बावासीर

प्रस्तावना

हेमोरोइड्स, जिसे बावासीर भी कहा जाता है, सूजन वाली रक्त वाहिकाएं होती हैं, जो नीचे (मलाशय और गुदा) के अंदर या आसपास पाई जाती हैं।

कई मामलों में, बावासीर के लक्षण नहीं होते हैं और कुछ लोगों को यह एहसास भी नहीं होता है कि उन्हें यह है।

हालांकि, जब लक्षण होते हैं, तो उनमें निम्न बातें शामिल हो सकती हैं:

  • मल त्याग करने के बाद रक्तस्राव - रक्त आमतौर पर चमकदार लाल होता है
  • नीचे खुजली होना
  • गुदा के बाहर एक गांठ लटकती है, जिसे मल त्याग करने के बाद पीछे धकेलना पड़ सकता है
  • मल त्याग करने के बाद एक बलगम जैसा निकलना
  • आपके गुदा के चारों ओर खराश, लालिमा और सूजन

बावासीर आमतौर पर दर्दनाक नहीं होते हैं, जब तक कि उनकी रक्त की आपूर्ति धीमी या बाधित न हो जाये।

डॉक्टरी सलाह कब लें

यदि आपको बावासीर के लगातार या गंभीर लक्षण हैं तो अपने डॉक्टर को दिखाएं। आपको हमेशा अपने गुदा से रक्तस्राव की जाँच करवानी चाहिए ताकि आपका डॉक्टर अधिक संभावित गंभीर कारणों का पता लगा सके।

बावासीर के लक्षण अक्सर अपने आप ही ख़त्म हो जाते हैं, या ऐसे साधारण उपचारों का उपयोग करके जिन्हें बिना पर्चे के फार्मेसी से खरीदा जा सकता है।

यदि आप दर्द या रक्तस्राव का अनुभव कर रहे हैं या आपके लक्षण बेहतर नहीं हो रहे हैं तो अपने चिकित्सक से बात करें।

आपका डॉक्टर आमतौर पर आपके पीछे के मार्ग की एक सरल आंतरिक परीक्षा करके बावासीर का निदान कर सकता है, हालांकि उन्हें निदान और उपचार के लिए आपको कोलोरेक्टल विशेषज्ञ के पास भेजना पड़ सकता है।

बावासीर के कुछ मरीज़ चिकित्सक को दिखाना नहीं चाहते हैं। लेकिन इसमें शर्मिंदा होने की कोई बात नहीं है - सभी डॉक्टरों को बावासीर के निदान और उपचार करने की आदत होती है।

बावासीर के निदान के बारे में और पढ़ें।

बावासीर का कारण क्या है?

बावासीर का सटीक कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन वे आपके गुदा में और उसके आसपास रक्त वाहिकाओं में बढ़ते दबाव से जुड़े हैं। यह दबाव आपके पीछे के मार्ग की रक्त वाहिकाओं में सूजन और जलन पैदा कर सकता है।

कई मामलों में लंबे समय तक कब्ज के कारण शौच करते समय बहुत अधिक तनाव के कारण भी ऐसा हो जाता है। यह अक्सर किसी व्यक्ति के आहार में फाइबर की कमी के कारण होता है।

जीर्ण (लम्बे समय तक चलने वाले ) दस्त भी आपको बावासीर होने के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकते हैं।

बावासीर होने के खतरे को बढ़ाने वाले अन्य कारकों में शामिल हैं:

  • अधिक वजन या मोटापा होना
  • उम्र - जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, आपके शरीर के सहायक ऊतक कमजोर होते जाते हैं, जिससे आपको बावासीर होने का खतरा बढ़ जाता है
  • गर्भवती होना - यह आपके पेल्विक की रक्त वाहिकाओं पर दबाव डाल सकता है, जिससे वे बढ़ सकती हैं; गर्भावस्था में बावासीर के बारे में अधिक पढ़ें
  • बावासीर का पारिवारिक इतिहास रहा है
  • नियमित रूप से भारी वस्तुओं को उठाना
  • लगातार खांसी या बार-बार उल्टी होना
  • लंबे समय तक बैठे रहना

