क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम(Electrocardiogram/ECG) आपके हार्ट की लय(rhythm) तथा विद्युतीय क्रियाओं को जांचने का एक सामान्य टेस्ट है।

त्वचा से जुड़े संवेदकों(Sensors) का प्रयोग आपके हृदय के हर बार धड़कने से उत्पन्न विद्युतीय संकेतों का पता लगाने के लिए किया जाता है।

ये संकेत एक मशीन द्वारा रिकॉर्ड किए जाते हैं तथा डॉक्टर इन्हें देख कर यह पता लगाते हैं कि यह असामान्य हैं या नहीं।

एक हृदय रोग विशेषज्ञ(cardiologist) अथवा अन्य डॉक्टर जिनको यह लगता हो कि आपके हृदय में कोई समस्या है वो ईसीजी(ECG) जांच करवाने के लिए कह सकते हैं।

यह जांच आमतौर पर किसी हॉस्पिटल या क्लीनिक में एक प्रशिक्षित विशेषज्ञ द्वारा की जाती है ,लेकिन कभी-कभी यह आपके डॉक्टर के क्लीनिक पर भी किया जा सकता है।

एक जैसा नाम होने के बावजूद ईसीजी(ECG) इकोकार्डियोग्राम(echocardiogram) के जैसा नहीं होता, जो हार्ट का एक स्कैन होता है।

ईसीजी(ECG) का प्रयोग कब होता है?

अन्य परीक्षणों के साथ ईसीजी(ECG) का प्रयोग आमतौर पर, हार्ट को प्रभावित करने वाली स्थितियों की जाँच तथा उनकी जांच में सहायता के लिए किया जाता है।

इसका प्रयोग किसी संभावित हार्ट समस्या के लक्षणों की जांच के लिए किया जा सकता है, जैसे सीने में दर्द (chest pain), दिल की धड़कनों का अचानक बढ़ना (palpitations), चक्कर आना(dizziness) तथा सांस लेने में कठिनाई होना(shortness of breath)।

ECG से निम्न स्थितियों का पता लगाने में सहायता मिल सकती है:

  • एरिथमिया(Arrhythmias)- जिसमें हार्ट अत्यंत धीमी गति से, अत्यंत तेज गति से या अनियमित रूप से धड़कता है
  • कोरोनरी हार्ट डिज़ीज(Coronary heart disease) - जिसमें वसा पदार्थों के एकत्र होने से हार्ट की रक्त आपूर्ति अवरुद्ध अथवा बाधित हो जाती है
  • हार्ट अटैक(Heart attacks) - जिसमें हार्ट की रक्त आपूर्ति अचानक ही रुक जाती है।
  • कार्डियोमायोपैथी(Cardiomyopathy)- जहां हार्ट की दीवार मोटी अथवा बढ़ जाती है

जिस व्यक्ति में पहले ही किसी हार्ट स्थिति होने की पुष्टि हुई हो अथवा वे हार्ट को प्रभावित करने वाली किसी दवाई का सेवन कर रहे हो तो ऐसे व्यक्तियों में कुछ समय तक लगातार ईसीजी (ECG) हो सकते हैं।

ईसीजी (ECG) कैसे किया जाता है?

ECG करने के कई तरीके हो सकते हैं, आमतौर पर इस टेस्ट में आपकी बांहों, टांगों तथा सीने पर अनेक छोटे तथा चिपकने वाले संवेदक(sensors) लगाए जाते हैं। यह तारों द्वारा ECGरिकार्ड करने वाली एक मशीन से जुड़े होते हैं।

आपको इस टेस्ट की तैयारी के लिए कोई विशिष्ट कार्य करने की आवश्यकता नही होती। आप पहले की तरह सामान्य रूप में खाना पीना कर सकते हैं।

इलेक्ट्रोडस(Electrodes) को लगाने से पहले, आपको सामान्यतः अपने ऊपर वाले कपड़े हटाने की आवश्यकता होगी,तथा कभी कभी आपके छाती के बालों को हटाने की भी आवश्यकता पड़ सकती है| जब इलेक्ट्रोडस (electrodes) को अपने स्थान पर लगा दिया जाता है तो आपको पहनने के लिए एक गाउन दिया जा सकता है |

