क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

शुक्राणुओं की कमी

लगभग 20% नवयुवकों में शुक्राणुओं की कमी पायी जाती हैं, जिसे प्रति मिलीलीटर वीर्य मे 2 करोड़ से कम शुक्राणु के रूप मे परिभाषित किया जाता है।

प्रजनन शक्ति की समस्या से ग्रसित दम्पत्तियों के लगभग 20% मामलों का कारण शुक्राणुओं की कमी अथवा शुक्राणुओं की गुणवत्ता का खराब होना है तथा अन्य 25% दम्पत्तियों मे यह एक सहयोगी कारण होता है।

यह लेख उन लोगों को सलाह प्रदान करता है जिनको यह लगता है कि उनमे अथवा उनके साथी में शुक्राणु की कमी है, जिसे चिकित्साशास्त्र मे ओलिगोस्पर्मिया(oligozoospermia) कहते हैं। यहा शुक्राणु की कमी के कारणों, इस समस्या के उचित निदान, तथा उपलब्ध चिकित्सा विकल्पों के बारे में जानकारी उपलब्ध है।

आपमें शुक्राणुओं की कमी है इसका पता कैसे लगाया जा सकता है ?

एक साल तक प्रयत्न करने के बाद भी यदि आप गर्भधारण करने में असमर्थ हैं तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। वे आपके प्रजनन क्षमता की जांच करने के लिए आपके वीर्य की जांच करेंगे जिसमे आपके(या आपके सहयोगी) की शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मात्रा की जांच शामिल होगी

10 में से लगभग 1 पुरुष की पहली वीर्य जांच का परिणाम असामान्य होगा किन्तु इसका अर्थ सदैव यह नहीं होता कि उनमें वास्तव में कोई असामान्यता है| इसलिए यदि पहली वीर्य जांच का परिणाम असामान्य आता है तो यह जांच दोबारा करवानी चाहिए।

आदर्श रूप से, पहली जांच कराने के 3 महीने बाद दोबारा जांच करनी चाहिए, लेकिन यदि यह लगता है कि आपके शुक्राणुओं की संख्या बहुत ज्यादा कम है अथवा आप में शुक्राणु ही नहीं है तो जितनी जल्दी हो सके इसे दोबारा करवाना चाहिए।

शुक्राणुओं की कमी का क्या कारण होता है?

आमतौर पर, शुक्राणु की कमी का कोई कारण नहीं मिल पाता। लेकिन इसको अनेक अनुवांशिक तथा गैर अनुवांशिक स्थितियों के साथ संबंधित किया जाता है। इसमे निम्नलिखित स्थितियाँ शामिल हैं :

  • हॉर्मोन्स का असंतुलन जैसे हाइपोगोनाडिज्म (hypogonadism) जिसमें वृषण (टेस्टिस, Testis) हारमोंस का उत्पादन बिल्कुल नहीं करते या बहुत कम करते हैं। अक्सर इसका पहचानने योग्य कारण होता है, जैसे कि क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम (Klinefelter's syndrome) (नीचे देखें)।
  • वंशानुगत अनुवांशिक समस्या जैसे क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम(Klinefelter's syndrome), जिसमें पुरुष का जन्म एक अतिरिक्त स्त्री क्रोमोज़ोम के साथ होता है
  • अनडेसेंडेड टेस्टिकल्स
  • पुरुष जननांग मार्ग में संरचनात्मक समस्या- जैसे शुक्राणुओं का वहन करने वाली नलिका किसी बीमारी अथवा चोट लगने से क्षतिग्रस्त हो सकती है|
  • जननांग में संक्रमण जैसे क्लैमिडिया(chlamydia) गोनोरिया(gonorrhoea) या प्रोस्टेटाइटिस (prostatitis,पौरुष ग्रंथि का संक्रमण)।
  • शुक्राणुओं पर हमला करने वाली एंटीबॉडीज़ - ये एंटीबॉडीज़ गलती से शुक्राणुओं को एक हानिकारक वस्तु के रूप में पहचान कर, उन्हे मारने का प्रयास करती हैं।
  • यह समस्या विशेष रूप से उन पुरुषों में ज्यादा देखने को मिलती है जिन्होंने नसबंदी कराई होती है।
  • वृषण कोष अथवा उसके आसपास के भाग में पूर्व में हुआ कोई ऑपरेशन।
  • वेरिकोसेल्स (वृषणों के अंदर की नसों का फैलना)
  • कुछ विशिष्ट औषधियां जिसमे टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी,लंबे समय तक एनाबोलिक स्टेरॉयड का प्रयोग, कैंसर का उपचार (कीमोथेरेपी), कुछ एंटीबायोटिक्स तथा कुछ अल्सर के उपचार में प्रयुक्त औषधियां शामिल हैं।
  • कीटनाशक दवाइयों जैसे रसायनों के संपर्क में आना।

चिकित्सा के विकल्प क्या हैं?