बावासीर को रोकना और उपचार करना

बावासीर के लक्षण बिना उपचार के ही कुछ दिनों में ख़त्म हो जाते हैं। गर्भावस्था के दौरान होने वाली बावासीर अक्सर जन्म देने के बाद बेहतर हो जाती हैं।

आपकी गुदा में और उसके आसपास रक्त वाहिकाओं पर खिंचाव को कम करने के लिए जीवनशैली में बदलाव करना अक्सर अनुशंसित किया जाता है।

इनमें शामिल हो सकते हैं:

  • धीरे-धीरे अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाएं - फाइबर के अच्छे स्रोतों में फल, सब्जियां, साबुत चावल, साबुत पास्ता और ब्रेड, दालें और बीन्स, बीज, नट्स और ओट्स शामिल हैं।
  • पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पीना - विशेष रूप से पानी, लेकिन कैफीन और अल्कोहल से बचना या काम करना
  • टॉयलेट जाने में देर न करना - अपने आंतों को खाली करने की ज़रूरत को अनदेखा करना आपके मल को सख्त और सूखा बना सकता है, जिससे आप टॉयलेट जाते समय खिंचाव महसूस कर सकते हैं
  • कब्ज का कारण बनने वाली दवा से बचना - जैसे दर्द निवारक जिसमें कोडीन ह यदि आपका वजन अधिक है तो वजन कम करना
  • नियमित व्यायाम करना - यह कब्ज को रोकने, आपके रक्तचाप को कम करने और वजन कम करने में आपकी मदद कर सकता है

ये उपाय बावासीर के लौटने या यहाँ तक ​​कि उसे होने के जोखिम को ही ख़त्म कर सकते हैं।

दवा जो आप सीधे अपने पीछे के मार्ग (सामयिक उपचार) से लेते हैं या किसी फार्मेसी से खरीदी गई गोलियों या आपके चिकित्सक द्वारा बताई गयी दवा जब आप लेते हैं, तो ये आपके लक्षणों को कम कर सकती हैं और मल त्याग करना आपके लिए आसान बन सकता है।

अधिक गंभीर बावासीर के लिए विभिन्न उपचार के विकल्प हैं। इन विकल्पों में से एक बैंडिंग है, एक गैर-सर्जिकल प्रक्रिया जहां रक्त की आपूर्ति में कटौती करने के लिए बावासीर के आधार के चारों ओर बहुत तंग लोचदार बैंड लगाया जाता है। लगभग एक सप्ताह के बाद बावासीर टूट के गिर जाना चाहिए।

कभी-कभी बड़े या बाहरी बावासीर को हटाने या सिकोड़ने के लिए, सामान्य एनेस्थेशिया दे कर सर्जरी की जाती है, जिसमे आप बेहोश होते हैं।

बावासीर के इलाज के लिए और बावासीर की सर्जरी के बारे में और पढ़ें।

बावासीर का निदान

आपका डॉक्टर रक्तस्रावी रक्त वाहिकाओं की जांच करने के लिए आपके पीछे के मार्ग की जांच करके बावासीर का निदान कर सकता है।

बावासीर के कुछ मरीज़ चिकित्सक को दिखाना नहीं चाहते हैं। लेकिन इसमें शर्मिंदा होने की कोई बात नहीं है - सभी डॉक्टरों को बावासीर के निदान और उपचार करने की आदत होती है।

अपने चिकित्सक को अपने सभी लक्षणों के बारे में बताना ज़रूरी है - उदाहरण के लिए, उन्हें बताएं अगर आपने हाल ही में बहुत अधिक वजन कम किया है, अगर आपके मल त्याग में कुछ बदलाव आया है, या यदि आपका मल गहरे रंग का या चिपचिपा हो गया है।

मलाशयी परीक्षण

आपका डॉक्टर आपके गुदा के बाहर की जांच कर सकता है ये देखने के लिए कि क्या बाहर से कोई बावासीर दिखाई दे रहा है, और वे एक आंतरिक परीक्षण भी कर सकते हैं जिसे डिजिटल रेक्टल परीक्षण (DRE) कहा जाता है।

