शराब से संबंधित यकृत रोग

परिचय

शराब के ग़लत प्रयोग से जिगर को हानि पहुँचनेवाली बीमारी को शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी)कहते हैं। इसमें कई स्थितिया और इससे संबंधित कई लक्षण शामिल है।

शराब के ग़लत प्रयोग से जिगर को हानि पहुँचनेवाली बीमारी को शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी)कहते हैं। इसमें कई स्थितिया और इससे संबंधित कई लक्षण शामिल हैं।

आमतौर पर एआरएलडी के लक्षण तबतक नज़र नहीं आते, जबतक कि जिगर को गंभीर हानि न पहुँची हो। जब ऐसा होता है, तो उसके ये निम्न लक्षण हो सकते हैं:

● बीमार-सा महसूस करना

● वज़न का घटना

● भूख में कमी

● आंखों और त्वचा का पीला हो जाना (पीलिया )

● टखनों और पेट में सूजन

● घबड़ाहट या सुस्ती

● ख़ून की उल्टी या मल में ख़ून निकलना

इसका मतलब यह है कि शराब से संबंधित यकृत रोग का अक्सर निदान तब होता है, जब किसी अन्य रोग के लिए शरीर की जाँच की जाती है।

अगर आप लगातार या रुक-रुक कर भारी मात्रा में शराब का सेवन करते हैं, तो आपको ये बात अपने डॉक्टर को बतानी चाहिए ताकि वो आपके जिगर की मौजूदा स्थिति की जाँच कर सके।

शराब से संबंधित यकृत रोग के लक्षण और शराब से संबंधित यकृत रोग के निदान के बारे में और पढ़े ।

शराब और जिगर

मस्तिष्क को छोड़कर, यकृत इंसानी शरीर का सबसे जटिल हिस्सा है।

इसके कार्यों में शामिल हैं:

● रक्त से विषैले तत्वों को छानना

● खाने के पाचन में सहायता करना

● रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करना

● संक्रमण और रोग से लड़ने में मदद करना

जिगर बहुत मज़बूत होता है और ख़ुद को फिर से बना लेने की क्षमता रखता है। जब कभी भी आपका जिगर शराब को छानता है, लिवर की कुछ कोशिकाएं मर जाती हैं। यकृत नई कोशिकाएँतैयार कर सकता है, लेकिन अगर आप लंबे समय तक शराब का दुरुपयोग जारी रखते हैं, तो आपके जिगर की ख़ुद को पुनर्जीवित करने की क्षमता घट सकती है, जिसकी वजह से आपके जिगर को भारी हानि पहुँच सकती है।

एआरएलडी का ब्रिटेन में फैलाव बहुत गहरा है, और शराब के दुरुपयोग के बढ़ते स्तर के कारण पिछले कुछ दशकों में इससे पीड़ित लोगों की संख्या भी बढ़ गई है।

शराब से संबंधित यकृत रोग के कारणों के बारे में और पढ़ें ।

शराब से संबंधित यकृत रोग के चरण

एआरएलडी के तीन मुख्य चरण होते हैं, हालांकि प्रत्येक चरण के कुछ लक्षण अक्सर एक ही समय दिखाई दे सकते हैं। इन चरणों के बारे में विस्तृत जानकारी नीचे दी गई है।

मादक वसायुक्त यकृत रोग (शराब संबंधित फैटी लिवर रोग)

भारी मात्रा में शराब पीना, चाहे वो सिर्फ़ कुछ ही दिनों के लिए ही क्यों न हो, यकृत में वसा के निर्माण का कारण बनता है। इसे शराब संबंधित फैटी लीवर रोग कहा जाता है, और यह एआरएलडी का पहला चरण है।

फैटी लिवर रोग में शायद ही कभी कोई लक्षण दिखाई देते हैं, लेकिन ये आपके लिए एक महत्वपूर्ण चेतावनी संकेत है कि आपके शराब का सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो रहा हैं।

फैटी लिवर रोग की स्थिति उलट जाने के लायक है। अगर आप दो हफ़्तों के लिए शराब पीना बंद करते हैं, तो आपका जिगर फिर से स्वस्थ हो सकता है।

शराब संबंधित हेपेटाइटिस (जिगर में सूजन)

