त्वचा रोग

परिचय

त्वचा रोग त्वचा की वह अवस्था है जो लाल, परतदार, त्वचा की पपड़ीदार धब्बे के कारण होती है जो कि सफ़ेद पपड़ी से ढकी होती है।

ये धब्बा आमतौर पर तो आपकी कोहनी, घुटने, खोपड़ी और पीठ के निचले हिस्से पर दिखाई देते हैं, लेकिन आपके शरीर पर कहीं भी दिखाई पड़ सकते हैं। अधिकतर लोग केवल छोटे धब्बों से प्रभावित होते हैं। कुछ मामलों में, धब्बों की वजह से खुजली या सूजन आ सकती है।

त्वचा रोग से ब्रिटेन में लगभग 2% लोग प्रभावित है। यूँ तो यह किसी भी उम्र में शुरू हो सकता है, लेकिन अधिकतर 35 वर्ष से कम उम्र के वयस्कों में विकसित होता है। यह अवस्था पुरुषों और महिलाओं को समान रूप से प्रभावित करती है।

त्वचा रोग की गंभीरता एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होती है। कुछ लोगों को इससे सिर्फ थोड़ी जलन महसूस होती है, लेकिन कइयों के लिए यह उनके जीवन की गुणवत्ता पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकती है।

त्वचा रोग एक लंबे समय तक चलने वाली बीमारी है जिसमें आमतौर पर ऐसे समयकाल शामिल होते हैं जब आपको कोई लक्षण या हल्के लक्षण नहीं दिखते, लेकिन कुछ समय बाद अधिक गंभीर लक्षण दिखने लगते हैं।

त्वचा रोग के लक्षणों के बारे में और पढ़ें।

यह क्यों होता है?

त्वचा रोग से पीड़ित लोगों में त्वचा कोशिकाओं का उत्पादन बढ़ जाता है।

त्वचा कोशिकायें सामान्य रूप से बनती हैं और हर तीन से चार सप्ताह में बदल जाती है, लेकिन त्वचा रोग में यह प्रक्रिया केवल तीन से सात दिनों तक चलती है। त्वचा कोशिकाओं के बनने से ही त्वचा रोग से संबंधित धब्बा बनाता है।

यद्यपि यह प्रक्रिया पूरी तरह से समझ में नहीं आ पायी है, फिर भी इसे प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्या से संबंधित माना जाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली रोग और संक्रमण के खिलाफ आपके शरीर की रक्षा करता है, लेकिन त्वचा रोग वाले लोगों के लिए, यह गलती से स्वस्थ त्वचा कोशिकाओं पर हमला करता है।

त्वचा रोग खानदानी हो सकता है, हालाँकि त्वचा रोग पैदा करने में आनुवांशिकी की सटीक भूमिका स्पष्ट नहीं है।

कई लोगों में त्वचा रोग के लक्षण एक निश्चित घटना के कारण शुरू होते हैं या बदतर हो जाते हैं, जिसे "कारण" के नाम से जाना जाता है। त्वचा रोग के संभावित कारण में आपकी त्वचा पर चोट, गले में संक्रमण और कुछ दवाओं का उपयोग शामिल हैं।

यह अवस्था संक्रामक नहीं है, इसलिए एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैल सकती है।

त्वचा रोग का निदान कैसे किया जाता है

एक डॉक्टर अक्सर आपकी त्वचा को देखने के आधार पर त्वचा रोग का निदान कर सकता है।

दुर्लभ मामलों में, त्वचा का एक छोटा सा नमूना, जिसे बायोप्सी कहा जाता है, को माइक्रोस्कोप के तहत जाँच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है। इससे सटीक प्रकार की त्वचा रोग और त्वचा के अन्य विकारों को खारिज किया जाता है, जैसे कि सेबोरहिक डर्मेटाइटिस, लिचेन प्लेनस, लिचेन सिम्प्लेक्स और पिटीराइसिस रोसिया।

यदि आपका डॉक्टर आपके निदान के बारे में अनिश्चित है, या यदि आपकी स्थिति गंभीर है, तो आपको त्वचा विशेषज्ञ (त्वचा की स्थिति का पता लगाने और उपचार करने में विशेषज्ञ) के पास भेजा जा सकता है।

यदि आपके डॉक्टर को संदेह है कि आपको त्वचा रोग गठिया है, जो कभी-कभी त्वचा रोग की एक जटिलता होती है, तो आपको एक रुमेटोलॉजिस्ट (एक डॉक्टर जो गठिया के इलाज में माहिर है) के पास भेजा जा सकता है। अन्य अवस्थाओं का पता लगाने के लिये रक्त परीक्षण करने पड़ सकतें है, जैसे कि गठिया रोग और प्रभावित जोड़ों का एक्स-रे लिया जा सकता है।

त्वचा रोग का इलाज

त्वचा रोग का कोई इलाज नहीं है, लेकिन उपचार से लक्षणों और त्वचा के धब्बा की उपस्थिति में सुधार कर सकते हैं।

अधिकतर मामलों में, पहले उपयोग किया जाने वाला उपचार एक सामयिक उपचार होगा, जैसे कि विटामिन डी एनालॉग्स या सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड। सामयिक उपचार में क्रीम और त्वचा पर लगाये जाने वाले मलहम हैं।

यदि ये प्रभावी नहीं हैं, या आपकी स्थिति अधिक गंभीर है, तो फ़ोटोथेरेपी नामक उपचार का उपयोग किया जा सकता है। फ़ोटोथेरेपी में आपकी त्वचा को कुछ निश्चित प्रकार के पराबैंगनी प्रकाश के सामने लाया जाना शामिल है।

गंभीर मामलों में, जहाँ उपरोक्त उपचार अप्रभावी हैं, प्रणालीगत उपचार का उपयोग किया जा सकता है। ये खाने या इंजेक्शन वाली दवाएँ हैं जो पूरे शरीर में काम करती हैं।

त्वचा रोग के साथ रहना

हालाँकि त्वचा रोग से कुछ लोगों को सिर्फ थोड़ी जलन महसूस होती है,लेकिन यह अधिक गंभीर रूप से प्रभावित लोगों के जीवन जीने की गुणवत्ता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है।

उदाहरण के लिए, त्वचा रोग से पीड़ित कुछ लोगों में कम आत्मसम्मान पाया जाता है क्योंकि उनके भेष पर इसका प्रभाव पड़ता है। जोड़ों और जोड़ने वाले ऊतक में नरमपन, दर्द और सूजन भी काफी आम है। इसे त्वचा रोग गठिया के नाम से जाना जाता है।

अगर आपको त्वचा रोग है या अपनी शारीरिक और मानसिक भलाई की चिंता है तो अपने डॉक्टर या स्वास्थ्य देखभाल टीम से बात करें। वो आपको सलाह और यदि आवश्यक हुआ तो आगे के उपचार दे सकते हैं। त्वचा रोग से पीड़ित लोगों के लिए सहायता समूह भी हैं, जैसे कि त्वचा रोग एसोसिएशन, जहाँ आप अन्य लोगों से इस अवस्था के बारे में बात कर सकते हैं।

लक्षण

Try checking your symptoms with our AI-powered symptom checker.