यह टेस्ट सामान्यतः कुछ मिनटों में हो जाता है तथा इसके बाद आप अपने घर जा सकते हैं अथवा यदि आप अस्पताल में भर्ती हों तो अपने वार्ड में जा सकते हैं।

ईसीजी (ECG) के प्रकार

ईसीजी (ECG) मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है:

  • रेस्टिंग ईसीजी (Resting ECG) - यह उस समय किया जाता है जब आप एक सहज अवस्था में लेटे होते हैं
  • स्ट्रेस या व्यायाम ईसीजी (Stress or exercise ECG)- इसमें मरीज़ को ट्रेडमिल पर चलने या साइकिल की सवारी करने के लिए कहा जाता है
  • एंबुलेट्री ईसीजी (Ambulatory ECG) - इसमें इलेक्ट्रोड्स(electrodes) कमर पर पहनी जा सकने वाली एक छोटी उठाने योग्य(portable) मशीन से जुड़े होते हैं, जिससे घर पर एक या अधिक दिनों के लिए आपके हार्ट की जांच की जा सके।

आपको किस प्रकार का ईसीजी निर्देशित किया जाता है यह आपके लक्षणों तथा संदिग्ध हार्ट समस्या पर निर्भर करेगा।

उदाहरण के लिए, व्यायाम ईसीजी(exercise ECG) तब निर्देशित की जा सकती है जब आप के लक्षण किसी शारीरिक क्रिया से बढ़ जाते हों, जबकि एंबुलेट्री ईसीजी(ambulatory ECG) उस समय अधिक उपयुक्त हो सकती है जब आपके लक्षण अप्रत्याशित हो तथा थोड़े समय के लिए एवं अनियमित रूप में उत्पन्न होते हों।

परिणाम

सामान्य तौर पर ECG रिकॉर्ड करने वाली मशीन आपके हार्ट की लय तथा विद्युतीय क्रियाओं को ग्राफ द्वारा इलेक्ट्रॉनिक तरीके से दर्शाकर अथवा कागज़ पर छापकर प्रदर्शित करती है।

एंबुलेट्री ईसीजी(Ambulatory ECG) में, ECG मशीन आपके हार्ट के बारे में जानकारी इलेक्ट्रॉनिक तरीके से संग्रहित करती है, जिसको टेस्ट पूरा हो जाने पर डॉक्टर देख सकते हैं।

आपको आपके ECG का रिजल्ट तुरंत मिल जाएगा, ऐसा हमेशा संभव नहीं होता क्योंकि इसकी रिकॉर्डिंग को विशेषज्ञ डॉक्टर द्वारा देखा जाता है, जिससे संभावित समस्या के चिन्हों का निर्धारण किया जा सके। यह बताने से पूर्व कि आपको कोई समस्या है या नही, कुछ अन्य जाँचों को भी करवाने की आवश्यकता पड़ सकती है।

डॉक्टर से अपने परिणामों के विषय में विचार विमर्श करने के लिए आपको कुछ दिनों बाद अस्पताल, क्लीनिक या अपने डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता हो सकती है।

क्या इसमें कोई जोखिम या दुष्प्रभाव होता है?

ECG एक तुरंत होने वाली, सुरक्षित तथा दर्द रहित जांच है। इसको करते समय आपके शरीर में कोई विद्युत प्रवाह नहीं कराया जाता।

जब आपकी त्वचा से इलेक्ट्रोडस(electrodes) को हटाया जाता है तब आपको थोड़ा सा कष्ट हो सकता है - चिपके हुए प्लास्टर को निकालने के समान - तथा कुछ लोगों में जहां इलेक्ट्रोडस(electrodes) चिपकाये गए थे उस स्थान पर हल्के चकते उत्पन्न हो सकते हैं।

एक आशंका यह है कि एक्सर्सायज़ ईसीजी (exercise ECG) के समय आपके हार्ट में होने वाले तनाव के कारण, आपको कुछ समस्याओं का अनुभव हो। जैसे सीने में दर्द, अनियमित धड़कन अथवा कुछ मामलों में हृदयाघात (heart attack), लेकिन टेस्ट के दौरान आपकी सावधानीपूर्वक देखभाल की जाएगी तथा यदि आप अस्वस्थ महसूस करने लगते हैं तो इसे रोका जा सकता है।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।