शराब संबंधित हेपेटाइटिस (संक्रामक हेपेटाइटिस से संबंधित नहीं ) अक्सर एआरएलडी का दूसरा, ज़्यादा गंभीर चरण होता है। ये तब होता है जब अधिक समय तक शराब के दुरुपयोग की वजह से जिगर के ऊतकों में सूजन आ जाती है। कभी-कभी, शराब संबंधित हेपेटाइटिस तब हो सकता है, जब आप कम समय में बहुत ज़्यादा शराब पीते हैं (अनियंत्रित मद्यपान)।

अगर आप हमेशा के लिए शराब पीना बंद करते हैं, तो हल्के शराब संबंधित हेपेटाइटिस के वजह से जिगर को हुई हानि को उल्टा जा सकता है।

लेकिन भारी शराब संबंधित हेपेटाइटिस एक गंभीर और जानलेवा बीमारी है। दुर्भाग्य से, कुछ लोगों को अपने जिगर को हुई हानि के बारे में सिर्फ़ तब पता चलता है जब उनकी हालत इस चरण तक आ पहुंची हो।

सिरोसिस

सिरोसिस शराब संबंधित यकृत रोग का अंतिम चरण है, और वो तब होता है जब जिगर काफ़ी कमज़ोर हो जाता है। सिरोसिस आम तौर पर प्रतिवर्ती नहीं है, लेकिन अगर आप शराब के सेवन को तुरंत रोक देते हैं, तो जिगर में हुई हानि रुक सकती है और आपका जीवन-काल बढ़ सकता है।

अगर आपको शराब से संबंधित सिरोसिस है, और आप शराब पीना बंद नहीं करते हैं, तो अगले कम-से-कम पाँच साल तक आपके ज़िंदा रहने की संभावना 50% कम हो जाती है।

शराब से संबंधित यकृत रोग का इलाज कैसे किया जाता है

फ़िलहाल एआरएलडी के लिए कोई विशिष्ट दवाई या उपचार मौजूद नहीं है। मुख्य उपचार ये है कि आप शराब को पीना छोड़ दें, बेहतर होगा अगर ये आपके जीवन के बचे हिस्सों के लिए भी छूट जाए। यह आपके जिगर का और नुकसान होने से बचाव करता है, और कुछ मामलों में आपके जिगर को ख़ुद की मरम्मत करने का मौका दे सकता है।

अगर आप शराब पर निर्भर हैं, तो शराब पीने से ख़ुद रोकना बहुत मुश्किल हो सकता है। लेकिन, सहायता, सलाह और इलाज आपकी मदद के लिए उपलब्ध हो सकते हैं।

उन गंभीर मामलों में, जहां शराब को पूरी तरह से छोडने के बावजूद जिगर काम नहीं कर रहा हो, यकृत प्रत्यारोपण की आवश्यकता हो सकती है। आपके यकृत प्रत्यारोपण को सिर्फ़ तब संज्ञान में लिया जाएगा, जब शराब को छोड़ देने के बावजूद भी आपमें सिरोसिस की जटिलताएँ दिखाई देती हों। प्रत्यारोपण की प्रतीक्षा के दौरान और अपनी बाक़ी बची ज़िंदगी में, आपको शराब से दूर रहना होगा।

शराब से संबंधित यकृत रोग के इलाज के बारे में और पढ़ें ।

जटिलताएं

पिछले कुछ दशकों में एआरएलडी से जुडे मृत्यु-दर में काफ़ी बढ़ोतरी हुई है, और अब ब्रिटेन में धूम्रपान और उच्च रक्तचाप के साथ शराब का सेवन मौत के सबसे आम कारणों में से एक है।

एआरएलडी की जटिलताएँ जानलेवा साबित हो सकती हैं। इनमें शामिल हैं- आंतरिक (वैरीसील) रक्तस्राव, मस्तिष्क में विषाक्त तत्वों का निर्माण (एन्सेफैलोपैथी), पेट में तरल पदार्थ का जमाव (जलोदर) और गुर्दे की विफलता के साथ लिवर कैंसर भी ।

शराब से संबंधित यकृत रोग की जटिलताओं के बारे में और पढ़ें ।

शराब से संबंधित यकृत रोग को रोकना

एआरएलडी को रोकने का सबसे प्रभावी तरीका शराब का सेवन बंद करना है, या अनुशंसित दैनिक सीमाओं के अंदर रह कर हफ़्ते में कम-से-कम दो दिन शराब से पूरी तरह से परहेज़ करना है।

शराब के सेवन की अनुशंसित सीमाएं हैं:

● पुरुषों को नियमित रूप से एक दिन में 3-4 यूनिट से अधिक शराब नहीं पीनी चाहिए।

● महिलाओं को नियमित रूप से एक दिन में 2-3 यूनिट से अधिक नहीं पीना चाहिए।

शराब का एक यूनिट लगभग आधे पाइंट सामान्य येगर या एक पब में शराब मापने के लिए इस्तेमाल की गयी इकाई (25 मिली) के बराबर होती है।

अगर आप कई सालों से बहुत ज़्यादा शराब पीने वालों में से हैं, तो भी शराब का सेवन कम करने या रोकने से आपके जिगर और आपके पूरे स्वास्थ्य को महत्वपूर्ण अल्पकालिक और दीर्घकालिक फ़ायदा पहुँच सकता है।

लक्षण

Try checking your symptoms with our AI-powered symptom checker.

हमारे एआई- संचालित लक्षण जाँचकर्ता की मदद से आपके लक्षणों की जाँच करने का प्रयास करें।

कई मामलों में शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी) से पीड़ित लोगों में तबतक कोई बड़े लक्षण नहीं नज़र आते, जबतक कि उनका जिगर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त नहीं हो जाता।

शुरूआती लक्षण

अगर आप में एआरएलडी के शुरूआती लक्षण दिखाई देते हैं, तो ये अक्सर काफ़ी अस्पष्ट होते हैं, जैसे:

पेट का दर्द

● भूख में कमी

● थकान

● बीमार सा महसूस करना (मतली)

दस्त

● आमतौर पर अस्वस्थ महसूस करना

उन्नत लक्षण

जैसे-जैसे आपका जिगर अधिक गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त होता जाता है, वैसे-वैसे आपको आमतौर पर अधिक स्पष्ट और गंभीर लक्षणों का अनुभव होगा, जैसे:

● त्वचा का पीला पड़ना और आंखों का सफ़ेद होना ( पीलिया )

● तरल तत्वों (एडिमा ) के निर्माण की वजह से पैरों, टखनों और पाँव में सूजन

● तरल पदार्थ के निर्माण के कारण आपके पेट में सूजन (जलोदर)

● बदन के तापमान का बढ़ जाना (बुखार) और कंपकंपी का दौरा

● त्वचा पर बहुत खुजली जैसा महसूस होना

● बाल झड़ना

● अजीब तरह की घुमावदार उँगलियाँ और नाख़ून ( उभरी हुई उंगलियाँ )

● हथेलियों पर लाल धब्बे

● वज़न का अचानक घटना

● कमज़ोरी और मांसपेशियों में दर्द

● भ्रम और स्मृति की समस्याएं, नींद न आना ( अनिद्रा ),और मस्तिष्क में विषाक्त तत्वों के निर्माण के कारण आपके व्यक्तित्व में बदलाव

● ख़ून की उल्टी और आंतरिक रक्तस्राव के कारण काला और टार जैसा मल

● अचानक और आसानी से रक्तस्राव और क्षतिग्रस्त होने की प्रवृत्ति, जैसे बार-बार नाक और मसूड़ों से ख़ून का बहना।

● शराब और दवाओं के प्रति संवेदनशीलता में वृद्धि (क्योंकि जिगर उन्हें पचा नहीं पाता)

डॉक्टरी सलाह कब लें

उन्नत चरण में पहुंचने तक अक्सर एआरएलडी के कोई भी लक्षण का नज़र नहीं आते हैं। अगर आप शराब का दुरुपयोग करते हैं , तो लक्षण न दिखाई देने के बावजूद भी आपका जिगर ख़राब हो सकता है।

अगर आपने अपने जीवन में कभी-भी नियमित रूप से शराब का बहुत ज़्यादा सेवन किया है, तो ये आपके लिए बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

आपके शराब पीने के इतिहास और उसके तरीक़ों के बारे में समझने के लिए केज टेस्ट को आज़माना एक अच्छा रास्ता है। एक छोटा-सा टेस्ट जिसमें 4 सवाल होते हैं:

● क्या आपने कभी सोचा है कि आपको शराब का सेवन कम कर देना चाहिए?

● क्या लोगों ने आपके शराब पीने की आदत में दोष निकाल कर आपको नाराज़ किया है?

● क्या आपने शराब पीने को लेके ख़ुद को कभी दोषी की नज़र से देखा है?

● क्या आपने कभी “आँखें खोलने के लिए” पीया है, मतलब, क्या आपने कभी शराब का ख़ुमार ख़त्म करने और हिम्मत जुटाने के लिए सुबह-सुबह शराब पी है?