DRE के दौरान, आपका डॉक्टर दस्ताने पहनेगा और चिकनाई लगाएगा। अपनी उंगली का इस्तेमाल करते हुए, वे आपके पीछे के मार्ग में किसी भी असामान्यता की जांच करेंगे। DRE दर्दनाक नहीं होता है, लेकिन आप कुछ मामूली असुविधा महसूस कर सकते हैं।

प्रोक्टोस्कोपी

कुछ मामलों में, आगे के आंतरिक परीक्षण के लिए प्रोक्टोस्कोप का इस्तेमाल करने की आवश्यकता हो सकती है। प्रोक्टोस्कोप एक पतली, खोखली ट्यूब होती है जिसके अंत में एक लाइट होती है जिसे आपके गुदा में डाला जाता है।

यह आपके डॉक्टर को आपके पूरे गुदा नहर, बड़ी आंत के अंतिम खंड को दिखाता है।

डॉक्टर कभी-कभी एक प्रोक्टोस्कोपी करने में सक्षम होते हैं। हालांकि, सभी डॉक्टरों के पास सही प्रशिक्षण या सही उपकरण नहीं होते है, इसलिए आपको प्रक्रिया के लिए किसी अस्पताल के क्लिनिक में जाने की आवश्यकता हो सकती है।

बावासीर के प्रकार

एक बार आपकी मलाशय परीक्षा या प्रोक्टोस्कोपी होने के बाद, आपका डॉक्टर यह निर्धारित करने में सक्षम होगा कि आपको किस प्रकार की बावासीर है।

बावासीर आंतरिक या बाहरी रूप से विकसित हो सकती है। आंतरिक बावासीर आपके गुदा नहर के ऊपरी दो-तिहाई हिस्से में विकसित होती है, जबकि बाहरी बावासीर निचले तीसरे हिस्से में विकसित होती है, जो आपके गुदा के सबसे करीब होते हैं।

निचले हिस्से की नसें दर्द संदेश भेज सकती हैं, जबकि ऊपरी हिस्से में तंत्रिकाएं ऐसा नहीं करती हैं।

बावासीर को उनके आकार और गंभीरता के आधार पर आगे वर्गीकृत किया गया है:

  • पहली डिग्री - छोटी सूजन जो गुदा के अंदर के भाग पर विकसित होती हैं और गुदा के बाहर से दिखाई नहीं देती है
  • दूसरी डिग्री - जब आप टॉयलेट जाते हैं तो आपकी गुदा से बड़ी सूजन बाहर आ सकती है और फिर से अंदर गायब हो जाती है
  • तीसरी डिग्री - एक या एक से अधिक छोटी नरम गांठें जो गुदा से नीचे लटकती हैं और उन्हें वापस अंदर ठेला जा सकता है (प्रोलैप्सिंग और रिड्यूसबल)
  • चौथी डिग्री - बड़ी गांठें जो गुदा से नीचे लटकती हैं और उन्हें वापस अंदर नहीं धकेला जा सकता है (इर्ररिड्यूसबल)

डॉक्टरों के लिए यह जानना उपयोगी है कि आपको किस प्रकार और आकार की बावासीर है, क्योंकि तभी वे सबसे अच्छा उपचार तय कर पाएंगे।

बावासीर के इलाज के बारे में और पढ़ें।

बावासीर का इलाज

बावासीर कुछ दिनों के बाद अक्सर अपने आप ठीक हो जाते हैं। हालांकि, कई उपचार हैं जो खुजली और परेशानी को कम कर सकते हैं।

अक्सर सबसे पहले सरल आहार परिवर्तन करने और शौचालय पर दबाव न डालने की सिफारिश की जाती है।

क्रीम, मलहम और सपोसिटरी, जो आप अपने मलाशय में डाल सकते हैं, बिना पर्चे के फार्मेसियों से उपलब्ध हैं। उनका उपयोग किसी भी सूजन और परेशानी को दूर करने के लिए किया जा सकता है।

