जिऑरडायसिस

जिऑरडायसिस पाचन तंत्र का संक्रमण है जो छोटे परजीवीओं के कारण होता है जिसे जिआर्डिया इंटेस्टाइनेलिस के नाम से जाना जाता है (जिसे जिआर्डिया लैंब्लिया या जिआर्डिया डुओडेनालिस भी कहा जाता है)

प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा लिखित और समीक्षा की गई जानकारी।

विषय-वस्तु

परिचय

जिऑरडायसिस पाचन तंत्र का संक्रमण है जो छोटे परजीवीओं के कारण होता है जिसे जिआर्डिया इंटेस्टाइनेलिस के नाम से जाना जाता है (जिसे जिआर्डिया लैंब्लिया या जिआर्डिया डुओडेनालिस भी कहा जाता है)

दस्त जिऑरडायसिस का सबसे आम लक्षण है।

अन्य लक्षणों में पेट की ऐंठन, सूजन और पेट फूलना शामिल हो सकता है। यध्यपि ये लक्षण अक्सर अप्रिय होते हैं, लेकिन आमतौर पर जिऑरडायसिस स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा पैदा नहीं करता है और आसानी से इलाज किया जा सकता है।

और पढ़ें जिऑरडायसिस के लक्षणों के बारे में.

डॉक्टर को कब दिखाना है

यदि आपको दस्त, ऐंठन, सूजन और मचली के लक्षण हैं जो एक हफ्ते से अधिक समय तक चलते हैं, खासकर यदि आपने हाल ही में विदेश यात्रा की है तो अपने डॉक्टर को दिखाएँ।

जिऑरडायसिस के निदान की पुष्टि करने के लिए आपको अपने डॉक्टर को प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए अपने मल के कुछ नमूने भेजना पड़ सकता है। सही निदान सुनिश्चित करने में सहायता के लिए तीन दिनों तक तीन नमूने लेने की आवश्यकता हो सकती है।

जिऑरडायसिस का इलाज आमतौर पर एंटीबायोटिक दवा से सफलतापूर्वक किया जाता है जो जिऑरडायसिस परजीवी को मारता है। ज्यादातर मामलों में, मेट्रोनिडाज़ोल या टिनिडाज़ोल नामक दवाओं का उपयोग किया जाता है।

और पढ़ें जिऑरडायसिस के इलाज के बारे में.

जिऑरडायसिस कैसे फैलता है?

अधिकांश लोग जिआर्डिया परजीवी से दूषित पानी पी कर, या संक्रमित व्यक्ति के साथ सीधे संपर्क में आने से जिऑरडायसिस से संक्रमित हो जाते हैं।

अगर एक संक्रमित व्यक्ति शौचालय का उपयोग करने के बाद अपने हाथों को ठीक से नहीं धोता और भोजन का काम करता है और यदि वह भोजन दूसरा व्यक्ति खाता है तो जिऑरडायसिस संक्रमण फ़ैल सकता है। संक्रमित पानी से धोए जाने पर भी भोजन दूषित हो सकता है।

अच्छी स्वच्छता की आदत डालना - जैसे नियमित रूप से साबुन और पानी से अपने हाथ धोना - और कम स्वच्छता रखने वाले देशों में पेयजल पीते समय ख्याल रखना, जिऑरडायसिस होने के आपके ख़तरे को कम करने में मदद कर सकता है।

और पढ़ें जिऑरडायसिस के कारणों और जिऑरडायसिस को रोकने के बारे में.

कौन प्रभावित होता है?

जिऑरडायसिस दुनिया में लगभग हर जगह होता है, लेकिन विशेष रूप से वहाँ होता है जहां स्वच्छ पानी सीमित है और स्वच्छता का ख्याल नहीं रखा जाता है।

यह सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है लेकिन छोटे बच्चों और उनके माता-पिता में सबसे आम है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नैप्पी बदलने जैसी गतिविधियां संक्रमण के जोखिम को बढ़ाती हैं।

जिऑरडायसिस के अधिकांश मामले अपनी तरह के एक ही होते हैं, लेकिन परिवारों के सदस्यों और नर्सरी में कभी-कभी छोटे-छोटे मामले हो सकते हैं। बड़े पैमाने पर घटनाएं आमतौर पर प्रदूषित जल स्रोतों जैसे कि पीने के पानी वाले कुएं या जल पार्क से होती हैं।

लक्षण

जिऑरडायसिस के लक्षण आमतौर पर जिऑरडायसिस संक्रमण होने के 4-10 दिनों बाद दिखने लगते हैं, लेकिन वे तीन हफ्ते बाद भी दिखाई दे सकते हैं।

वे अचानक शुरू हो सकते हैं या कई दिनों में धीरे-धीरे भी विकसित हो सकते हैं।.

सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

आप उल्टी और 37-38ºC (98.6-100.4ºF) का हल्का बुखार भी अनुभव कर सकते हैं, हालांकि ये लक्षण बहुत आम नहीं हैं।

अगर इलाज नहीं किया जाता है, तो धीरे-धीरे सुधरने से पहले लक्षण लगभग एक या दो महीने तक रह सकते हैं।

कुछ थोड़े से लोगों में लम्बे समय वाली (पुरानी) जिऑरडायसिस हो जाती है, जो दस्त के लगातार या बार बार होने वाले दौरों के कारण बनती है जो दो साल तक चल सकती है। बच्चों में, लम्बे समय वाली जिऑरडायसिस के कारण उनके ठीक तरह से बढ़ने में विफलता हो सकती है। इसे चिकित्सीय शब्दावली में पनपने में विफलता कहते है।

हालांकि, लम्बे समय वाली जिऑरडायसिस उन लोगों के बीच दुर्लभ है जिन्होंने इसका इलाज किया है।

और पढ़ें जिऑरडायसिस के इलाज के बारे में.

डॉक्टर से सलाह कब लेना चाहिए

यदि आपको दस्त, क्रैम्प, सूजन और मचली के लक्षण हैं जो एक सप्ताह से अधिक समय तक चलते हैं तो अपने डॉक्टर से मिलें।

यदि आपके बच्चे या नवजात शिशु में दस्त है जो दो या तीन दिनों से अधिक समय तक चल रहा है, या पिछले 24 घंटों में दस्त के छह या अधिक एपिसोड हैं, तो आपको उन्हें अपने डॉक्टर को दिखाने के लिए ले जाना चाहिए।

कारण

जिऑरडायसिस सूक्ष्म परजीवी के कारण होता है जिसे जिआर्डिया इंटेस्टाइनेलिस के रूप में जाना जाता है। परजीवी मनुष्यों और जानवरों की आंतों में रहते हैं। ज्यादातर मामलों में, संक्रमण अन्य मनुष्यों से फैलता है।

ज्यादातर मामलों में, परजीवी के कोई भी लक्षण नहीं दिखते हैं, और लोगों को यह पता भी नहीं चलता कि वे संक्रमित हैं। दुनिया के उन हिस्सों में जहां जिऑरडायसिस फैला हुआ है, अनुमानित पांच लोगों में से एक को संक्रमण हो सकता है।

जिऑरडायसिस कैसे फैलता है

आंतों के अंदर, परजीवी एक कठोर सुरक्षात्मक खोल बनाते हैं जिसे जियार्डिया सिस्ट कहा जाता है।

जब जिऑरडायसिस से संक्रमित कोई व्यक्ति मल करता है, तो आंतों के अंदर के कुछ सिस्ट मल के माध्यम से शरीर से बाहर निकल सकते हैं।

जिआर्डिया सिस्ट शरीर के बाहर कई हफ्तों या महीनों तक जीवित रह सकते हैं।

एक बार शरीर से बाहर जाने के बाद, जिऑरडायसिस आमतौर पर पीने के पानी से फैलता है जो संक्रमित मल से दूषित हो गया है। यह आमतौर पर उन देशों में होता है जिनमें स्वच्छता का ख्याल नहीं रखा जाता और स्वच्छ पानी तक पहुंच सीमित होती है।

जिआर्डियासिस लोगों के बीच सीधे संपर्क के माध्यम से भी फैल सकता है।

कभी कभी, जिआर्डियासिस तब फैलता है जब एक संक्रमित व्यक्ति शौचालय जाने के बाद अपने हाथों को ठीक से नहीं धोता है और परजीवी सतहों, बर्तनों या भोजन पर पहुँच जाते हैं। कोई भी जो संक्रमित सतह को छूता है, संक्रमित बर्तन का उपयोग करता है, या दूषित भोजन खाता है, परजीवी उनके मुंह में जा सकते हैं और वो संक्रमित हो सकता है।

किसको खतरा है?