अगर आपका ऊपर दिए गए एक या उससे ज़्यादा सवालों के जवाब “हाँ” में हैं, तो आपको शराब के दुरुपयोग की समस्या हो सकती है और ऐसे में आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

अगर आपमें उन्नत शराब से संबंधित यकृत रोग के कोई भी लक्षण नज़र आते हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से जल्द-से-जल्द मिलना चाहिए।

शराब से संबंधित यकृत रोग का निदान कैसे किया जाता है इसके बारे में और पढ़ें ।

कारण

शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी) अत्याधिक मद्यपान के कारण होता है। आप अनुशंसित सीमा से जितना अधिक पीते हैं, आपको एआरएलडी होने का ख़तरा उतना बढ़ता है।

शराब के दुरुपयोग के कारण एआरएलडी दो तरीक़ों से हो सकता है:

● कम समय में बड़ी मात्रा में शराब पीना (जिसे बिंज ड्रिंकिंग कहा जाता है),जिसकी वजह से फैटी लिवर की बीमारी हो सकती है और शराब संबंधित हेपेटाइटिस, जोकि बहुत सामान्य नहीं है

● कई साल शराब की अनुशंसित सीमा से अधिक पीना और इसकी वजह से हेपेटाइटिस और सिरोसिस , जोकि एआरएलडी से होनेवाले ज़्यादा गंभीर रोग हैं।

साक्ष्य बताते हैं कि जो लोग नियमित रूप से एनएचएस द्वारा बताए गए शराब की मात्रा से अधिक पीते हैं, उनमें एआरएलडी उत्पन्न होने का ख़तरा सबसे अधिक होता है।

एनएचएस के मशविरे हैं:

● पुरुषों को नियमित रूप से एक दिन में 3-4 यूनिट से अधिक शराब नहीं पीनी चाहिए

● महिलाओं को नियमित रूप से एक दिन में 2-3 यूनिट से अधिक शराब नहीं पीनी चाहिए

यह भी सलाह दी जाती है कि एक बार भारी मात्रा में शराब पीने के बाद आप 48 घंटे तक शराब का सेवन न करें।

अतिरिक्त कारक

अत्यधिक मात्रा में शराब पीने के साथ-साथ, कुछ अन्य कारक भी हैं जिनसे आपको एआरएलडी होने का ख़तरा बढ़ सकता है, जिनमें शामिल हैं:

● अधिक वज़न या मोटापा

● आपका महिला होना (महिलाएं पुरुषों की तुलना में शराब के हानिकारक परिणामों से ज़्यादा प्रभावित दिखाई देती हैं)

● पहले से मौजूद जिगर की बीमारी, जैसे हेपेटाइटिस सी (यकृत का क्रोनिक वायरल संक्रमण)

● आनुवंशिकी - शराब पर निर्भरता और उसे संभालने की तकलीफ़े अक्सर कुछ परिवारों में ज़्यादा पाई जाती हैं।

निदान

शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी) अक्सर पहले संदिग्ध होता है जब अन्य चिकित्सा स्थितियों के लिए गए जांच से पता चलता है कि जिगर क्षतिग्रस्त हो गया है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रारंभिक अवस्था में यह कुछ स्पष्ट लक्षणों का हेतु बन जाता है।

अगर एक डॉक्टर को संदेह है कि आपको एआरएलडी हो सकता है, तो आम तौर पर आपका लिवर कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है या नहीं, यह जांचने के लिए वे ख़ून की जाँच करवाएँगे। वे आपसे आपकी शराब की खपत के बारे में भी पूछ सकते हैं।

आप शराब कितनी और कितनी बार पीते हैं, इसके बारे में पूरी तरह से ईमानदार होना ज़रूरी है। अगर आप जितनी शराब पीते हैं, उससे कम बताते हैं या आप किसी भी तरह की शराब पीने से इनकार करते हैं, तो आपको अनावश्यक जांच के लिए आगे भेजा जा सकता है। इससे आपको आवश्यक उपचार मिलने में देरी हो सकती है।

रक्त परीक्षण

यकृत के आकलन के लिए उपयोग किए जाने वाले रक्त परीक्षण को लिवर फंक्शन टेस्ट के रूप में जाना जाता है। वे आपके रक्त में एंजाइमों का पता लगा सकते हैं, जो आम तौर पर केवल तभी मौजूद होते हैं, जब आपका जिगर क्षतिग्रस्त हो गया हो।