यदि अधिक गहन उपचार की आवश्यकता होती है, तो टाइप इस बात पर निर्भर करेगा कि आपका बावासीर आपके गुदा नलिका में कहाँ पर है - आपके गुदा के सबसे निचले तीसरे हिस्से में या ऊपरी दो तिहाई हिस्से में। निचले तीसरे हिस्से में तंत्रिकाएं होती हैं जो दर्द को प्रसारित कर सकती हैं, जबकि ऊपरी दो तिहाई हिस्से में नहीं होती हैं।

नलिका के निचले हिस्से में बावासीर के लिए गैर-सर्जिकल उपचार बहुत दर्दनाक हो सकते है, क्योंकि इस क्षेत्र में तंत्रिकाएं दर्द का पता लगा लेती हैं। इन मामलों में, आमतौर पर बावासीर की सर्जरी की सिफारिश की जाती है।

बावासीर के लिए विभिन्न उपचार नीचे दिए गए हैं। आप बावासीर उपचारों के फायदे और नुक़्सानों का सारांश भी पढ़ सकते हैं, जिससे आप अपने उपचार विकल्पों की तुलना कर सकते हैं।

आहार में परिवर्तन और आत्म देखभाल

यदि कब्ज आपके बावासीर का कारण है, तो आपको अपने मल को नरम और नियमित रखने की आवश्यकता होती है, ताकि आप शौचालय जाते समय ज़ोर न लगाएं।

आप अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाकर ऐसा कर सकते हैं। फाइबर के अच्छे स्रोतों में साबुत अनाज की रोटी, अनाज, फल और सब्जियां शामिल हैं।

आपको भरपूर पानी भी पीना चाहिए और कैफीन से बचना चाहिए।

शौचालय जाते समय, आपको निम्न बातें करनी चाहिए:

  • मल त्याग करने के लिए ज़ोर लगाने से बचें, क्योंकि यह आपके बावासीर को बदतर बना सकता है
  • मल त्याग करने के बाद अपने मलाशय को साफ करने के लिए, सूखे टॉयलेट पेपर के बजाय बेबी वाइप्स या नम टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करें
  • रगड़ने के बजाय अपने नीचे के आस-पास के हिस्से को थपथपाएं

कब्ज को रोकने के बारे में और पढ़ें।

इलाज

ओवर-द-काउंटर सामयिक उपचार

विभिन्न क्रीम, मलहम और सपोसिटरी एक पर्चे के बिना फार्मेसियों से उपलब्ध हैं। उनका उपयोग किसी भी सूजन और बेचैनी को दूर करने के लिए किया जा सकता है।

इन दवाओं को एक बार में केवल पांच से सात दिनों के लिए ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। यदि आप उन्हें इस से अधिक समय तक इस्तेमाल करते हैं, तो वे आपकी गुदा के आस-पास की संवेदनशील त्वचा में परेशान पैदा कर सकते हैं।

किसी भी दवा को ऊपर बताये गए आहार और आत्म देखभाल सलाह के साथ लेना चाहिए।

ऐसा कोई सबूत नहीं है जो यह बताता हो कि एक विधि दूसरे की तुलना में अधिक प्रभावी है।

अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें कि कौन सा उत्पाद आपके लिए सबसे उपयुक्त है, और इसे उपयोग करने से पहले हमेशा रोगी सूचना पत्रक को पढ़ें, जो आपकी दवा के साथ आता है।

एक बार में एक से अधिक उत्पाद का उपयोग न करें।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड क्रीम

यदि आपके मालशय में और आसपास गंभीर सूजन है, तो आपका डॉक्टर आपको कॉर्टिकोस्टेरॉइड क्रीम दे सकता है, जिसमें स्टेरॉयड होता है।

आपको कॉर्टिकोस्टेरॉइड क्रीम का उपयोग एक सप्ताह से अधिक समय तक नहीं करना चाहिए क्योंकि यह आपकी गुदा के आसपास की त्वचा को कमजोर बना सकता है और परेशानी को बदतर कर सकता है।