त्वचा रोग के अधिकांश मामले एक चक्र से गुज़रते हैं, जिससे समस्या खत्म या कम होने से पहले कुछ सप्ताह या महीनों के लिए बढ़ जाती है।

त्वचा रोग के कई अलग-अलग प्रकार हैं। कई लोगों को एक समय में त्वचा रोग का केवल एक ही रूप होता है, हालाँकि दो अलग-अलग प्रकार एक साथ हो सकते हैं। एक प्रकार, दूसरे प्रकार में बदल सकता है या अधिक गंभीर हो सकता है।

अगर आपको लगता है कि आपको त्वचा रोग है तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

त्वचा रोग के आम प्रकार

प्लाक त्वचा रोग

यह सबसे सामान्य प्रकार है, जो लगभग 90% मामलों में होता है। इसके लक्षण में शुष्क, लाल त्वचा में घाव होना है, जिन्हें प्लाक के रूप में जाना जाता है, जो सफ़ेद पपड़ी से ढके होते हैं। ये आम तौर पर आपकी कोहनी, घुटने, खोपड़ी और पीठ के निचले हिस्से में दिखाई देते हैं लेकिन आपके शरीर पर कहीं भी दिखाई दे सकते हैं। प्लाक्स की वजह से खुजली, सूजन या दोनों हो सकते हैं। गंभीर मामलों में, आपके जोड़ों के आसपास की त्वचा में दरार और खून आ सकता है।

खोपड़ी त्वचा रोग

यह आपकी खोपड़ी के कुछ हिस्सों पर या पूरे खोपड़ी पर हो सकता है। इससे त्वचा पर लाल धब्बे बन जाते हैं जो चमकीले-सफ़ेद पपड़ियों से ढके होतें है। कुछ लोगों को खोपड़ी त्वचा रोग से बेहद खुजली लगती है, जबकि कइयों को कोई असुविधा नहीं होती है। अधिक बिगड़ने पर बालों के झड़ने का कारण बन सकता है, हालाँकि यह आमतौर पर केवल अस्थायी होता है।

नाखून त्वचा रोग

त्वचा रोग वाले लगभग आधे लोगों में यह अवस्था नाखूनों को प्रभावित करती है। त्वचा रोग के कारण आपके नाखून छोटे डेंट या गड्ढों के रूप में विकसित हो सकते हैं, फीके पड़ सकते हैं या असामान्य रूप से बढ़ सकते हैं। अक्सर नाखून ढीले हो कर जड़ों से अलग हो सकते हैं। गंभीर मामलों में, आपके नाखून उखड़ सकते हैं।

गटेट त्वचा रोग

गटेट त्वचा रोग आपके छाती, हाथ, पैर और खोपड़ी पर छोटे (1 सेमी या 1/3 इंच से कम) के आकार के घावों का कारण बनता है। हो सकता है कि कुछ सप्ताह बाद गटेट त्वचा रोग पूरी तरह से गायब हो जाए, लेकिन कुछ लोग को आगे चल के प्लाक त्वचा रोग हो जाता है।

इस तरह के त्वचा रोग कभी-कभी स्ट्रेप्टोकोकल गले के संक्रमण के बाद होते हैं और बच्चों और किशोरों में अधिक आम हैं।

उलटा (फ्लेक्सुरल) त्वचा रोग

यह आपकी त्वचा में सिलवटों या क्रीज़ को प्रभावित करता है, जैसे बगल, कमर, नितंब के बीच और स्तनों के नीचे। इनमें से कुछ या सभी क्षेत्रों में बड़े, चिकने लाल धब्बे आ सकते हैं। उलटा त्वचा रोग घर्षण और पसीने से बदतर हो सकता है, इसलिए गर्म मौसम में विशेष रूप से परेशानी दे सकता है।

फुंसी त्वचा रोग

फुंसी त्वचा रोग एक दुर्लभ प्रकार का त्वचा रोग है जिसके कारण आपकी त्वचा पर मवाद भरे छाले (फुंसी) दिखाई देते हैं। विभिन्न प्रकार के फुंसी त्वचा रोग शरीर के विभिन्न भागों को प्रभावित करते हैं।

सामान्यीकृत फुंसी त्वचा रोग या वॉन ज़ुम्बुश त्वचा रोग

यह त्वचा के एक विस्तृत क्षेत्र पर फुंसियों का कारण बनता है, जो बहुत जल्दी विकसित होते हैं। मवाद सफ़ेद रक्त कोशिकाओं से बना होता है और यह संक्रमण का संकेत नहीं है। फुंसी चक्र में हर कुछ दिनों में या कुछ सप्ताह में फिर से दिखाई दे सकतें है। इन चक्र की शुरुआत के दौरान, वॉन ज़ुम्बुश त्वचा रोग से बुखार, ठंड लगना, वजन घटना और थकान हो सकती है।

पामोप्लांटर फुंसी त्वचा रोग

यह आपके हाथों की हथेलियों और आपके पैरों के तलवों पर दिखाई देता है। फुंसी धीरे-धीरे गोलाकार भूरे रंग के पपड़ीदार धब्बों में विकसित होते हैं, और छिल जाते हैं। फुंसी हर कुछ दिनों या सप्ताह में आ सकते हैं।