रक्त परीक्षण से यह भी पता लग सकता है कि क्या आपके पास कुछ पदार्थों का स्तर निम्नतम चला गया है, जैसे कि सीरम एल्ब्यूमिन नामक प्रोटीन, जो यकृत द्वारा बनाया जाता है। सीरम एल्ब्यूमिन के निम्न स्तर पर जाने का मतलब है कि आपका जिगर ठीक से काम नहीं कर रहा है।

एक रक्त परीक्षण रक्त के असामान्य थक्के के लक्षणों को भी देख सकता है, जो यकृत के काफ़ी क्षति होने का संकेत दे सकता है।

आगे की जांच

अगर आपके लक्षण या लिवर फंक्शन टेस्ट से यह पता चलता है कि आप शराब-संबंधी यकृत रोग के उन्नत रूप से पीड़ित हैं, या तो एल्कोहलिक हेपेटाइटिस या सिरोसिस , तो ऐसे में आपको अपने यकृत की स्थिति का आकलन करने के लिए और जाँचों की ज़रूरत हो सकती है। ये नीचे वर्णित हैं।

इमेजिंग परीक्षण

एक अल्ट्रासाउंड स्कैन , कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन या एक चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन भी किया जा सकता है। ये स्कैन आपके जिगर की तस्वीरों की की विस्तृत जानकारी दे सकते हैं। कुछ स्कैन लिवर की कठोरता को भी माप सकते हैं, जो इस बात का एक शुभ संकेत है कि आपका लिवर जख्मी है या नहीं।

लीवर बायोप्सी

यकृत बायोप्सी के दौरान, आपके शरीर में एक महीन सुई डाली जाती है (आमतौर पर आपकी पसलियों के बीच)। एक माइक्रोस्कोप के तहत लीवर कोशिकाओं के एक छोटे से नमूने को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है। बायोप्सी आमतौर पर लोकल एनेस्थेटिक के अंदर किया जाता है, एक दिन मामले के तौर पे या शायद अस्पताल में एक रात रुकने पर।

यकृत में ज़ख्म की गहराई और क्षति के कारण को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञ चिकित्सक माइक्रोस्कोप से यकृत बायोप्सी ऊतक की जांच करने में सक्षम हैं।

एंडोस्कोपी

एक एंडोस्कोप एक पतली, लंबी, लचीली ट्यूब है जिसमें एक छोर पे रोशनी होती है और दूसरे छोर पर एक वीडियो कैमरा होता है। एक एंडोस्कोपी के दौरान, यह उपकरण आपके अन्नप्रणाली (लंबी ट्यूब जो गले से पेट तक भोजन पहुंचाती है) की नीचे से होते हुए आपके पेट में जाती है।

आपके अन्नप्रणाली और पेट की तस्वीरों को एक बाहरी स्क्रीन पर दिखाया जाता हैं। डॉक्टर सूजन वाली नसों (वराइसेस) की तलाश करेंगे, जो सिरोसिस होने के लक्षण हैं।

जटिलताएं

कई गंभीर जटिलताएं हैं जो विकसित हो सकती हैं, अगर आपको शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी) है।

इस रोग से जुड़ी कुछ मुख्य जटिलताओं का वर्णन नीचे किया गया है।

पोर्टल उच्च रक्तचाप और वराइसेस

पोर्टल उच्च रक्तचाप सिरोसिस की एक सामान्य जटिलता है और शराब से जुड़ा हेपेटाइटिस , जोकि बहुत आम नहीं है। यह तब होता है जब आपके जिगर के अंदर रक्तचाप गंभीरता के संभावित स्तर तक पहुँच गया है।

जब जिगर गंभीर रूप से क्षत-विक्षत हो जाता है, तो ख़ून के लिए इधर-उधर होना मुश्किल हो जाता है। इससे रक्तचाप में वृद्धि होती है।

रक्त को आपके दिल तक लौटने का एक नया तरीका भी खोजना पड़ेगा। वो ऐसा नए रक्त वाहिकाओं को खोलकर करता है, आमतौर पर आपके पेट या अन्नप्रणाली (लंबी ट्यूब जो गले से पेट तक भोजन पहुंचाती है) के साथ-साथ। इन नई रक्त वाहिकाओं को वराइसेस के रूप में जाना जाता है।