दर्दनाशक

पैरासिटामोल जैसी सामान्य दर्द निवारक दवा, बावासीर के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकती है।

हालांकि, अगर आपको बहुत अधिक रक्तस्राव होता है, तो गैर-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी), जैसे कि इबुप्रोफेन का उपयोग करने से बचें, क्योंकि वे मलाशय के रक्तस्राव को और ख़राब कर सकती हैं।

आपको कोडीन दर्द निवारक दवाओं के उपयोग से भी बचना चाहिए क्योंकि वे कब्ज पैदा कर सकती हैं।

आपका डॉक्टर आपको ऐसे उत्पाद बता सकता है जिनमें दर्दनाक बावासीर का इलाज करने के लिए स्थानीय एनेस्थेशिआ होती है। ओवर-द-काउंटर सामयिक उपचारों की तरह, इनका उपयोग केवल कुछ दिनों के लिए किया जाना चाहिए क्योंकि ये आपकी मालशय के आसपास की त्वचा को अधिक संवेदनशील बना सकते हैं।

जुलाब

यदि आपको कब्ज़ है, तो आपका डॉक्टर आपके लिए जुलाब की गोली लिख सकता है। जुलाब एक प्रकार की दवा है जो आपकी आंतों को खाली करने में आपकी मदद कर सकती है।

गैर-सर्जिकल उपचार

यदि आहार में परिवर्तन और दवा आपके लक्षणों में सुधार नहीं करते हैं, तो आपका डॉक्टर आपको एक विशेषज्ञ के पास भेज सकता है। वे पुष्टि कर सकते हैं कि क्या आपको बावासीर है और उचित उपचार की सलाह देते हैं।

यदि आपको अपने गुदा नलिका के ऊपरी भाग में बावासीर है, तो गैर-शल्यचिकित्सा प्रक्रिया जैसे कि बैंडिंग और स्क्लेरोथेरेपी की सिफारिश की जा सकती है।

बैंडिंग

बैंडिंग में बावासीर की रक्त की आपूर्ति में कटौती करने के लिए आपके बावासीर के आधार के चारों ओर एक बहुत तंग लोचदार बैंड बाँधा जाता है। इलाज के एक सप्ताह के भीतर ही बावासीर निकल जाना चाहिए।

बैंडिंग आम तौर पर एक दिन की प्रक्रिया है जिसके लिए एनेस्थेटिक की आवश्यकता नहीं होती है, और अधिकांश लोग अगले दिन अपनी सामान्य गतिविधियाँ फिर से कर सकते हैं।

आप एक या दो दिन कुछ दर्द या बेचैनी महसूस कर सकते हैं। सामान्य दर्द निवारक दवाएं आमतौर पर पर्याप्त होती हैं, लेकिन जरूरत पड़ने पर आपका डॉक्टर कुछ मजबूत दवाएँ लिख सकता है।

आपको शायद ये महसूस भी नहीं होगा कि आपका बावासीर गिर गया है, क्योंकि जब आप शौचालय जाते हैं तो वे आपके शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

यदि आप प्रक्रिया के एक सप्ताह के भीतर बलगम जैसे पदार्थ के निकलने को देखते हैं, तो आमतौर पर इसका मतलब है कि रक्तस्राव बंद हो गया है।

प्रक्रिया के तुरंत बाद, आप शौचालय जाने के बाद टॉयलेट पेपर पर खून देख सकते हैं। यह सामान्य है, लेकिन बहुत अधिक रक्तस्राव नहीं होना चाहिए।

यदि बहुत चमकीला लाल रक्त या रक्त के थक्के निकलते हैं, तो तुरंत अपने निकटतम दुर्घटना और आपातकालीन (ए एंड ई) विभाग पर जाएं।

बैंडिंग वाली जगह पर अल्सर हो सकता है, हालांकि ये आमतौर बिना किसी आगे के उपचार के ठीक हो जाते हैं।

इंजेक्शन (स्क्लेरोथेरेपी)

