क्या आप कोरोना वायरस को लेकर चिंतित हैं? इसके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारे कोरोनावायरस हब पर जाएँ.

×
Your.MD के सभी लेखों (A-Z) की समीक्षा प्रमाणित डॉक्टरों द्वारा की जाती है

ब्लड प्रेशर टेस्ट

आपके उच्च या निम्न ब्लड प्रेशर की जाँच करने का एक सरल तरीका ब्लड प्रेशर टेस्ट है।

आपके शरीर में प्रवाहित होते समय जिस ताकके साथ आपका रक्त आपकी धमनियों के किनारों पर धकेलता है उसे ब्लड प्रेशर बोलते हैं।

उच्च ब्लड प्रेशर(High blood pressure, hypertension) आपकी धमनियों और अंगों में एक तनाव उत्पन्न कर सकता है, जिससे ह्रदयघात और स्ट्रोक(सदमा) जैसी समस्याओं के शुरू होने का जोखिम बढ़ सकता है।

निम्न ब्लड प्रेशर(Low blood pressure, hypotension) प्राय: इतना खतरनाक नहीं है, फिर भी इससे कुछ लोगों को चक्कर और बेहोशी हो सकती है।

यदि आपको उच्च या निम्न ब्लड प्रेशर है तब ब्लड प्रेशर टेस्ट ही इसे जानने का एकमात्र तरीका है, क्योंकि ज्यादातर लोगों में इसके अस्पष्ट लक्षण होते हैं। इसका टेस्ट सरल है और इससे आपकी जान बच सकती है।

मुझे अपना ब्लड प्रेशर टेस्ट कब कराना चाहिए?

यदि किसी भी क्षण आप अपने ब्लड प्रेशर के लिए आशंकित हैं, तो आप इस टेस्ट के लिए कह सकते हैं।

आप बहुत जगहों पर अपना ब्लड प्रेशर टेस्ट करवा सकते हैं, इनमें सम्मिलित हैं:

  • आपके स्थानीय चिकित्सक के पास
  • कुछ फार्मेसियों के पास
  • कुछ कार्य स्थलों में
  • घर पर(घर पर ब्लड प्रेशर के लिए नीचे देखें)

40 वर्ष की आयु के ऊपर सभी वयस्कों को सलाह है कि कम-से-कम हर पांच साल में अपना ब्लड प्रेशर टेस्ट करवाएं ताकि शुरू में ही किसी भी संभावित समस्या का पता लग सके।

यदि आपमें उच्च या निम्न ब्लड प्रेशर होने की पुष्टि हुई है, या खासकर आप इन समस्याओं के अधिक खतरे में हैं, तो आपको ब्लड प्रेशर की देखरेख करने के लिए नियमित टेस्ट की जरुरत है।

ब्लड प्रेशर का टेस्ट कैसे होता है?

स्फिग्मोमैनोमीटर(sphygmomanometer) नाम के उपकरण का प्रयोग ब्लड प्रेशर मापने में किया जाता है।

इसमें स्टेथोस्कोप, भुजा कलाई-बंद, पंप और घडी होते हैं, हालांकि आजकल मुख्यत: आटोमेटिक उपकरणों का प्रयोग किया जा रहा है जिनमें सेंसर और डिजिटल डिस्प्ले लगे होते हैं।

टेस्ट में पीठ के सहारे और पैरों को मोड़े बिना बैठना सर्वोत्तम है। आपको अपनी बाजू को मोड़ने या लंबी बाजू वाले कपड़े को हटाने की जरुरत पड़ती है, ताकि कलाई-बंद को आपकी बाँह के ऊपरी हिस्से पर लपेटा जा सके। जब टेस्ट हो रहा हो तब रिलैक्स करें और बात करने से बचें।

टेस्ट के दौरान

इसमें आप अपनी एक बाँह को ह्रदय के समानान्तर स्थिर करते हैं, और एक भुजा कलेबंद को बाँह पर को लपेटते हैं - इस अवस्था में बाँह को सहारे जैसे तकिये या कुर्सी की जरुरत होती है।

आपकी बाँह में रक्त प्रवाह को रोकने के लिए कलाई बंद को पंप किया जाता है – इस दबाव से कुछ सेकेंड तक असहज प्रतीत हो सकता है।

स्टेथोस्कोप(डिजिटल उपकरण जिसके सेंसर का प्रयोग आपकी धमनियों के कंपन का पता लगाने में करते हैं) से आपकी धड़कनों को सुनते समय बाजु बंद के दबाव को धीरे-धीरे कम किया जाता है।

बाजु बंद पर होने वाले दबाव को दो बिन्दुओं पर मापा जाता है, जब आपकी भुजा में रक्तप्रवाह वापिस होना प्रारंभ होता है – यही दो बिंदु आपकी ब्लड प्रेशर की रीडिंग होती हैं ।

