क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

रजोनिवृत्ति के बाद रक्तस्राव या दाग पड़ना(Bleeding or spotting after the menopause)

रजोनिवृत्ति के बाद रक्तस्राव योनि से होने वाला रक्तस्राव होता है, जो आपके पीरियड रुकने के बाद कम से कम 12 महीने बाद होता है।

इस समय रक्त आना सामान्य नहीं होता, चाहे वह सिर्फ दाग पड़ना ही क्यों न हो, इसलिए इसे अनदेखा न करें। आपकी रजोनिवृत्ति के एक साल या उससे अधिक समय बीतने के बाद भी अगर आपको खून आ रहा है तो जितना जल्दी हो सके अपने डॉक्टर से मिलें।

आमतौर पर इसका कारण बहुत छोटा होता है, जैसे कि गर्भ लाइनिंग में सूजन (नीचे देखें)। संभव है कैंसर भी इसकी वजह हो, इसलिए इसकी पड़ताल कर लेनी जरूरी होती है।

रजोनिवृत्ति के बाद रक्तस्राव के सबसे संभावित कारण

रजोनिवृत्ति के बाद रक्तस्राव के कई कारण होते हैं। सबसे आम कारणों में शामिल हैं-

  • स्त्री हार्मोन का स्तर कम होने से योनि की लाइनिंग (एट्रोफिक वैजिनाइटिस) में सूजन या उसका पतला होना या गर्भ की लाइनिंग (एंडोमेट्रियल एट्रोफी) का पतला होना
  • सर्विकल या गर्भ के पॉलिप्स- आमतौर पर कैंसर रहित इस विकास से सरविक्स (गर्भ की ग्रीवा) या गर्भ को आकार मिलता है
  • हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से गर्भ की लाइनिंग (एंडोमेट्रियल हाइपरप्लासिया, endometrial hyperplasia) मोटी हो जाती है
  • सरविक्स या गर्भ की असामान्यताएं रजोनिवृत्ति पश्चात रक्तस्राव वाली 10 में से एक महिला में इसका कारण सर्विकल कैंसर या यूटरिन (गर्भ) कैंसर हो सकता है।

कारण की पहचान

आपका डॉक्टर आपको रजोनिवृत्ति पश्चात रक्तस्राव की जांच करने के लिए क्लीनिक में भेज सकता है। वहां पर आपकी समस्या के कारण की पहचान की जाएगी, कैंसर की शंका को दूर किया जाएगा और आवश्यक उपचार की योजना तैयार की जाएगी।

परीक्षण में शामिल होगा-

  • योनि का अल्ट्रासाउंड
  • एंडोमेट्रियल बायोप्सी (endometrial biopsy) (गर्भ की लाइनिंग का नमूना)
  • हिस्टीरोस्कोपी (hysteroscopy)

इन प्रक्रियाओं का वर्णन यहां पर किया गया है। कुछ डॉक्टर अल्ट्रासाउंड और बायोप्सी खुद कर लेते हैं और अगर जरूरी हुआ तो वे आपको हिस्टीरोस्कोपी (hysteroscopy) के लिए भी रेफर कर सकते हैं।

क्लीनिक में

क्लीनिक में स्पेशलिस्ट आपकी मेडिकल हिस्ट्री की जांच करेंगे और आपके लक्षणों को दर्ज किया जाएगा। इसके बाद आपको जांच के लिए स्कैन कक्ष में भेजा जाएगा।

योनि का अल्ट्रासाउंड स्कैन

योनि का अल्ट्रासाउंड योनि में एक स्कैन प्रोब (scan probe) को धीरे से प्रवेश करवाकर किया जाता है। इससे आपको थोड़ी असहजता हो सकती है। इसमें लगभग 10 मिनट का समय लगता है।

इसमें हाई फ्रीक्वेंसी वाली ध्वनि तरंगों का इस्तेमाल कर आपकी योनि और गर्भ के अंदर की तस्वीर तैयार की जाती है।

इस जांच के परिणामों की चर्चा आपके साथ की जाएगी और आपको पता चल जाएगा कि आपकी आगे और जांच की जरूरत (हिस्टीरोस्कोप, hysteroscopy) है या आपको डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

शारीरिक जांच

स्पेशलिस्ट आपकी शारीरिक जांच भी करेगा। वह योनि में मैटल का एक स्पैकुलम (speculum) प्रवेश करवाएगा, जैसे स्मीयर टेस्ट (smear test) में होता है। ज्यादातर महिलाओं को यह थोड़ा असहज महसूस हो सकता है। आपकी वुल्वा, योनि और सरविक्स की जांच सावधानीपूर्वक की जाएगी।