माता-पिता या शिशु की देखभाल करने वाले कार्यकर्ता जो जिआर्डियासिस से संक्रमित बच्चे की नैप्पी बदलते हैं, संक्रमित मल गलती से मुंह में जाने से ये स्थिति होने का जोखिम बढ़ जाता है।

जोखिम उन वातावरणों में अधिक होता है जहां कई बच्चे होते हैं और अक्सर नैप्पी बदलते हैं, जैसे डे केयर सेंटर और नर्सरी।

धाराओं और झीलों से प्रदूषित पानी पीने के बाद पदयात्री और शिविरक़ों में जिआर्डियासिस होने के कई मामले देखे जा रहे हैं। आपको कभी भी असंसाधित पानी नहीं पीना चाहिए (पानी जिसे उबला न गया हो या रासायनिक रूप से संसाधित नहीं किया गया है) चाहे वो पानी दिखने में कितना भी साफ़ लगे।

जिआर्डियासिस के कुछ मामले मनोरंजक जल क्षेत्रों से जुड़े हुए हैं, जैसे जल पार्क और स्विमिंग पूल, जो जिआर्डियासिस परजीवी से दूषित हो गए हैं।

दुनिया के कुछ ऐसे हिस्सों में जहां पानी की स्वच्छता का ध्यान नहीं रखा जाता है, यात्रा करने वाले लोगों में जिआर्डियासिस होने का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि, संक्रमित होने के बाद लक्षणों के देर से दिखने के कारण, ज्यादातर लोगों में घर लौटने तक कोई लक्षण नहीं दिखाई देता।

जो लोग नियमित गुदा सेक्स करते है उनमें जिआर्डियासिस होने का ख़तरा बढ़ जाता है, क्योंकि जिआर्डिआ परजीवी यौन संभोग के दौरान गुदा (पीछे की ओर) से मुँह तक जा सकते हैं।

पढ़ें जिआर्डियासिस को रोकने के बारे में इस स्थिति के बनने के जोखिम को कम करने के बारे में सलाह

इलाज

जिआर्डियासिस का आमतौर पर उन दवाओं से सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है जो संक्रमण के लिए जिम्मेदार परजीवी को मार देते हैं।

मैट्रोनिडाज़ोल

आमतौर पर एंटीबायोटिक मेट्रोनिडाज़ोल का उपयोग किया जाता है।

इसे आमतौर पर टैबलेट फॉर्म (मौखिक रूप से) में लिया जाता है। उपचार के लिए बताया गया कोर्स आपकी आयु और शरीर के वजन जैसे कारकों पर निर्भर करेगा, लेकिन यह तीन से 10-दिन के कोर्स तक हो सकता है।

आपका डॉक्टर या फार्मासिस्ट आपकी व्यक्तिगत परिस्थितियों को देख कर आपको ठीक सुझाव दे सकता है।

वयस्कों और बच्चों में मैट्रोनिडाज़ोल अच्छी तरह से सहन हो जाता है। गंभीर दुष्प्रभाव बहुत कम देखे जाते हैं।

सबसे अधिक रिपोर्ट किए गए दुष्प्रभाव आमतौर पर पाचन तंत्र को प्रभावित करने वाले हल्के होते हैं, जैसे कि:

  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • दस्त
  • पेट दर्द

मैट्रोनिडाज़ोल भी चक्कर आने और उनींदापन का कारण बन सकता है (नीचे देखें)।

टिनिडाज़ोल

टिनिडाज़ोल नामक एक दवा जो कभी-कभी मेट्रोनिडाज़ोल के विकल्प के रूप में उपयोग की जाती है।

अधिकांश लोगों को केवल टिनिडाज़ोल की एक खुराक की आवश्यकता होती है। मेट्रोनिडाज़ोल की तरह, टिनिडाज़ोल पाचन तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। साइड इफेक्ट्स में शामिल हैं:

  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • भूख में कमी
  • दस्त
  • पेट दर्द या ऐंठन
  • सरदर्द
  • थकान
  • आपके मुंह में अप्रिय धातु का स्वाद
  • आपके मूत्र का रंग गाढ़ा होना

मेट्रोनिडाज़ोल और टिनिडाज़ोल के बारे में अधिक जानकारी के लिए [जिआर्डियासिस दवाइयों की जानकारी] देखें।

चेतावनी

दुर्लभ अवसरों में, कुछ लोगों को मेट्रोनिडाज़ोल लेकर चक्कर आते हैं या नींद महसूस करते हैं। यदि यह आपके साथ होता है, तो बिजली के उपकरण या मशीनरी का उपयोग करने या ड्राइविंग से बचें।