ऐक्रोपुस्टुलोसिस

इससे आपकी उंगलियों और पैर की उंगलियों पर फुंसी दिखाई देते हैं। फुंसी फिर फट जातें हैं, जो प्रभावित क्षेत्रों को लाल कर देते हैं जिससे सूजन या पपड़ियाँ बनने लगती हैं। इससे नाखून में दर्द और विकृतियाँ हो सकती हैं।

एरिथ्रोडर्मिक त्वचा रोग

एरिथ्रोडर्मिक त्वचा रोग, त्वचा रोग का ही एक दुर्लभ रूप है जो शरीर की लगभग पूरी त्वचा को प्रभावित करता है। यह तीव्र खुजली या जलन पैदा कर सकता है। एरिथ्रोडर्मिक त्वचा रोग से आपके शरीर में प्रोटीन और द्रव पदार्थ की कमी हो सकती है। इससे आगे चलकर संक्रमण, निर्जलीकरण, दिल का दौरा, अल्पताप और कुपोषण जैसी समस्याएँ हो सकती हैं।

कारण

त्वचा रोग तब होता है जब त्वचा की कोशिकायें सामान्य से अधिक जल्दी बदलने लगती हैं। ठीक-ठीक पता नहीं चल पाया है कि ऐसा क्यों होता है।

आपका शरीर आपकी त्वचा के स्तर की सबसे गहरी परत में नई कोशिकाओं का निर्माण करता है। ये त्वचा कोशिकाएँ धीरे-धीरे त्वचा की परतों को पार कर के ऊपर आकर बाहरी स्तर तक पहुंचती हैं। फिर सूखकर पपड़ी के रुप में निकल जाती हैं। इस पूरी प्रक्रिया में सामान्य रूप से लगभग तीन से चार सप्ताह लगते हैं।

त्वचा रोग से प्रभावित लोगों में, इस प्रक्रिया में केवल तीन से सात दिन लगते हैं। नतीजतन, वह कोशिकाएँ जो पूरी तरह से परिपक्व नहीं होती हैं, वे त्वचा की सतह पर लाल, परतदार, खुरदरा धब्बा का तेज़ी से निर्माण करने लगती हैं, जो कि सफ़ेद पपड़ियों से ढका होता है।

यह माना जाता है कि प्रतिरक्षा प्रणाली में समस्या आने के कारण त्वचा रोग से प्रभावित लोगों में त्वचा की कोशिकायें जल्दी बदलने लगती हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्याएँ

आपका प्रतिरक्षा प्रणाली रोग के खिलाफ आपके शरीर की रक्षा करता है और संक्रमण से लड़ने में सहायता करता है। प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा उपयोग किए जाने वाले मुख्य प्रकारों में से एक को टी-सेल कहा जाता है।

टी-सेल आमतौर पर संक्रमण जैसी चीजों का पता लगाने और लड़ने के लिए शरीर की यात्रा करती हैं, लेकिन त्वचा रोग से प्रभावित लोगों में वे गलती से स्वस्थ त्वचा कोशिकाओं पर हमला करना शुरू कर देती हैं। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को सामान्य से अधिक तेज़ी से नई त्वचा कोशिकाओं और साथ ही साथ अधिक टी-सेल बनाने का कारण बनता है।

यह ज्ञात नहीं है कि प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ वास्तव में इस समस्या का कारण क्या है, हालाँकि कुछ जीन और पर्यावरण कारण की भूमिका हो सकती है।

जेनेटिक्स

त्वचा रोग खानदानी हो सकता है। त्वचा रोग से प्रभावित तीन में से एक व्यक्ति के करीबी रिश्तेदार को यह अवस्था होती है।

हालाँकि, त्वचा रोग होने में आनुवांशिकी की सटीक भूमिका स्पष्ट नहीं है। शोध अध्ययनों से पता चला है कि कई अलग-अलग जीन त्वचा रोग के विकास से जुड़े हैं। यह संभावना है कि जीन के विभिन्न संयोजन लोगों को इस अवस्था के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकते हैं। हालाँकि, इन जीन के होने का मतलब यह नहीं है कि आपको यह अवस्था होगी ही।

त्वचा रोग के कारण

कई लोगों में त्वचा रोग लक्षण एक निश्चित घटना के कारण शुरू या बदतर हो जाते हैं, जिसे कारण के रूप में जाना जाता है। अपने कारणों को जानने से आपको फ्लेयर-अप से बचने में सहायता मिल सकती है। सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • आपकी त्वचा पर कोई चोट, जैसे कोई कटे का निशान, खुरचन, कीड़े के काटने या सनबर्न (इसे कोएब्नर रेसपॉन्स के नाम से जाना जाता है)
  • अत्याधिक मात्रा में शराब पीना
  • धूम्रपान
  • तनाव
  • हार्मोनल परिवर्तन, विशेष रूप से महिलाओं में (उदाहरण के लिए यौवन और रजोनिवृत्ति के दौरान)
  • कुछ दवाइयाँ जैसे कि लिथियम, कुछ एंटीमाइरियल दवाएँ, सूजन-रोधी दवाएँ जिनमें इबुप्रोफेन, एसीई इनहिबिटर (उच्च रक्तचाप का इलाज किया जाता है) और बीटा ब्लॉकर्स (कंजेस्टिव हृद्पात का इलाज किया जाता है)
  • गले में संक्रमण - कुछ लोगों में, आमतौर पर बच्चों और युवा वयस्कों में, त्वचा रोग का एक रूप जिसे गटेट त्वचा रोग कहा जाता है (जो छोटे गुलाबी धब्बा का कारण बनता है, अक्सर बहुत अधिक परत के बिना) एक स्ट्रेप्टोकोकल गले के संक्रमण के बाद विकसित होता है, हालाँकि अधिकतर लोग जिनके स्ट्रेप्टोकोकल गले में संक्रमण होता है, उन्हें त्वचा रोग नहीं होता।
  • अन्य प्रतिरक्षा प्रणाली, जैसे एचआईवी, जो त्वचा रोग को बढ़ाता या पहली बार दिखने का कारण बनता है।

त्वचा रोग संक्रामक नहीं है इसलिए यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैल सकता है।

निदान

आमतौर पर, आपके डॉक्टर आपकी त्वचा को देखने के आधार पर त्वचा रोग का निदान करेंगे।

दुर्लभ मामलों में, त्वचा का एक छोटा सा नमूना, जिसे बायोप्सी कहा जाता है, को माइक्रोस्कोप के तहत जाँच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाएगा। इससे सटीक प्रकार की त्वचा रोग का पता चलता है और त्वचा के अन्य विकारों, जैसे कि सेबोरहिक डर्मेटाइटिस, लिचेन प्लेनस, लिचेन सिम्प्लेक्स और पाइराइटिस रोजिया को खारिज किया जाता है।