अगर रक्तचाप एक निश्चित स्तर तक बढ़ जाता है, तो ऐसे में यह बहुत ज़्यादा ऊँचा हो जाता है और वराइसेस के लिए इसे झेल पाना मुश्किल हो सकता है, जिससे वराइसेस की दीवारें अलग हो जाती हैं और ख़ून बहना शुरू हो जाता है।

यह लंबे समय तक रक्तस्राव का कारण बन सकता है, जिससे एनीमिया हो सकता है (ऐसी स्थिति जहां शरीर में ऑक्सीजन ले जाने वाली पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं)।

वैकल्पिक रूप से, रक्तस्राव बहुत ही तेज़ और बड़े पैमाने पर हो सकता है, जिससे आप ख़ून की उल्टी कर सकते हैं और आपका मल बहुत ही काला या टार-जैसा हो सकता है।

विखंडित वराइसेस का इलाज एंडोस्कोप (एक संकीर्ण ट्यूब जिसके अंत में एक कैमरा होता है और जिसे पेट में वराइसेस का पता लगाने के लिए ले जाया जाता है) का उपयोग करके किया जा सकता है । एक छोटे बैंड का उपयोग तब वराइसेस के आधार को बंद करने के लिए किया जा सकता है।

जलोदर

अगर आपको पोर्टल उच्च रक्तचाप है, तो आपके पेट और आपकी आंतों के आसपास तरल पदार्थ का निर्माण हो सकता है। इस द्रव को जलोदर कहा जाता है।

प्रारंभ में इसका वॉटर पिल्स (मूत्रल) के साथ इलाज किया जा सकता है। अगर समस्या आगे बढ़ती है, तो कई लीटर तरल पदार्थ का निर्माण हो सकता है और इसे बाहर निकालना पड़ेगा। यह एक प्रक्रिया है जिसे पैरासेंटेसिस के रूप में जाना जाता है और इसमें एक लंबी पतली ट्यूब होती है, जिसे लोकल एनेस्थेटिक देने के बाद त्वचा के माध्यम से तरल पदार्थ में डाला जाता है ।

जलोदर के विकास से जुड़ी समस्याओं में से एक तरल पदार्थ में संक्रमण (सहज बैक्टीरिया पेरिटोनिटिस ) का खतरा शामिल है । यह संभावित रूप से बहुत गंभीर परेशानी है और इससे गुर्दे की खराबी और मौत का खतरा और बढ़ जाता है।

हेपेटिक एन्सेफ्लोपैथी

यकृत का सबसे महत्वपूर्ण कार्य आपके रक्त से विषाक्त पदार्थों को निकालना है। अगर आपका जिगर हेपेटाइटिस या सिरोसिस के कारण ऐसा करने में असमर्थ है, तो आपके रक्त में विषाक्त पदार्थों का स्तर बढ़ जाता है। जिगर की क्षति के कारण रक्त में विषाक्त पदार्थों का एक उच्च स्तर पहुँच जाना हेपेटिक एन्सेफ्लोपैथी के रूप में जाना जाता है।

हेपेटिक एन्सेफ्लोपैथी के लक्षणों में शामिल हैं:

● चिड़चिड़ापन

● उलझन

● भटकाव

● मांसपेशियों की जकड़न

● मांसपेशियों में कंपकंपी

● बोलने में कठिनाई

● बहुत गंभीर मामलों में, कोमा

हेपेटिक एन्सेफैलोपैथी के रोगियों को अस्पताल में भर्ती कराने की आवश्यकता हो सकती है। अस्पताल में, शारीरिक कार्यों को समर्थन दिया जाता है जबकि रक्त से विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए दवा दी जाती है।

यकृत कैंसर

कई सालों से भारी मात्रा में पीने के कारण जिगर को नुकसान पहुंचा सकता है और इससे यकृत कैंसर के होने का ख़तरा बढ़ जाता है।

पिछले कुछ दशकों में, ब्रिटेन में यकृत कैंसर की दर शराब के दुरुपयोग के बढ़ते स्तर के परिणामस्वरूप तेजी से बढ़ी है और यह अनुमान लगाया गया है कि सिरोसिस वाले 3-5% लोग हर साल यकृत कैंसर का शिकार होंगे।

इलाज

शराब से संबंधित यकृत रोग (एआरएलडी) का सफल उपचार अक्सर इस बात पर निर्भर करता है कि मरीज़ शराब पीना बंद करने के लिए और अपनी जीवन शैली में बदलाव करने के लिए तैयार है या नहीं।

