

सिफलिस (Syphilis) बारे में और पढ़ें।

एचआईवी (HIV)

एचआईवी सामान्यतः असुरक्षित यौन संबंध द्वारा पारित होता है। संक्रमित रक्त के संपर्क में आने से भी यह संचारित हो सकता है- उदाहरण के लिए स्टेरॉयडस या ड्रग्स लेने के लिए सुइयों को साझा करना।

एचआईवी वायरस प्रतिरक्षा तंत्र पर हमला कर उसे कमजोर बना देता है, जिससे इसकी संक्रमण अथवा रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। एचआईवी का कोई इलाज नहीं है लेकिन कुछ उपचारों द्वारा अनेक लोग एक लंबा तथा बाक़ी तरह से स्वस्थ जीवन जी पाते हैं।

एचआईवी संक्रमण की अंतिम अवस्था एड्स (AIDS) है, जब आपका शरीर प्राणघातक संक्रमणों का और अधिक मुकाबला नही कर पाता।

एचआईवी से ग्रसित ज्यादातर लोग स्वस्थ दिखाई देंगे तथा स्वस्थ अनुभव करेंगे तथा उनमे कोई लक्षण नही होते। जब आपमें पहली बार एचआईवी विकसित होगा तो आप फ्लू जैसे रोग का अनुभव कर सकते हैं जैसे बुखार, गले मे दर्द या चकत्ते होना। इसे सेरोकनवर्सन (seroconversion) रोग कहते हैं।

आमतौर पर एचआईवी संक्रमण की जांच के लिए एक सामान्य रक्त जांच का प्रयोग किया जाता है। कुछ प्रयोगशालाएँ रक्त जांच या लार के नमूने का प्रयोग कर एक रैपिड टेस्ट भी प्रदान कर सकती हैं।

एचआईवी तथा एड्स (AIDS) के बारे मे एवं एक सकारात्मक एचआईवी जांच का सामना करने के बारे मे और पढ़ें।

ट्राइकोमोनास वैजिनैलिस (Trichomonas vaginalis)

ट्राइकोमोनास वैजिनैलिस (Trichomonas vaginalis, TV) एक छोटे परजीवी(पैरसायट) से होने वाला यौन संचारित संक्रमण है। यह यौन संबंधों द्वारा आसानी से पारित होता है तथा ज्यादातर लोग इस बारे मे अनजान होते हैं कि वे संक्रमित हैं।

महिलाओं में, इसके कारण अप्रिय गंध वाला झागयुक्त पीला अथवा पानी जैसा योनि स्राव होता है, योनि के आसपास खुजली या पीड़ा तथा मूत्र त्याग करते समय दर्द होता है।

पुरुषों में, इसके कारण कभी कभार ही लक्षण उत्पन्न होते हैं। आपको मूत्रत्याग करने के बाद दर्द या जलन, सफेद स्राव अथवा लिंग के आगे की त्वचा में जलन होने का अनुभव हो सकता है।

कभी-कभी TV की पहचान करना मुश्किल हो सकता है तथा आपके चिकित्सक मूत्र अथवा स्वाब जांच के लिए आपको किसी विशेषज्ञ के क्लीनिक जाने की सलाह दे सकते हैं। एक बार निदान होने के पश्चात, आमतौर पर TV का उपचार ऐंटीबायोटिक्स द्वारा किया जा सकता है।

ट्राइकोमोनास वैजिनैलिस(Trichomonas vaginalis) के बारे में और पढ़ें।

प्यूबिक जूँ (Pubic lice)

जघन जूं (Pubic lice, 'crabs') जननांगों के निकट संपर्क द्वारा आसानी से दूसरे में पारित होते हैं। यह आमतौर पर जघन प्रदेश के बालों (pubic hair) में पाए जाते हैं लेकिन यह बगल के बालों (underarms), शरीर के बालों, दाढ़ी तथा कभी-कभी भौहों या पलकों पर भी रह सकते हैं।

जूँ बालों से बालों में रेंगते हैं लेकिन एक से दूसरे व्यक्ति में कूदकर या उड़कर नहीं जाते। इसके किसी लक्षण का अनुभव करने में आपको कई हफ्तों का समय लग सकता है। ज्यादातर लोगों को खुजली का अनुभव होगा तथा आप बालों मे जूँ या उसके अंडों को देख सकते हैं |

सामान्यतः इसका उपचार विशेष क्रीमों या शैम्पू द्वारा सफलतापूर्वक किया जा सकता है ,जो अधिकतर दवाखानों मे उपलब्ध हैं। इन्हे डॉक्टर से भी प्राप्त किया जा सकता है।

आपको जघन प्रदेश के बालों या शरीर के बालों को हटाने की आवश्यकता नहीं होती।

प्यूबिक लाइस के बारे में और पढ़ें।

स्केबीज़ (Scabies) 

स्केबीज़ अत्यंत छोटे कीट के एक प्रकार के कारण होता है जो त्वचा के अंदर प्रविष्ट हो जाते हैं। यह शरीर के करीबी संपर्क से अथवा यौन संपर्क से अथवा संक्रमित बिस्तर, कपड़ों या तौलिए से पारित हो सकते हैं।

यदि आप में स्केबीज़ विकसित हो जाता है तो आपको अत्यधिक खुजली होती है जो रात में बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। यह खुजली आपके जननांग के भागों में भी हो सकती है लेकिन आमतौर पर यह आपकी उंगलियों के बीच में, कलाई तथा टखनो पर, बगलों में (underarms) अथवा आपके शरीर तथा वक्ष स्थल पर भी हो सकती है।

आप में चकत्ते या बहुत छोटे दाग उत्पन्न हो सकते हैं। कुछ लोगों में स्केबीज़ से एक्ज़ेमा(eczema) होने का भ्रम हो सकता है। आमतौर पर इन माइटस को देखना बहुत मुश्किल होता है।

सामान्यतः स्केबीज़ का उपचार विशेष क्रीमों या शैम्पू का प्रयोग कर सफलतापूर्वक किया जा सकता है, जो अधिकतर दवाखानों मे बिना पर्चे के उपलब्ध होते हैं अथवा इन्हे डॉक्टर से भी प्राप्त किया जा सकता है। प्रभावी चिकित्सा के बाद भी खुजली कभी-कभी कुछ समय के लिए बनी रह सकती है।

स्केबीज़ के बारे में और पढ़ें।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।