आपको अपना परिणाम प्राय: टेस्ट करने वाले पेशेवर स्वास्थ्यकर्मी द्वारा या डिजिटल डिस्प्ले पर तुरंत मिल जाता है।

घर पर ब्लड प्रेशर की निगरानी

आप अपने डिजिटल ब्लड प्रेशर मापी मॉनिटर से घर में भी अपने ब्लड प्रेशर का टेस्ट कर सकते हैं।

यह आपके ब्लड प्रेशर का अच्छा परिणाम दे सकता है, यह डॉक्टर द्वारा किए गए टेस्ट की तुलना में आपके लिए ज़्यादा सहज हो सकता है, क्यूँकि कभी कभी एक डॉक्टर द्वारा परीक्षण करने पर आप चिंतित महसूस कर सकते हैं और परिणाम को प्रभावित कर सकते हैं। यह लम्बे समय तक आपको आसानी से अपनी स्थिति को मॉनिटर करने की भी अनुमति दे सकता है।

आप अनेक प्रकार के कम-कीमत वाले मॉनिटर खरीद सकते हैं जिससे आप अपने ब्लड प्रेशर का टेस्ट घर या घर से बाहर कर सकें।

यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि जिन उपकरणों का प्रयोग आप कर रहे हैं उनका परीक्षण सही से किया गया हो।

एंबुलेटरी ब्लड प्रेशर की जाँच

डॉक्टर कुछ मामलों में आपको 24-घंटे या एंबुलेटरी ब्लड प्रेशर की जांच (ABPM) की सलाह दे सकते हैं।

यहां 24 घंटे हर 30 मिनट में आपकी कमर पर लगे पोर्टेबल डिवाइस से जुड़ी बाजु बंद के प्रयोग से अपने आप ही आपके ब्लड प्रेशर की जाँच हो जाती है।

एक दिन में आपका ब्लड प्रेशर कितना बदला है, ABPM इसे स्पष्ट करने में सहायता कर सकता है ।

टेस्ट के दौरान आप अपनी दैनिक गतिविधियों को सामान्य रूप से जारी रख सकते हैं, यधपि आपको उपकरण को नमी से बचाना होगा.

अपने ब्लड प्रेशर की रीडिंग को समझना

ब्लड प्रेशर को मरकरी के(mmHg) मिलीमीटर(millimeters of mercury) में मापा जाता है और इसे दो रूपों में दिया जाता है:

  • सिस्टोलिक प्रेशर(systolic pressure) - इस प्रेशरमें आपका हृदय रक्त को बाहर धकेलता है
  • डायस्टोलिक प्रेशर(diastolic pressure) - वह दबाव जब हृदय धड़कन के मध्य आराम करता है

उदाहरण के लिए, यदि आपका ब्लड प्रेशर “140 ओवर 90” या 140/90mmHg है, तो आपको 140mmHg का सिस्टोलिक और 90mmHg का डायस्टोलिक दबाव है.

सामान्य तौर पर :

  • सामान्य ब्लड प्रेशर 90/60mmHg और 120/80mmHg के बीच माना जाता है
  • 140/90mmHg या इससे अधिक को हाई ब्लड प्रेशर माना जाता है
  • 90/60mmHg या इससे कम को निम्न या लो ब्लड प्रेशर माना जाता है

यदि आप ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए कदम नहीं उठाते और आपकी ब्लड प्रेशर की रीडिंग 120/80mmHg और 140/90mmHg के बीच है तो आपको उच्च या हाई ब्लड प्रेशर के विकसित होने का ख़तरा हो सकता है।

आपके ब्लड प्रेशर के परिणाम का क्या अर्थ है की अधिक जानकारी प्राप्त करें।

अपने ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करें

यदि आपका ब्लड प्रेशर का उच्च या निम्न होना पाया जाता है, तो आपका डॉक्टर या पेशेवर स्वास्थ्यकर्मी टेस्ट के आधार पर आपको इसे नियंत्रित करने के तरीकों के बारे में सलाह दे सकते हैं।

इसमें सम्मिलित हो सकते हैं:

  • संतुलित, स्वस्थ आहार को अपनाना और नमक के सेवन को सीमित करना
  • नियमित रूप से व्यायाम करना
  • शराब के सेवन को कम करना
  • वजन को कम करना
  • धूम्रपान को बंद करना
  • दवा लेना, जैसे कि एंजियोटेनसिन-परिवर्तित एंजाइम (एसीई) अवरोधक या कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स(angiotensin-converting enzyme (ACE) inhibitors or calcium channel blockers)

कभी-कभी, आपको डॉक्टर, जैसे कार्डियोलोजिस्ट(हृदय रोग विशेषज्ञ) के पास उपचार के विकल्पों पर चर्चा के लिए भेजा जा सकता है।

उच्च और निम्न ब्लड प्रेशर के उपचार के बारे में अधिक पढ़ें।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk

क्या ये लेख आपके लिए उपयोगी है?

ऊपर जाएँ

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।