स्केलेरोथेरेपी नामक एक उपचार को बैंडिंग के विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

स्क्लेरोथेरेपी के दौरान, एक रासायनिक घोल को आपके मलाशय के मार्ग में रक्त वाहिकाओं में इंजेक्ट किया जाता है। यह इंजेक्शन वाली जगह पर तंत्रिका के छोर को सुन्न करके दर्द से राहत देता है।

यह बावासीर के ऊतक को कठोर बना देता है जिससे एक निशान बन जाता है। लगभग चार से छह सप्ताह के बाद, बावासीर आकार में कम हो जाएगा या सिकुड़ जायेगा।

इंजेक्शन लगवाने के बाद आपको पूरे दिन में भागदौड़ से बचना चाहिए।

आपको थोड़ी देर के लिए मामूली दर्द हो सकता है और थोड़ा खून भी बह सकता है। प्रक्रिया के अगले दिन, आप काम पर जाने के साथ साथ बाकी सामान्य गतिविधियों को भी फिर से शुरू कर सकते हैं।

इलेक्ट्रोथेरेपी

इलेक्ट्रोथेरेपी, जिसे इलेक्ट्रोकोएग्यूलेशन के रूप में भी जाना जाता है, छोटे बावासीर वाले लोगों के लिए बैंडिंग का एक और विकल्प है।

प्रक्रिया के दौरान, बावासीर का पता लगाने के लिए प्रोक्टोस्कोप नामक एक उपकरण को गुदा में डाला जाता है।

एक विद्युत प्रवाह तब दंतधातु रेखा के ऊपर, बावासीर के आधार पर रखी गई एक छोटी धातु प्रॉब से होकर गुजरता है। विशेषज्ञ प्रॉब से जुड़े नियंत्रणों का उपयोग करके विद्युत प्रवाह को नियंत्रित कर सकता है।

इलेक्ट्रोथेरेपी का उद्देश्य बावासीर की आपूर्ति करने वाले रक्त को गाढ़ा करना है, जो इसे सिकोड़ता है। यदि आवश्यक हो, तो हर सेशन के दौरान एक से अधिक बावासीर का इलाज किया जा सकता है।

कम विद्युत प्रवाह का उपयोग करके एक आउट पेशेंट पर इलेक्ट्रोथेरेपी की जा सकती है, या एक उच्च खुराक दी जा सकती है, जब व्यक्ति को सामान्य एनेस्थीशिया या रीढ़ की हड्डी में एनेस्थीशिया दिया गया होता है।

आप इलेक्ट्रोथेरेपी के दौरान या बाद में कुछ हल्के दर्द का अनुभव कर सकते हैं, लेकिन ज्यादातर मामलों में यह लंबे समय तक नहीं रहता है। इस प्रक्रिया का एक और संभावित दुष्प्रभाव गुदा से रक्तस्राव होना है, लेकिन यह आमतौर पर थोड़े समय के लिए होता है।

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड केयर एक्सीलेंस (एनआईसीई) द्वारा इलेक्ट्रोथेरेपी की सिफारिश की जाती है, और इसे छोटे बावासीर के उपचार की एक प्रभावी विधि माना जाता है।

यह बड़े बावासीर के इलाज के लिए सर्जरी के एक विकल्प के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इसके प्रभावशाली होने के बहुत कम सबूत हैं।

सर्जरी

यद्यपि अधिकांश बावासीर का इलाज ऊपर वर्णित विधियों का उपयोग करके किया जा सकता है, हर 10 में से लगभग 1 व्यक्ति को आखिर में सर्जरी की आवश्यकता होती ही है।

सर्जरी ऐसे बावासीर के लिए विशेष रूप से उपयोगी है जो डेंटेट लाइन के नीचे विकसित हुई है - गैर-सर्जिकल उपचारों के उलट, अनेस्थिशिआ का उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि आपको कोई दर्द महसूस न हो।

