क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

33-36 सप्ताह की गर्भावस्था

गर्भावस्था के अंतिम चरण में आपके बच्चे का विकास

गर्भावस्था के 33 सप्ताह तक, बच्चे का मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र पूरी तरह से विकसित हो जाता है।

मस्तिष्क की हड्डियों के अलावा आपके बच्चे की सभी हड्डियाँ भी सख्त होने लगती है।

ये जन्म के बाद तक नरम और अलग अलग रहेंगे, जिससे प्रसव के दौरान जननमार्ग से आसानी से बाहर निकल सके। हड्डियों की गतिविधियाँ आराम से हो सके और वे एक दूसरे के ऊपर से भी आराम से आ जा सके ताकि सुरक्षित रूप से मस्तिष्क को बचाते हुए सिर बाहर की तरफ़ निकले।

आपका शिशु अब गर्भाशय में समाविष्ट हो गया है, और उसके पैर छाती की तरफ मुड़े होते है। वहाँ हिलने के लिए बहुत कम जगह होती है, लेकिन वह अभी भी स्थानांतरण कर सकता है, इसलिए आप अभी भी हलचल को महसूस करेंगी और उन्हें अपने उभार की सतह पर देख पाएंगी।

यदि आपका बच्चा लड़का है, तो उसका अंडकोष उसके पेट से उसकी अंडकोष की थैली में उतरने लगेगा।

36 सप्ताह तक, आपके बच्चे के फेफड़े पूरी तरह विकसित हो जाते हैं और वह जन्म के बाद अपनी पहली सांस लेने के लिए तैयार हो जाता या जाती हैं. वह अब स्तन से दूध पी पायेगा और उसका पाचन तंत्र स्तन के दूध को पचाने के लिए पूरी तरह से तैयार होगा.

गर्भावस्था के आख़िरी चरण में आपका शरीर

आपको एहसास होगा कि अब आपको अपनी गतिविधियाँ कम करनी पड़ेगी क्योंकि अतिरिक्त वजन आपको थका देता है, और आपको पीठ दर्द भी हो सकता है।

इस समय से आप अपने गर्भाशय में खिंचाव महसूस कर सकती हैं. इसे ब्रैक्सटन-हिक्स संकुचन (Braxton Hicks contractions) कहते हैं. यह गर्भावस्था में सामान्य है. आपका गर्भाशय प्रसव के दौरान हुए खिंचाव और ऐठन की तैयारी कर रहा है। अगर यह दर्दनाक और बार-बार होते हैं तो ही अपने डॉक्टर या अस्पताल से संपर्क करें.

केवल 5% बच्चे ही अपनी नियत तारीख पर जन्म लेते हैं। प्रसव शुरू होने के पहले के संकेत और प्रसव के दौरान क्या होता है इसके बारे में अधिक जानकारी ले सकते है।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।