यदि आपके डॉक्टर आपके निदान के बारे में अनिश्चित है, या यदि आपकी स्थिति गंभीर है, तो आपको त्वचा विशेषज्ञ (त्वचा की स्थिति का पता लगाने और उपचार करने में विशेषज्ञ) के पास भेजा जा सकता है।

यदि आपके डॉक्टर को संदेह है कि आपको त्वचा रोग गठिया है, जो कभी-कभी त्वचा रोग की एक जटिलता होती है, तो आपको एक रुमेटोलॉजिस्ट (एक डॉक्टर जो गठिया के इलाज में विशेषज्ञ है) के पास भेजा जा सकता है। रुमेटोलॉजिस्ट डॉक्टर वह होते हैं जो गठिया रोग के विशेषज्ञ हैं। आपको अन्य अवस्थाओं से निपटने के लिए रक्त परीक्षण करवाना पड़ सकता है, जैसे कि गठिया रोग और प्रभावित जोड़ों का एक्स-रे लिया जा सकता है।

त्वचा गठिया रोग के बारे में अधिक जानकारी के लिए त्वचा रोग के साथ रहना देखें।

उपचार

उपचार अवलोकन

उपचार आपके त्वचा रोग के प्रकार और गंभीरता और प्रभावित त्वचा के क्षेत्र से निर्धारित होते हैं। आपके डॉक्टर संभवतः शुरुआत एक हल्के उपचार से करेंगे, जैसे सामयिक क्रीम (जो त्वचा पर लगायी जाती हैं), और फिर यदि आवश्यक हो तो कठोर उपचार करेंगे।

त्वचा रोग के लिए उपचार की एक विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध है, लेकिन यह पहचानना कि कौन सा उपचार सबसे प्रभावी है, मुश्किल हो सकता है। यदि आपको लगता है कि कोई उपचार काम नहीं कर रहा है या आपको असुविधाजनक दुष्प्रभाव हो रहा है तो अपने चिकित्सक से बात करें।

उपचार तीन श्रेणियों में आती है:

  • सामयिक - क्रीम और मलहम जो आपकी त्वचा पर लगाया जाता है।
  • फ़ोटोथेरेपी - आपकी त्वचा को कुछ प्रकार के पराबैंगनी प्रकाश के सामने लाया जाता है
  • प्रणालीगत – मौखिक और इंजेक्शन वाली दवाएँ जो पूरे शरीर में काम करती हैं

अक्सर, संयोजन में विभिन्न प्रकार के उपचार का उपयोग किया जाता है।

त्वचा रोग के लिए आपके उपचार की नियमित रूप से समीक्षा करने की आवश्यकता हो सकती है। आप एक देखभाल योजना (आपके और आपके स्वास्थ्य पेशेवर के बीच एक सहमति पत्र) बनाना चाहेंगे क्योंकि इससे आपको अपने दिन-प्रतिदिन के स्वास्थ्य का प्रबंधन करने में सहायता मिल सकती है।

सामयिक उपचार

सामयिक उपचार आमतौर पर हल्के से मध्यम त्वचा रोग के लिए उपयोग किए जाने वाले पहले उपचार हैं। ये वो क्रीम और मलहम हैं जो आप प्रभावित क्षेत्रों पर लगाते हैं। कुछ लोगों को अपनी स्थिति को नियंत्रित करने के लिए बस इनकी ही आवश्यकता होती है।

यदि आपको खोपड़ी त्वचा रोग है, तो शैम्पू और मलहम के संयोजन की सलाह दी जा सकती है।

सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड

सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड आमतौर पर शरीर के अधिकांश क्षेत्रों में हल्के से मध्यम त्वचा रोग के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। उपचार सूजन को कम करने के काम में आता है। यह त्वचा कोशिकाओं के बनने को धीमा करता है और खुजली के लक्षणों को कम करता है।

सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स हल्के से बहुत कठोर तक की सीमा में होते हैं। केवल अपने चिकित्सक द्वारा अनुशंसित होने पर सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड का उपयोग करें। मजबूत सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड आपके डॉक्टर द्वारा निर्धारित किए जा सकते हैं और इसका उपयोग केवल त्वचा के छोटे क्षेत्रों पर या विशेष रूप से मोटे धब्बों पर किया जाना चाहिए। सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के अति प्रयोग से त्वचा में पतलापन आ सकता है।

विटामिन डी एनालॉग

विटामिन डी एनालॉग क्रीम आमतौर पर हल्के से मध्यम त्वचा रोग प्रभावित क्षेत्रों जैसे अंगों, धड़ या खोपड़ी पर सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड के साथ या इसके बजाय उपयोग किया जाता है। वे त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन को धीमा करने का काम करते हैं। इनमें गैर-सूजन प्रभाव भी होता है।

विटामिन डी एनालॉग्स के प्रकारों में कैल्सिपोट्रिऑल, कैल्सिट्रिऑल और टकैल्सिटिऑल शामिल हैं। इसके बहुत कम दुष्प्रभाव तब तक हैं, जब तक आप बतायी गयी मात्रा से अधिक उपयोग नहीं करते हैं।

कैलीन्यूरिन अवरोधक

कैलीन्यूरिन अवरोधक, जैसे टैक्रोलिमस और पिमेक्रोलिमस, ऐसी दवाएँ हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली की गतिविधि को कम करती हैं और सूजन को कम करने में सहायता करती हैं। यदि सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड अप्रभावी हैं तो कभी-कभी संवेदनशील क्षेत्रों (जैसे खोपड़ी, जननांगों और त्वचा में सिलवटों) को प्रभावित करने वाले त्वचा रोग का इलाज करने के लिए उनका उपयोग किया जाता है।

ये दवाएँ शुरू होने पर त्वचा में उत्तेजन या जलन और खुजली का कारण बन सकती हैं, लेकिन आमतौर पर एक सप्ताह के भीतर इसमें सुधार होगा।