मेट्रोनिडाज़ोल या टिनिडाज़ोल लेने के दौरान या अपनी खुराक खत्म करने के 48 घंटे बाद तक शराब न पीएं। इन प्रकार की दवाओं के साथ शराब मिलाने से खराब साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार मेट्रोनिडाज़ोल का सावधानी से उपयोग किया जाना चाहिए, ।

यदि आपको जिआर्डियासिस हुआ है, तो आपके घर के अन्य सदस्यों को इलाज करने की सलाह दी जा सकती है। अगर उन्हें संक्रमण भी हुआ है तो इसे बचाव के उपाय के रूप में करने के लिए कहा जा सकता है। आपका डॉक्टर आपको बतायेगा कि इलाज की ज़रूरत है या नहीं।

बचाव

जिआर्डियासिस अक्सर अच्छी स्वच्छता रख के और कुछ सामान्य ज्ञान सावधानी बरतकर रोका जा सकता है।

अपने हाथ घोयें

जिआर्डियासिस को रोकने का सबसे प्रभावी तरीका नियमित रूप से अपने हाथ धोना है, विशेष रूप से:

  • शौचालय जाने के बाद
  • एक नैप्पी बदलने के बाद
  • भोजन बनाने और खाने से पहले

अपने हाथों को साबुन और पानी से कम से कम 15 से 20 सेकंड तक धोएं, यह सुनिश्चित कर लें कि आप अपने हाथों को सामने और पीछे से साफ करें। अपने हाथ धोने के बाद, उन्हें एक साफ तौलिये से सूखा लें। आपको अपने बच्चों को नियमित रूप से अपने हाथ धोने के लिए भी प्रोत्साहित करना चाहिए।

जल सुरक्षा

जल शोधन प्रणाली की वजह से ये असंभव ही है कि नल का पानी जिआर्डियासिस से दूषित हो सकता है। हालांकि, इस देश में और विदेश यात्रा करते समय नदियों और झीलों से असंसाधित पानी पीने से बचें।

स्विमिंग पूल, पैडलिंग पूल और वॉटर पार्क जैसी मनोरंजक सुविधाएं कभी-कभी दूषित हो सकती हैं, खासकर यदि उनका उपयोग छोटे बच्चों द्वारा किया जाता है जो पानी में रहते हुए गलती से गंदगी कर सकते हैं। ऐसी सुविधा का उपयोग करते समय पानी पीने से बचें। जिआर्डिया परजीवी क्लोरिनेटेड पानी में जीवित रह सकते हैं, इसलिए आपको यह नहीं मानना ​​चाहिए कि क्लोरिनेटेड पानी सुरक्षित है।

यदि आप शिविर में जा रहे हैं, तो यह सिफारिश की जाती है कि आप पीने से पहले पानी उबालें।

विदेश यात्रा

यदि आप उन देशों की यात्रा कर रहे हैं जहां जिआर्डियासिस फैला हुआ है और स्वच्छता का ख्याल नहीं रखा जाता है, तो केवल बोतलबंद पानी पीएं। उपयोग करने से पहले ये सुनिश्चित करें कि बोतल सील बंद है। अपने दांतों को ब्रश करते समय भी आपको बोतलबंद पानी का ही उपयोग करना चाहिए।

कच्चे फल और सब्जियों को खाने से बचें क्योंकि उन्हें किसी ऐसे व्यक्ति ने छुआ हो सकता है जिसे जिआर्डियासिस हो।

जिन जगहों पर जिआर्डियासिस फ़ैला है उनमें शामिल हैं:

  • सब-सहारा अफ्रीका - सहारा रेगिस्तान के दक्षिण में सभी देश, जैसे दक्षिण अफ्रीका, गाम्बिया और केन्या
  • दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया, विशेष रूप से भारत और नेपाल
  • मध्य अमरीका
  • दक्षिण अमेरिका
  • रूस
  • टर्की
  • रोमानिया
  • बुल्गारिया
  • पूर्व युगोस्लाविया (क्रोएशिया, सर्बिया और मॉन्टेनेग्रो, स्लोवेनिया, मैसेडोनिया, और बोस्निया और हर्जेगोविना के देश)