कई अलग-अलग प्रकार की सर्जरी हैं जिनका उपयोग बावासीर के इलाज के लिए किया जा सकता है, लेकिन वे सभी आमतौर पर या तो बावासीर को दूर करते हैं या उनकी रक्त की आपूर्ति को कम करते हैं, जिससे वे सिकुड़ जाते हैं।

बावासीर के लिए सर्जरी के बारे में अधिक पढ़ें।

होमोर्रोइडेक्टोमी

होमोर्रोइडेक्टोमी बावासीर को हटाने के लिए एक ऑपरेशन है। यह आमतौर पर सामान्य अनेस्थेशिआ दे कर किया जाता है, जिसका अर्थ है कि आप प्रक्रिया के दौरान बेहोश हो जाएंगे और इसे करते समय कोई दर्द महसूस नहीं होगा।

एक पारंपरिक होमोर्रोइडेक्टोमी में गुदा को धीरे से खोला जाता है ताकि बावासीर को काटा जा सके। आपको ठीक होने के लिए एक या दो सप्ताह का समय लग सकता है।

ऑपरेशन के बाद आपको शायद तेज़ दर्द का अनुभव होगा, लेकिन आपको दर्द निवारक दवा दी जाएगी। प्रक्रिया के कुछ हफ्तों बाद भी आपको दर्द हो सकता है, जिसे दर्द निवारक दवाओं से भी नियंत्रित किया जा सकता है। यदि आपको फिर भी दर्द है जो लंबे समय तक जारी रहता है, तो चिकित्सीय सलाह लें।

होमोर्रोइडेक्टोमी होने के बाद, बावासीर के वापस लौटने का 20 में से लगभग 1 बार खतरा होता है, जो गैर-सर्जिकल उपचारों की तुलना में कम है। इस जोखिम को कम करने के लिए सर्जरी के बाद उच्च फाइबर वाले आहार को अपनाने या जारी रखने की सलाह दी जाती है।

बावासीर धमनी बंधाव

बावासीर धमनी बंधाव आपके बावासीर रक्त प्रवाह को कम करने के लिए एक ऑपरेशन है।

यह आमतौर पर सामान्य अनेस्थेशिआ दे कर किया जाता है और इसमें आपकी गुदा में एक छोटी अल्ट्रासाउंड प्रॉब डाला जाता है। जांच उच्च आवृत्ति ध्वनि वाली तरंगें पैदा करती हैं जो सर्जन को बावासीर को रक्त की आपूर्ति करने वाली नाड़ी का पता लगाने में मदद करती है।

रक्त की आपूर्ति को बावासीर में जाने से रोकने के लिए प्रत्येक रक्त वाहिका को बंद किया जाता है, जिसके कारण यह आने वाले दिनों और हफ्तों में सिकुड़ जाता है। जो गुदा से नीचे लटकते हैं (प्रलापिंग), ऐसे बावासीर को कम करने के लिए टांके का उपयोग भी किया जा सकता है।

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड केयर एक्सीलेंस (एनआईसीई) बावासीर धमनी बंधाव की सिफारिश करता है जो एक बावासीर होमोर्रोइडेक्टोमी या स्टेपल हेमराहाइडोफेक्सी की तुलना में सुरक्षित और प्रभावी विकल्प है। इसमें कम दर्द होता है और, और जहाँ तक परिणामों का साल है, उच्च स्तर की संतुष्टि की सूचना मिली है।

बावासीर धमनी बंधाव के बाद सामान्य होने में लगने वाला समय भी अन्य शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं की तुलना में कम है। इस प्रक्रिया के बाद बावासीर का खतरा कम हो जाता है, मल त्याग करते समय दर्द या रक्तस्त्राव कम हो जाता है, लेकिन ये आमतौर पर कुछ ही हफ्तों में ठीक हो जाते हैं।

स्टैपल

स्टेपलिंग, जिसे स्टेपल हेमराहाइडोफेक्सी के रूप में भी जाना जाता है, पारंपरिक हेमराहाइडेक्टोमी का एक विकल्प है। यह कभी-कभी प्रोलैप्स हेमोरोइड के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है और सामान्य अनेस्थेशिआ दे कर किया जाता है।