तारकोल

तारकोल एक मोटा, भारी तेल है और संभवतः त्वचा रोग के लिए सबसे पुराना इलाज है। यह बिल्कुल ज्ञात नहीं है कि यह कैसे काम करता है, लेकिन यह पपड़ियों, सूजन और खुजली को कम कर सकता है। यदि अन्य सामयिक उपचार अप्रभावी हैं तो इसका उपयोग अंगों, धड़ या खोपड़ी को प्रभावित करने वाले त्वचा रोग के इलाज के लिए किया जा सकता है।

तारकोल कपड़े और बिस्तर को गंदा कर सकता है और एक मज़बूत गंध है। इसका उपयोग फ़ोटोथेरेपी के साथ संयोजन में किया जा सकता है (नीचे देखें)।

डिथ्रैनोल

त्वचा रोग के इलाज के लिए डिथ्रैनोल का उपयोग 50 से अधिक वर्षों से किया जा रहा है। यह त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन को दबाने में प्रभावी देखा गया है और इसके कुछ दुष्प्रभाव हैं। हालाँकि, अगर बहुत अधिक गाढ़ा हो तो जलन अधिक हो सकती है।

यह आमतौर पर अस्पताल के पर्यवेक्षण के तहत अंगों या धड़ को प्रभावित करने वाले त्वचा रोग के लिए एक अल्पकालिक उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है क्योंकि यह त्वचा, कपड़े और बाथरूम फिटिंग सहित संपर्क में आने वाले सभी चीजों पर दाग छोड़ता है। यह त्वचा पर लगाया जाता है (दस्ताने पहनकर) और 10 से 60 मिनट के लिए छोड़ने के बाद धोया जाता है।

डिथ्रैनोल का उपयोग फ़ोटोथेरेपी (नीचे देखें) के साथ संयोजन में किया जा सकता है।

फ़ोटोथेरेपी

त्वचा रोग के इलाज के लिए फ़ोटोथेरेपी प्राकृतिक और कृत्रिम प्रकाश का उपयोग करती है। कृत्रिम प्रकाश चिकित्सा अस्पतालों और कुछ विशेषज्ञ केंद्रों में आमतौर पर त्वचा विशेषज्ञ की देखरेख में दी जा सकती है। ये उपचार एक सनबेड का उपयोग करने के समान नहीं हैं।

यूवीबी फ़ोटोथेरेपी

पराबैंगनी बी (यूवीबी) फ़ोटोथेरेपी मानव आँखों के लिए अदृश्य प्रकाश की एक तरंग दैर्ध्य का उपयोग करता है। प्रकाश त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन को धीमा कर देता है और जो सामयिक उपचार प्रभावी नहीं रहे हैं, उन त्वचा रोगों के लिए एक प्रभावी उपचार है। प्रत्येक सत्र में केवल कुछ मिनट लगते हैं, लेकिन आपको सप्ताह में दो या तीन बार, छह से आठ सप्ताह के लिए अस्पताल जाने की आवश्यकता हो सकती है।

सोरेलेन प्लस पराबैंगनी ए (पीयूवीए)

इस उपचार के लिए, आपको सबसे पहले एक गोली दी जाएगी जिसमें सोरेलेन नामक कंपाउंड है या सीधे त्वचा पर लगाने के लिए सोरेलेन दी जा सकती है। यह आपकी त्वचा को प्रकाश के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। आपकी त्वचा तब पराबैंगनी ए (यूवीए) नामक प्रकाश की तरंग दैर्ध्य के संपर्क में लायी जाती है। यह प्रकाश पराबैंगनी बी प्रकाश की तुलना में आपकी त्वचा में अधिक गहराई से प्रवेश करता है।

यदि आपको गंभीर त्वचा रोग है और अन्य उपचार का लाभ नहीं हुआ है, तो इस उपचार का उपयोग किया जा सकता है। उपचार के दुष्प्रभावों में मतली, सिरदर्द, जलन और खुजली शामिल हैं। मोतियाबिंद के विकास को रोकने के लिए गोली लेने के बाद आपको 24 घंटे के लिए विशेष चश्मा पहनने की आवश्यकता हो सकती है। इस उपचार के लंबे समय तक उपयोग को प्रोत्साहित नहीं किया जाता है क्योंकि यह त्वचा कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकता है।

संयोजन प्रकाश उपचार

अन्य उपचारों के साथ फ़ोटोथेरेपी के संयोजन से अक्सर इसकी प्रभावशीलता बढ़ जाती है। कुछ डॉक्टर तारकोल के साथ संयोजन में यूवीबी फ़ोटोथेरेपी का उपयोग करते हैं, क्योंकि तारकोल त्वचा को प्रकाश के लिए अधिक ग्रहणशील बनाता है। डिथ्रैनोल क्रीम के साथ यूवीबी फ़ोटोथेरेपी का संयोजन भी प्रभावी हो सकता है (इसे इनग्राम उपचार के रूप में जाना जाता है)

प्रणालीगत उपचार

यदि आपका त्वचा रोग गंभीर है या अन्य उपचारों ने काम नहीं किया है, तो आपको एक विशेषज्ञ द्वारा प्रणालीगत उपचार दिया जा सकता है। प्रणालीगत उपचार ऐसे उपचार हैं जो पूरे शरीर में काम करते हैं।

ये दवाएँ त्वचा रोग के इलाज में बहुत प्रभावी हो सकती हैं, लेकिन इन सभी के संभावित गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं। त्वचा रोग के लिए सभी प्रणालीगत उपचारों के अपने-अपने लाभ और जोखिम हैं। उपचार शुरू करने से पहले, अपने चिकित्सक से अपने उपचार विकल्पों और उनसे जुड़े किसी भी जोखिम के बारे में बात कर लें।

दो मुख्य प्रकार के प्रणालीगत उपचार हैं, जिन्हें गैर-जैविक कहा जाता है (आमतौर पर गोली या कैप्सूल के रूप में दिया जाता है) और जैविक (आमतौर पर इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है)। इन्हें नीचे और अधिक विस्तार में वर्णित किया गया है।

गैर जैविक दवाइयाँ

मेथोट्रेक्सेट

मेथोट्रेक्सेट त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन को धीमा करके और सूजन को दबाकर त्वचा रोग को नियंत्रित करने में सहायता कर सकता है। यह आमतौर पर सप्ताह में एक बार लिया जाता है।