शराब पीने से रोकना

शराब से संबंधित यकृत रोग के इलाज की एक कड़ी है- शराब से परहेज़। इसे संयम की स्थिति (ऐबस्टिनंस) कहा जाता है। आपका रोग किस चरण पर है, यह देख कर संयम की ज़रूरत का अंदाज़ा लगाया जा सकता है।

अगर आपको फैटी लीवर की बीमारी है, तो कम-से-कम दो हफ़्तों तक शराब छोड़ने से जिगर का नुकसान को पलटा जा सकता है।

अगर आपको एआरएलडी का कोई अधिक गंभीर रूप है – जैसे शराब संबंधित हेपेटाइटिस या सिरोसिस –तो आपको जीवन भर संयम बरतने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शराब छोड़ना आपके जिगर को और ख़राब होने से बचाने का एकमात्र तरीक़ा है और शायद ये आपको जिगर की बीमारी से मरने से बचा सकता है।

शराब छोड़ना आसान नहीं है, ख़ासकर इसलिए क्योंकि एआरएलडी से ग्रस्त लोगों में अनुमानतः 70% लोग शराब निर्भरता की समस्या से भी ग्रस्त होते हैं। फिर भी, अगर आपको शराब से संबंधित सिरोसिस या मादक हेपेटाइटिस है और आप शराब पीने से ख़ुद को रोक नहीं सकते, तो कोई भी चिकित्सीय या सर्जिकल उपचार जिगर की बर्बाद होने से रोक नहीं सकता है।

शराब छोड़ने के बाद के लक्षण (विनिवर्तन लक्षण)

अगर आप शराब से परहेज़ कर रहे हैं, तो आपको विनिवर्तन लक्षणों से सामना कर पद काटा है। ये पहले 48 घंटों के लिए सबसे ख़राब होंगे, लेकिन जैसे ही आपके शरीर को शराब के बिना रहने की आदत होने लगेगी, इसमें सुधार होना शुरू हो जाएगा। इस प्रक्रिया को आमतौर पर आपके आख़िरी बार पीने के बाद से तीन से सात दिन लगते है।

शराब से परहेज़ करनेवाले बहुत लोगों को शुरूआत में अपनी नींद में बाधा महसूस होती है, लेकिन ज़्यादातर मामलों में एक महीने के अंदर उनकी नींद का पैटर्न ठीक हो जाता है।

कुछ मामलों में, आपको शराब छोड़ने के बाद की समस्याओं से बचने के लिए धीरे-धीरे और नियोजित तरीक़े से शराब का सेवन कम करने की सलाह दी जा सकती है। आपको बेंजोडायजेपाइन नाम की दवा लेने और मनोवैज्ञानिक चिकित्सा जैसे संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) की सलाह दी जा सकती है, जो आपको शराब छोड़ने की प्रक्रिया में मदद कर सकती है।

कुछ लोगों को शराब छोड़ने की प्रक्रिया के शुरूआती चरणों के दौरान अस्पताल या एक विशेषज्ञ पुनर्वास क्लिनिक में रहने की आवश्यकता होती है, ताकि उनकी प्रगति का क़रीब से निरीक्षण किया जा सके।

अगर आप घर पर रह रहे हैं, तो आप नियमित रूप से एक नर्स या किसी दूसरे स्वास्थ्य पेशेवर से मिलें।

रिलैप्स (पुनरावर्तन) को रोकना

एक बार शराब छोड़ देने के बाद, आपको उपचार की इसलिए ज़रूरत हो सकती है ताकि आप दोबारा पीना शुरू न कर दें।

आमतौर पर सुझाया जाने वाला पहला इलाज मनोवैज्ञानिक चिकित्सा है। इसमें एक चिकित्सक से अपने भावनाओं और विचारों, साथ ही उनका आपके व्यवहार और सेहत पर कैसे फ़र्क़ पड़ता है के बारे में बात करना शामिल है।

अगर सिर्फ़ मनोवैज्ञानिक थेरेपी का असर नहीं होता है, तो आपको शराब छोड़ने के लिए दवा की भी ज़रूरत हो सकती है, जैसे कि एकैम्प्रोसेट, नाल्ट्रेक्सोन या डिसफ्लिराम।

उपलब्ध उपचारों के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ शराब के दुरुपयोग का इलाज देखें ।