संक्रमण की पड़ताल के लिए योनि तथा/या सर्विक्स से लिए गए स्वैब की जांच की जाएगी। अगर जरूरत पड़ी या सर्विक्स में कोई परेशानी नजर आई तो डॉक्टर सर्वाइकल स्मीयर (cervical smear) भी कर सकता है।

दुर्लभ मामलों में आपके सर्विक्स में स्पेशल स्टेंस (special stains) लगाए जा सकते हैं, जिससे आपके टिशू जो सेहतमंद नहीं हों, अलग नजर आएं, ताकि इस टिशू का एक नमूना जांच के लिए बायोप्साइड (biopsied) करके निकाला जा सके। सर्विक्स की जांच करने के लिए कोल्पोस्कोप (coloscope) नामक मैग्निफाइंग उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है। यह ठीक उसी तरह की जांच होती है, जो उन महिलाओं पर की जाती है, जिन्हें असामान्य सर्विकल स्क्रीनिंग के टेस्ट रिजल्ट मिलते हैं।

स्पेकुलम (speculum) को तब हटा लिया जाता है और आतंरिक पेल्विक जांच किया जाती है। इससे डॉक्टर को आपके गर्भ का आकार, स्वरूप और अनुरूपता पता करने और आपके पेल्विस (pelvis) में किसी तरह की पीड़ा का मूल्यांकन करने की सुविधा मिल जाती है।

आप और आपके डॉक्टर को चार सप्ताह के अंदर किसी स्वैब, स्मीयर (smear) या बायोप्सी (biopsy) के परिणाम की जानकारी दे दी जाएगी।

हिस्टेरोस्कोपी (hysteroscopy)

अगर आपको हिस्टेरोस्कोपी (hysteroscopy) की जरूरत होगी तो डॉक्टर अगले दो सप्ताह में इसे करने की कोशिश करेगा।

हिस्टेरोस्कोपी (hysteroscopy) से डॉक्टर को एक महीन टेलीस्कोप, जिसे हिस्टेरोस्कोप(hysteroscope) कहा जाता है, की मदद से गर्भाशय के अंदर देखने की सहायता मिलती है। लोकल एनेस्थेटिक्स के जरिये आपके सर्विक्स के रास्ते हिस्टेरोस्कोप(hysteroscope) का प्रवेश करवाया जाता है। अगर आप चाहें तो टीवी स्क्रीन पर इस पूरी प्रक्रिया को देख सकते हैं।

हिस्टेरोस्कोपी (hysteroscopy) कराने की प्रक्रिया के बारे में और अधिक जानें।

रजोनिवृत्ति के बाद रक्तस्राव का उपचार

रक्तस्राव की वजह पर उपचार निर्भर करता है। अगर वजह सर्वाइकल पॉलिप्स (cervical polyps) सकी वजह से है तो उसे निकलवाना होगा। यह स्पेशलिस्ट के क्लीनिक में लोकल एनेस्थेटिक्स (वह हिस्सा सुन्न कर दिया जाता है और आपको दर्द नहीं होता) के तहत की जाने वाली काफी साधारण प्रक्रिया है। पॉलिप (polip) को पकड़ने और धीरे से मरोड़ने के लिए छोटे फोरसेप्स (forceps) का इस्तेमाल किया जाता है। ये अमूमन आसानी से बाहर आ जाते हैं और खून आने की स्थिति में उसे कॉटरी(गर्म) या कैमिकल लगाकर रोका जाता है।

एंडोमेट्रियल एट्रोफी (endometrial atrophy) का उपचार एस्ट्रोजन (oestrogen) क्रीम या पेस्सारिज(pessaries) से किया जाता है और एंडोमेट्रियल हाइपरप्लासिया (endometrial hyperplasia) का आमतौर पर उपचार हार्मोनल मेडिकेशन (प्रोजेस्टोजेन्स) तथा/या सर्जरी से किया जाता है, जिसमें गर्भ की लाइनिंग के मोटे हो चुके हिस्से को हटा दिया जाता है।

यदि आपको एंडोमेट्रियल कैंसर (endometrial cancer) है तो आपको गर्भाशय और सर्विक्स हटवाने, जिसे टोटल हिस्टेरेक्टमी(total hyterectomy) कहा जाता है) के लिए सर्जरी करवानी होगी। हिस्टेरेक्टमी (hysterectomy) करवाने, गर्भाशय कैंसर और सर्विकल कैंसर के उपचार के बारे में और अधिक जानें।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।