मेथोट्रेक्सेट मतली का कारण बन सकता है और रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को प्रभावित कर सकता है। लंबे समय तक उपयोग से जिगर खराब हो सकता है। जिन लोगों को जिगर की बीमारी है, उन्हें मेथोट्रेक्सेट नहीं लेना चाहिए और इसे लेते समय आपको शराब नहीं पीनी चाहिए।

मेथोट्रेक्सेट पेट में बढ़ने वाले शिशु के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि इस दवा को लेते समय महिलाएँ गर्भनिरोधक का उपयोग करें और और रुकने के तीन महीने बाद तक गर्भवती न हों। मेथोट्रेक्सेट शुक्राणु कोशिकाओं के विकास को भी प्रभावित कर सकता है, इसलिए पुरुषों को इलाज के दौरान और बाद में तीन सप्ताह तक एक बच्चे के लिए प्रयास नहीं करना चाहिए।

सिक्लोस्पोरिन

सिक्लोस्पोरिन एक दवा है जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यूनोसप्रेसेन्ट) को दबा देती है। यह मूल रूप से प्रत्यारोपण अस्वीकृति को रोकने के लिए उपयोग किया गया था, लेकिन सभी प्रकार के त्वचा रोग के इलाज में प्रभावी साबित हुआ है। यह आमतौर पर प्रतिदिन लिया जाता है।

सिक्लोस्पोरिन आपके गुर्दे की बीमारी और उच्च रक्तचाप की संभावना को बढ़ाता है, जिसकी देखरेख करने की आवश्यकता होगी।

एसिट्रेटिन

एसिट्रेटिन एक मौखिक रेटिनॉइड है जो त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन को कम करता है। इसका उपयोग गंभीर त्वचा रोग के इलाज के लिए किया जाता है जब अन्य गैर-जैविक प्रणालीगत उपचार सफल नहीं होते हैं। यह आमतौर पर प्रतिदिन लिया जाता है।

एसिट्रेटिन के दुष्प्रभाव की एक विस्तृत श्रृंखला है, जिसमें होंठों का सूखना और टूटना, नाक के मार्ग का सूखापन और, दुर्लभ मामलों में, हेपेटाइटिस शामिल हैं।

एसिट्रेटिन पेट में बढ़ने वाले शिशु के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि इस दवा को लेते समय महिलाएँ गर्भनिरोधक का उपयोग करें और और रुकने के दो वर्ष बाद तक गर्भवती न हों। हालाँकि, एसिट्रेटिन लेने वाले पुरुष का पिता बनना सुरक्षित है।

जैविक उपचार

जैविक उपचार प्रतिरक्षा प्रणाली में अति सक्रिय कोशिकाओं को लक्षित करके सूजन को कम करते हैं। यदि आपको गंभीर त्वचा रोग है या अन्य उपचारों का लाभ नहीं हुआ है, या यदि आप अन्य उपचारों का उपयोग नहीं कर सकते हैं, तो इन उपचारों का उपयोग आमतौर पर किया जाता है।

एटानेर्सेप्ट

एटानेर्सेप्ट को सप्ताह में दो बार इंजेक्ट किया जाता है और आपको दिखाया जाएगा कि इसे कैसे करते है। यदि 12 सप्ताह के बाद आपके त्वचा रोग में कोई सुधार नहीं होता है, तो उपचार बंद कर दिया जाएगा।

एटानेर्सेप्ट का मुख्य दुष्प्रभाव एक लाल धब्बा है जो इंजेक्शन देने के बाद आता है। चूँकि, एटानेर्सेप्ट पूरे प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है, इसलिए गंभीर संक्रमण सहित गंभीर दुष्प्रभावों का खतरा है। यदि आपको पहले कभी तपेदिक था, तो उसके वापस लौट आने का जोखिम है। आपके उपचार के दौरान दुष्प्रभावों के लिए आपको देखरेख में रखा जायेगा।

अडालीमुमाब

अडालीमुमाब को हर दो सप्ताह में एक बार इंजेकट किया जाता है और आपको दिखाया जाएगा कि यह कैसे करना है। यदि 16 सप्ताह के बाद आपके त्वचा रोग में कोई सुधार नहीं होता है, तो उपचार बंद कर दिया जाएगा।

अडालीमुमाब पेट में बढ़ने वाले शिशु के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि इस दवा को लेते समय महिलाएँ गर्भनिरोधक का उपयोग करें और और रुकने के पाँच महीने बाद तक गर्भवती न हों।

अडालीमुमाब के मुख्य दुष्प्रभावों में सिरदर्द, इंजेक्शन स्थल पर चकत्ते के निशान और मतली आना शामिल हैं। चूँकि, अडालीमुमाब पूरे प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है, इससे गंभीर संक्रमण सहित गंभीर दुष्प्रभावों का खतरा होता है। आपके उपचार के दौरान दुष्प्रभावों के लिए आपको देखरेख में रखा जायेगा।

इन्फ्लिक्सीमाब

इन्फ्लिक्सीमाब को अस्पताल में आपकी नस में ड्रिप (जलसेक) के रूप में दिया जाता है। पहले छह सप्ताह में आपको तीन ड्रिप दिये जायेंगे, फिर प्रत्येक आठ सप्ताह में एक ड्रिप दिया जायेगा। यदि 10 सप्ताह के बाद आपकी त्वचा रोग में कोई सुधार नहीं होता है, तो उपचार रोक दिया जाएगा।

इन्फ्लिक्सीमाब का मुख्य दुष्प्रभाव सिरदर्द है। चूँकि, इन्फ्लिक्सिमाब पूरे प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है, इससे गंभीर संक्रमण सहित गंभीर दुष्प्रभावों का खतरा होता है। आपके उपचार के दौरान दुष्प्रभावों के लिए आपको देखरेख में रखा जायेगा।

उस्टेकिनुमाब

उस्टेकिनुमाब को उपचार की शुरुआत में और फिर चार सप्ताह बाद फिर से ईंजेक्ट किया जाता है। इसके बाद, हर 12 सप्ताह तक इंजेक्शन दिया जाता है। यदि 16 सप्ताह के बाद आपके त्वचा रोग में कोई सुधार नहीं होता है, तो उपचार बंद कर दिया जाएगा।