यदि आपमे या आपके साथी में शुक्राणुओं की कमी का पता चलता है, तो इसके लिए कुछ चिकित्सा विकल्प उपलब्ध हैं |

इंट्रा सायटोप्लास्मिक स्पर्म इंजेक्शन (आईसीएसआई, Intracytoplasmic sperm injection, ICSI)

इंट्रा सायटोप्लास्मिक स्पर्म इंजेक्शन (आईसीएसआई ) मे एक अकेले शुक्राणु को इन्जेक्शन द्वारा सीधे अंडाणु मे प्रविष्ट कराना शामिल है जिससे वह अंडाणु को निषेचित(फर्टिलाइज़) कर सके। फिर इस निषेचित अंडाणु (भ्रूण) को महिला के गर्भाशय मे स्थानांतरित किया जाता है।

यदि आपके वीर्य में शुक्राणु ना हो अथवा आपके शुक्राणु बहुत खराब गुणवत्ता के हो तो आईसीएसआई की सलाह दी जा सकती है |

आईसीएसआई (ICSI) का विचार करने से पहले, आपके डॉक्टर को आप दोनों की उचित जांच कारवाई जानी चाहिए तथा उसके परिणाम एवं पहलुओं के बारे मे आपसे विचार विमर्श करना चाहिए। उनको यह भी विचार करना चाहिए कि आपकी फर्टिलिटी की समस्या मे कोई आनुवांशिक कारण शामिल है या नही।

कुछ पुरुषों में फर्टिलिटी की समस्या उनके वाय(Y) क्रोमोज़ोम (पुरुष क्रोमोज़ोम) मे जीन की असामान्यता के परिणामस्वरूप होती है। लेकिन जब तक इसका संदेह नही होता ,तक तक आईसीएसआई से पहले आपको सामान्यतः इसके लिए जांच करवाने की आवश्यकता नही होती।

यदि आप या आपके डॉक्टर को पता है या संदेह है की आपमें किसी विशिष्ट जीन का दोष है तो उन्हें आपकी उचित जेनेटिक काउंसलिंग तथा जांच करनी चाहिए।

गोनाडोट्रोपिन दवा(Gonadotrophin drugs)

यदि आपमें गोनाडोट्रोपिन हार्मोन(जो शुक्राणु उत्पादन को उत्तेजित करते हैं) का स्तर कम है तो आपकी प्रजनन शक्ति को बेहतर बनाने के लिए आपकी चिकित्सा गोनाडोट्रोपिन दवा द्वारा की जानी चाहिए |

लेकिन यदि आपकी असामान्य शुक्राणु संख्या का कोई कारण नहीं मिलता तो आपको हॉर्मोन आधारित औषधियां नहीं दी जाएंगी क्योंकि ये प्रजनन शक्ति को बेहतर बनाने के लिए नही जानी जाती हैं |

डोनर इनसेमिनेशन (Donor insemination)

डोनर इन्सेमिनेशन (वीर्यारोपण ) का अर्थ है किसी अन्य पुरुष द्वारा अज्ञात रूप में दान किए गए शुक्राणुओं का इस्तेमाल करना।एक दम्पत्ति के रूप मे, आप आईसीएसआई (ICSI) के विकल्प के रूप मे डोनर इन्सेमिनेशन (वीर्यारोपण ) का प्रयोग करने पर विचार कर सकते हैं |

यदि किसी पुरुष मे कोई अनुवांशिक रोग है जो उसके बच्चे में भी हो सकता है तब भी आप डोनर इन्सेमिनेशन(वीर्यारोपण ) पर विचार कर सकते हैं|

यदि आवश्यकता हो तो इसको IVF के भाग के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है।

यदि आप डोनर इन्सेमिनेशन (वीर्यारोपण ) पर विचार कर रहे हैं, तो एक दंपत्ति के रूप में आपके और होने वाले बच्चे के लिए इसके पहलुओं के बारे मे आपको स्वतंत्र काउंसलिंग प्रदान की जानी चाहिए।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।