यह प्रक्रिया जितनी बार पहले इस्तेमाल की जाती थी उतनी अब नहीं की जाती क्योंकि इसमें बाकी वैकल्पिक उपचारों की तुलना में गंभीर जटिलताओं का जोखिम थोड़ा अधिक होता है।

ऑपरेशन के दौरान, एनोरेक्टम - बड़ी आंत का अंतिम हिस्सा - स्टेपल किया जाता है। इसका मतलब है कि बावासीर के आगे फैलने की संभावना कम है। यह बावासीर में रक्त को भी कम कर देता है, जिसके कारण वे धीरे-धीरे सिकुड़ जाती हैं।

स्टेपलिंग में पारंपरिक होमोर्रोइडेक्टोमी की तुलना में वापस सामान्य होने में समय कम लगता है, और आप संभवतः एक सप्ताह बाद काम पर लौट सकते हैं। इस प्रक्रिया में दर्द भी कम होता है।

हालांकि, स्टेपल करने के बाद, अधिकांश लोगों को होमोर्रोइडेक्टोमी की तुलना में एक और आगे बढ़े हुआ बावासीर का अनुभव होता है।

स्टेपलिंग प्रक्रिया के बाद गंभीर जटिलताओं की भी बहुत कम घटनाएँ हुई है, जैसे महिलाओं में फिस्टुला से योनि, जहां गुदा नलिका और योनि के बीच एक छोटा चैनल विकसित होता है, या गुदा में छिद्र, जिसमें मलाशय में एक छेद बन जाता है।

अन्य उपचार

उपचार के अन्य विकल्प उपलब्ध हैं, जिसमें फ्रीज़िंग और लेजर उपचार शामिल हैं। हालांकि, इन उपचारों को करने वाले एनएचएस या निजी सर्जनों की संख्या कम है।

बावासीर सर्जरी के सामान्य जोखिम

यद्यपि गंभीर समस्याओं का जोखिम कम है, लेकिन बावासीर सर्जरी के बाद कभी-कभी जटिलताएं हो सकती हैं।

इनमें शामिल हो सकते हैं:

  • रक्त के थक्के जमना या खून बहना, जो ऑपरेशन के एक हफ्ते बाद तक हो सकता है
  • संक्रमण, जिसके कारण मवाद का निर्माण हो सकता है (फोड़ा) - इस जोखिम को कम करने के लिए आपको सर्जरी के बाद एंटीबायोटिक्स का एक छोटा कोर्स दिया जा सकता है।
  • आपके मूत्राशय (मूत्र जमा होना) को खाली करने में कठिनाई
  • न चाहते हुए भी मल का गुजरना (असंयम मल )
  • गुदा के पास और गुदा की त्वचा की सतह के बीच एक छोटे चैनल का विकसित होना (गुदा फिस्टुला)
  • गुदा नलिका का संकीर्ण होना (स्टेनोसिस) - यह जोखिम तब सबसे अधिक होता है जब गुदा नहर के अस्तर के चारों ओर एक रिंग बनी हो और आपका बावासीर का उपचार उसके लिए हुआ हो

इन समस्याओं का इलाज अक्सर दवा या और एक सर्जरी से किया जा सकता है। सर्जरी करने का निर्णय लेने से पहले अपने सर्जन से जोखिमों के बारे में अधिक विस्तार से पूछें।

डॉक्टरी सलाह कब लें

जहाँ आपकी सर्जरी हुई थी उस अस्पताल की यूनिट से या आपके डॉक्टर से चिकित्सीय सलाह लें, यदि आपको इनमें से कुछ भी अनुभव हो तो:

  • अत्यधिक रक्तस्राव
  • तेज़ बुखार
  • पेशाब करने में समस्या आना
  • आपके गुदा के आस-पास का दर्द या सूजन बढ़ना

यदि आप अस्पताल या अपने डॉक्टर से संपर्क करने में असमर्थ हैं, तो अपने निकटतम दुर्घटना और आपातकालीन (ए एंड ई) विभाग में जाएँ।

NHS Logo
शीर्ष पर लौटें