स्वयं सहायता समूह

शराब पर निर्भर रहने वाले कई लोगों के लिए स्वयं सहायता समूहों में भाग लेना शराब छोड़ने में मददगार साबित होता है। सबसे प्रसिद्ध समूह शराबी अल्कोहोलिक्स अनोनेमस है, लेकिन कई दूसरे समूह भी हैं, जो मदद कर सकते हैं।

आहार और पोषण

एआरएलडी के मरीजों में कुपोषण आम है, इसलिए आवश्यक सभी पोषक तत्व पाने के लिए संतुलित आहार खाना आपके लिए महत्वपूर्ण है।

नमकीन खाद्य पदार्थों से परहेज और आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों में नमक का इस्तेमाल न करने से आपके पैरों, पाँव और पेट में सूजन होने के ख़तरे, जोकि वहाँ तरल पदार्थ वजह से निर्माण होता है, को कम किया जा सकता है, ।

आपके जिगर में आई ख़राबी का मतलब यह भी हो सकता है कि यह ग्लाइकोजन का संग्रह नहीं कर पाने में असफल है, जोकि कम समय के लिए ऊर्जा प्रदान करनेवाला एक कार्बोहाइड्रेट है। जब ऐसा होता है, तो खाने के बीच ऊर्जा प्रदान करने के लिए शरीर अपने ख़ुद की मांसपेशी ऊतक का उपयोग करता है, जिसकी वजह से मांसपेशियों में थकान और कमजोरी होती है। इसलिए, आपको अपने आहार में ज़्यादा ऊर्जा और प्रोटीन की आवश्यकता हो सकती है।

दो भोजन के बीच कुछ-कुछ पौष्टिक खाते रहने से आपको ज़रूरी कैलोरी और प्रोटीन मिल सकते हैं। एक या दो बार ज़्यादा खाने के बजाय, दिन में तीन या चार कम-कम खाना आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर हो सकता है।

आपके डॉक्टर आपको सही आहार के बारे में सलाह दे सके हैं या, कुछ मामलों में, आपको आहार विशेषज्ञ के पास भेज सके हैं।

कुपोषण के सबसे गंभीर मामलों में, पोषक तत्वों को नाक से होकर पेट में जानेवाली एक फीडिंग ट्यूब के माध्यम से देने की आवश्यकता हो सकती है।

लक्षणों के लिए दवा

एआरएलडी के इलाज के लिए दवा का उपयोग विवादास्पद है। कई विशेषज्ञों ने तर्क दिया है कि इसकी प्रभावशीलता के सबूत सीमित हैं।

गंभीर शराब संबंधित हेपेटाइटिस के मरीजों के लिए, अस्पताल में उपचार आवश्यक हो सकता है। इस स्थिति के मरीज़ों को लिए जिगर की सूजन को कम करने के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स या पेंटोक्सिफायलाइन के विशिष्ट उपचार का उपयोग किया जा सकता है। पोषण संबंधी सहायता (ऊपर देखें) भी इन मामलों में उपचार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

जिगर की क्षति का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली अन्य दवाओं में एनाबॉलिक स्टेरॉयड (स्टेरॉयड दवा का एक अधिक शक्तिशाली रूप) और प्रोपीलिथियोरसिल (एक प्रकार की दवा जो मूल रूप से अतिसक्रिय थायरॉयड ग्रंथियों के इलाज के लिए डिज़ाइन की गई है ) शामिल हैं, लेकिन इसमें अच्छे सबूतों की कमी है, जो इस बात को साबित करें कि ये मदद करते हैं। अब इनका शराब से जुड़े गंभीर हेपेटाइटिस के लिए उपयोग नहीं किया जाता है।

लिवर प्रत्यारोपण

शराब से संबंधित यकृत रोग के सबसे गंभीर मामलों में, यकृत अपने कार्य करने की क्षमता खो देता है, जिससे यकृत में ख़राबी आ जाती है। लीवर प्रत्यारोपण वर्तमान में एक मात्र रास्ता है, जिससे अपरिवर्तनीय जिगर की ख़राबी का इलाज हो सकता है।

अगर आप शराब से संयम के बावजूद जिगर की क्रमिक खराबी का विकास कर लेते हैं, तो आप इस तरह के ऑपरेशन से गुज़र जाने के लिए काफ़ी तैयार हैं, और अगर आप अपने जीवन के बाक़ी दिनों में शराब नहीं पीने का ठान लेते हैं, तो यकृत प्रत्यारोपण पर विचार किया जा सकता है।

NHS Logo
शीर्ष पर लौटें