उस्टेकिनुमाब के मुख्य दुष्प्रभाव गले का संक्रमण और इंजेक्शन के स्थल पर दाने आना है। चूँकि, उस्टेकिनुमाब पूरे प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है, इसलिए गंभीर संक्रमण सहित गंभीर दुष्प्रभावों का खतरा है। आपके उपचार के दौरान दुष्प्रभावों के लिए आपको देखरेख में रखा जायेगा।

असली कहानियाँ

69 वर्ष के रे, पिछले 33 वर्षों से त्वचा रोग एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। वह 14 वर्ष की उम्र से त्वचा रोग से प्रभावित थे और तारकोल दवा के साथ इसका इलाज जारी रखतें हैं।

1955 था और मैं 14 वर्षीय स्कूली छात्र था, जब मेरी त्वचा रोग अचानक सामने आई। मुझे पता नहीं था कि ये क्या था और मेरे परिवार में किसी को इसका कोई अनुभव नहीं था। सबने कहा कि ये चला जाएगा।

लगभग तीन सप्ताह के भीतर इसका फैलना शुरू हो गया था। यह गुटेट त्वचा रोग था, इसलिए मुझे बारिश की छोटी बूँदों के आकार के लाल धब्बे थे जो थोड़े उभरे हुये थे। जल्दी ही यह प्लाक त्वचा रोग में बदल गया, और धब्बे बड़े होने लगे। तब तक, यह गहराई से बढ़ने लगा था।

यह उन अवस्थाओं में से थी जिनके बारे में कोई भी ज़्यादा नहीं जानता था। डॉक्टरों ने कहा कि मुझे अब इसके साथ रहना सीखना होगा।

मुझे अंततः एक सामान्य जिला अस्पताल में भेजा गया, जहाँ तारकोल स्नान और मलहम के साथ मेरा इलाज किया गया। उन दिनों यह बहुत भयानक माना जाता था। इसकी गंध शक्तिशाली थी और बहुत दाग देता था। मेरी माँ ने इलाज में सहायता की और कपड़े धोने का काम किया। मेरे खुद के कपड़े और सोने के कपड़े थे।

त्वचा रोग आता-जाता रहा लेकिन इसकी मौजूदगी हमेशा बनी रही। मरहम और शैंपू की वजह से मुझसे एक नई बनी पक्की सड़क की गंध आती थीं, और जब बारिश होती थी तो मेरे बालों से ये अजीब गंध आती रहती थी।

त्वचा रोग मेरे शरीर और हाथों पर था लेकिन मेरे चेहरे पर नहीं था, और मैं अपने बालों को एक निश्चित तरीके से कंघी करके अपने सिर को सही रख सकता था, लेकिन लोगों को हमेशा लगता था कि मुझे रूसी है। त्वचा रोग सूर्य प्रकाश में बेहतर था, इसलिए मेरी अवस्था गर्मियों में बेहतर थी, लेकिन यह हमेशा लौट के आता रहा।

इसलिए मैं अस्पताल जाकर अपने त्वचा रोग का इलाज पराबैंगनी प्रकाश से करवाने लगा, जिसने मुझे सर्दीयों का टैन दिया। यह उन दिनों एक असामान्य अवस्था थी, क्योंकि हम एक साधारण परिवार थे और समुद्र तटों या स्की रिसॉर्ट जाना हमारे लिए मुमकिन नहीं था। मेरे साथ लोगों द्वारा वास्तव में नस्लीय दुर्व्यवहार हुआ, जो सोचते थे कि मैं भारतीय या माल्टीज़ हूँ।

जब मैं 16 वर्ष का था, तो मैं नौसेना में शामिल होना चाहता था। प्रतिस्पर्धा के कुछ महीनों के बाद मैं अंतिम चरण में पहुँचने में कामयाब रहा, जो एक चिकित्सा परीक्षा थी। लेकिन मुझे अस्वीकार कर दिया गया। मुझे बताया गया था कि मुझे एक आजीवन बीमारी थी जो सेवा की शर्तों के लिए अनुपयुक्त थी। मुझे पूरी तरह से पुनर्विचार करना था कि मैं क्या कर रहा हूँ।

1960 में, स्टेरॉयड दवाएँ आईं। मैं स्टेरॉइड्स लगाता और फिर एक अपारदर्शी पॉलीथिन सूट पहनता, जिससे मेरा धड़, हाथ और पैर ढके रहते। मुझे नीचे पसीना आता रहता और मुझसे बुरी गंध आती थी, ये एक ऐसा एक अनुभव जो मैं अपने सबसे बड़े दुश्मन के लिये भी नहीं चाहता था, भले ही यह उस समय एक बड़ा आविष्कार था।

मेरी त्वचा रोग अब भी कभी भी भड़क उठती है। ठीक एक वर्ष पहले, यह बेतहाशा बढ़ गयी। मेरे पैरों में सूजन थी और मैं बहुत बुरी हालत में था, इसलिए डॉक्टरों ने कहा कि मुझे अस्पताल जाना पड़ सकता है। मैंने सिक्लोस्पोरिन लिया, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा देता है। इसने मुझे वापस अपने सामान्य त्वचा रोग अवस्था में ला दिया।

अब मैं प्रभावित क्षेत्रों पर दिन में दो बार हल्का तारकोल लगाता हूँ। यह ठीक है और इसकी गंध बहुत खराब नहीं है जितना कि पहले हुआ करती थी। मेरी पत्नी, जिससे मैं 1965 से विवाहित हूँ, ने मुझे हमारी शादी के लगभग हर दिन सहायता की है। मुझे उपचार शुरू करने और 9 बजे की मीटिंग्स के लिए पर्याप्त समय देने के लिए अतिरिक्त जल्दी उठना पड़ता है, और मेरी पत्नी मेरे साथ उठती है।

मैं कल्पना करता हूँ कि ऐसे सैकड़ों हजारों लोग हैं, जिन्हें इस नियम से गुज़रना पड़ता है।

त्वचा रोग के साथ रहना

हालाँकि त्वचा रोग से कुछ लोगों को बस थोड़ी जलन होती है, लेकिन इस अवस्था का आपके जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