संक्रमण को फैलने से रोकना

यदि आपको जिआर्डियासिस हुआ है (या यहां तक ​​कि यदि आपको एक-दो बार दस्त हुए हैं जिसका निदान नहीं किया गया है), तो आपके घर के अन्य सदस्यों को संक्रमित होने से रोकने के लिए सावधानी बरतना बहुत महत्वपूर्ण है। आपको करना चाहिए:

  • नियमित रूप से अपने हाथ धोएं
  • खाना पकाएं या छुएं नहीं, जो आपके घर के अन्य सदस्यों द्वारा खाया जाएगा
  • बर्तन या तौलिए साझा करने से बचें

यह कहा जाता है कि आप काम या कॉलेज से दूर रहें और स्विमिंग पूल से बचें जब तक कि आप 48 घंटों तक पूरी तरह से लक्षणों से मुक्त न हों। इसी प्रकार, आपके बच्चे को स्कूल या नर्सरी से दूर रखना चाहिए जब तक कि वे 48 घंटों तक लक्षणों से पूरी तरह से मुक्त न हों।

सेक्स

यदि आप अक्सर गुदा सेक्स करते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप उस कंडोम को, जो गुदा सेक्स के दौरान इस्तेमाल किया गया है, छूने के बाद और गुदा को छूने के बाद अपने हाथ धोएं।

सेक्स का एक तरीका 'रिमिंग' कहलाता है, जिसमें एक साथी दूसरे साथी के गुदा को चूमता या चाटता है, इससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। जिआर्डियासिस और अन्य प्रकार के संक्रमण के बढ़ते खतरे के कारण, ये करने की सिफारिश नहीं की जाती है।

स्टुअर्ट की कहानी

दक्षिण अमेरिका में छुट्टी के दौरान स्टुअर्ट कोल को जिआर्डिया हुआ।

"मैंने ब्राजील, बोलीविया, पेरू, कोलंबिया और वेनेजुएला में बस चार महीने बिताए। लक्षणों के समय के आधार पर फैसला करते हुए, मुझे लगता है कि ये मुझे शायद कोलंबिया में नदियों में तैरते समय हुआ है, जहां मैं लॉस्ट सिटी में ट्रेकिंग कर रहा था, या दूषित पानी पीने से।

"घर वापस आने के दो सप्ताह बाद मुझे पेट में सूजन और दस्त होना शुरू हो गया। मैंने डॉक्टर को दिखाया, जिसने सोचा कि यह इर्रिटेटेड बोवेल सिंड्रोम हो सकता है। उन्होंने मुझे गेहूं खाने से मना किया। मैंने ऐसा किया, लेकिन छह हफ्ते बाद भी मैं बेहतर नहीं हुआ, इसलिए मैं डॉक्टर के पास गया। जब मैंने बताया कि शायद यात्रा दौरान ये हुआ होगा, तो मुझे उष्णकटिबंधीय रोगों के लिए अस्पताल भेजा गया। उन्होंने रक्त परीक्षण किया और मूत्र और मल के नमूनों को लिया। उन्होंने मुझे बताया कि मुझे जिआर्डिया है और मुझे कुछ एंटीबायोटिक दवाएं दीं। पहले कोर्स ने काम नहीं किया, इसलिए मुझे दूसरा कोर्स दिया गया, जो असरदार रहा।

"जिआर्डिया ने मेरी आंत पर एक निशान छोड़ दिया है, और मुझेख्याल रखना होगा कि मैं क्या खा रहा हूं। अगर मैं बहुत सारा गेहूं खाता हूँ - रोटी या पास्ता जैसी चीजें - मैं बहुत जल्दी फूल जाता हूं।

"अन्य यात्रियों को मेरी सलाह है कि आप क्या खाते हैं और पीते हैं इसका खयाल आपको रखना होगा। मैं इस मुद्दे पर काफी सावधानी बरत रहा था जब हम लॉस्ट सिटी में गए, जो पहाड़ों में है, सभ्यता से चार दिन दूर। लेकिन उस ट्रेक पर हमने गाइड पर भरोसा कर लिया कि पानी सुरक्षित है। वहाँ पर खुली आग में खाना पकाया जाता था और मैं जो खा रहा था और पी रहा था, उसके बारे में इतना सावधान नहीं था। मेरी दूसरी युक्ति यह है कि आप अपने डॉक्टर से ज़रूर बात करें कि आप यात्रा करने वाले हैं। मैंने पहले ये नहीं किया, और निदान में देरी हुई। "

द्वारा आपूर्ति की गई NHS Choices