यदि आपको त्वचा रोग है, तो आपको निम्नलिखित सलाह सहायक हो सकती है।

स्वयं की देखभाल

आत्म देखभाल आपके दैनिक जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। इसमें आपके स्वयं के स्वास्थ्य की ज़िम्मेदारी लेना और आपकी देखभाल में शामिल लोगों के समर्थन के साथ भलाई शामिल है। आत्म देखभाल में स्वस्थ रहना और अच्छे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखना, बीमारी या दुर्घटनाओं को रोकना और छोटी बीमारियों और दीर्घकालिक स्थितियों के लिए अधिक प्रभावी ढंग से देखभाल करना शामिल है।

दीर्घकालिक स्थितियों वाले लोग स्वयं की देखभाल से काफी लाभ उठा सकते हैं। वे लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं, कम दर्द, चिंता, अवसाद और थकान, जीवन की बेहतर गुणवत्ता और अधिक सक्रिय और स्वतंत्र हो सकते हैं। एक देखभाल योजना होने से आपको अपने उपचार का प्रबंधन करने में सहायता मिलेगी ताकि यह आपकी जीवनशैली के अनुकूल हो।

अपना इलाज जारी रखें

आपके उपचार को बताये गये अनुसार करना महत्वपूर्ण है, भले ही आपके त्वचा रोग में सुधार आ रहा हो। निरंतर उपचार भड़कने को रोकने में सहायता कर सकता है। यदि आपको उपचार या किसी भी दुष्प्रभाव के बारे में कोई प्रश्न या चिंता है, तो अपने डॉक्टर या स्वास्थ्य सेवा दल से बात करें।

नियमित समीक्षा

क्योंकि त्वचा रोग आमतौर पर एक दीर्घकालिक स्थिति है, आप अपनी स्वास्थ्य सेवा टीम के साथ नियमित संपर्क में रह सकते हैं। अपने लक्षणों या चिंताओं पर उनके साथ बात करें, जितना अधिक टीम को पता रहेगा, उतना ही वे आपकी सहायता कर सकते हैं।

स्वस्थ भोजन और व्यायाम

त्वचा रोग से पीड़ित लोगों में मधुमेह और हृदय रोग विकसित होने का थोड़ा अधिक जोखिम होता है, हालाँकि यह ज्ञात नहीं है कि ऐसा क्यूँ होता है। नियमित व्यायाम और स्वस्थ आहार की सलाह सभी को दी जाती है, न कि केवल त्वचा रोग से पीड़ित लोगों को, क्योंकि इनसे कई स्थितियों को रोकने में सहायता मिल सकती है।

स्वस्थ, संतुलित आहार खाने और नियमित रूप से व्यायाम करने से भी तनाव से छुटकारा पाया जा सकता है, जो आपके त्वचा रोग को बेहतर बनाने में सहायता कर सकता है।

त्वचा रोग के भावनात्मक प्रभाव

त्वचा रोग के शारीरिक प्रभाव पर पड़ने वाले अप्रिय प्रभावों के कारण, कम आत्मसम्मान और चिंता की स्थिति प्रभावित लोगों में आम है। इससे अवसाद हो सकता है, खासकर अगर त्वचा रोग खराब हो जाए।

आपके डॉक्टर या त्वचा विशेषज्ञ त्वचा रोग के मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक प्रभाव को समझेंगे, इसलिए उनसे अपनी चिंताओं या चिंताओं के बारे में बात करें। यदि आवश्यक हो, तो वे उपलब्ध उपचार के विभिन्न विकल्पों पर बात कर सकते हैं।

त्वचा रोग गठिया

त्वचा रोग वाले 10% से 20% लोगों में त्वचा रोग गठिया विकसित होता है। इससे जोड़ों और संयोजी ऊतक में नरमपन, दर्द और सूजन होती है, साथ ही जकड़न भी होती है। यह आमतौर पर हाथ और पैर की उंगलियों के अंतिम सिरों को प्रभावित करता है। कुछ लोगों में, यह पीठ के निचले हिस्से, गर्दन और घुटनों को प्रभावित करता है। त्वचा रोग की शुरुआत के बाद अधिकतर लोग त्वचा रोग गठिया विकसित करते हैं, लेकिन लगभग 20% इसे त्वचा रोग के निदान से पहले विकसित करते हैं।

त्वचा रोग गठिया के लिए कोई एकल परीक्षण नहीं है। इसे आम तौर पर तरीकों के संयोजन का उपयोग करके निदान किया जाता है, जिसमें आपके चिकित्सा इतिहास, शारीरिक परीक्षा, रक्त परीक्षण, एक्स-रे और एमआरआई स्कैन को देखना शामिल है। यदि आपको त्वचा रोग है, तो आपको आमतौर पर त्वचा रोग गठिया के लक्षण देखने के लिए एक वार्षिक मूल्यांकन लेना होगा।

यदि आपके डॉक्टर को संदेह है कि आपको त्वचा रोग गठिया है, तो आपको आमतौर पर रुमेटोलॉजिस्ट नामक एक विशेषज्ञ के पास भेजा जाएगा, ताकि आपका सूजन-रोधी या गठिया-रोधी दवाओं के साथ इलाज किया जा सके।

गर्भावस्था

त्वचा रोग प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करता है और त्वचा रोग के साथ भी महिलाओं में एक सामान्य गर्भावस्था और एक स्वस्थ बच्चा हो सकता है। कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान उनके त्वचा रोग में सुधार होता है, लेकिन कइयों के लिए यह बदतर हो जाता है।

अगर आप बच्चा करने के बारे में सोच रहे हैं तो अपनी स्वास्थ्य टीम से बात करें। त्वचा रोग के लिए कुछ उपचार पेट में बढ़ने वाले शिशु के लिए हानिकारक हो सकते हैं, इसलिए उन्हें लेते समय गर्भनिरोधक का उपयोग करें। यह दवा के आधार पर, पुरुषों और महिलाओं दोनों पर लागू हो सकता है। आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम परिवार के लिए कोशिश शुरू करने से पहले आपके त्वचा रोग को नियंत्रित करने के सर्वोत्तम तरीके सुझा सकती है।

दूसरों से बात करें

त्वचा रोग वाले कई लोगों ने पाया है कि सहायता समूहों में शामिल होने से सहायता मिलती है। सहायता समूह आपके आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हैं, अलगाव की भावनाओं को कम कर सकते हैं, और आपको स्थिति के साथ रहने के बारे में व्यावहारिक सलाह दे सकते हैं।

NHS Logo
शीर्ष पर लौटें