उच्च रक्तचाप (हायपरटेंशन)

प्रस्तावना

इसे मूक हत्यारे के रूप में जाना जाता है, उच्च रक्तचाप के लक्षण कभी भी स्पष्ट नहीं होते हैं।

समस्या जानने का एक ही तरीका है कि आपके रक्तचाप को मापा जाए।

सभी वयस्कों को कम से कम हर पाँच साल में अपना रक्तचाप जाँचना चाहिए। यदि आपने अपना रक्तचाप नहीं मापा है, या आप नहीं जानते हैं कि आपका रक्तचाप कितना है, तो अपने डॉक्टर से इसे जाँचने के लिए कहें।

उच्च रक्तचाप क्या है?

रक्तचाप यह मापता है कि आपकी धमनियों (बड़ी रक्त वाहिकाओं) की दीवारों पर रक्त कितनी जोर से दबाव डालता है क्योंकि यह आपके ह्रदय द्वारा आपके पूरे शरीर में पंप किया जाता है। यदि यह दबाव बहुत अधिक है, तो यह आपकी धमनियों और आपके दिल पर दबाव डालता है, जिससे इस बात की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है कि आपको दिल का दौरा, स्ट्रोक या गुर्दे की बीमारी हो सकती है।

रक्तचाप को पारे के मिलीमीटर (mmHg) में मापा जाता है और इसे दो आंकड़ों के रूप में दर्ज किया जाता है:

  • सिस्टोलिक दबाव: जब आपका हृदय रक्त को बाहर निकालने के लिए धड़कता है तब रक्त का दबाव
  • डायस्टोलिक दबाव: जब आपका दिल दो धड़कनों के बीच आराम करता है तब रक्त का दबाव

उदाहरण के लिए, जब आपका डॉक्टर कहता है कि आपका रक्तचाप 90 और 140 है, या 140 / 90mmHg है, तो इसका मतलब है कि आपको 140mmHg का सिस्टोलिक दबाव और 90mmHg का डायस्टोलिक दबाव है।

ऐसा कह सकते हैं कि आपको उच्च रक्तचाप (चिकित्सकीय भाषा में हायपर टेंशन) है, यदि अलग-अलग मौकों पर रीडिंग लगातार आपके रक्तचाप को 140 / 90mmHg या अधिक दर्शाती है।

130 / 80mmHg से नीचे की रीडिंग वाला रक्तचाप सामान्य माना जाता है।

सबसे ज्यादा जोखिम किसे है?

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है, आपको उच्च रक्तचाप होने की संभावना बढ़ जाती है। अक्सर उच्च रक्तचाप का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है, लेकिन आपको ये होने का ज़्यादा खतरा है, यदि आप:

  • अधिक वजन वाले हैं
  • आपका कोई रिश्तेदार है जिसे उच्च रक्तचाप है
  • अफ्रीकी या कैरिबियन मूल के हैं
  • नमक का अधिक सेवन करते हैं
  • पर्याप्त फल और सब्जियां नहीं खाते हैं
  • पर्याप्त व्यायाम नहीं करते हैं
  • बहुत अधिक कॉफी (या अन्य कैफीन आधारित पेय) पीते हैं
  • बहुत अधिक शराब पीते हैं
  • 65 वर्ष से अधिक आयु के हैं

यदि आप ऊपर दिए गए किसी भी समूह में आते हैं, तो उच्च रक्तचाप के अपने जोखिम को कम करने के लिए अपनी जीवन शैली में बदलाव लाने पर विचार करें। इसके अलावा अपने रक्तचाप को अधिक बार जाँच करवायें, आदर्श रूप से वर्ष में एक बार।

रोकथाम और उपचार

आप उच्च रक्तचाप को रोकने के लिए निम्न कदम उठा सकते हैं:

  • जरूरत पड़ने पर वजन कम करना
  • नियमित रूप से व्यायाम करना
  • स्वस्थ आहार खाना
  • यदि आप बहुत अधिक शराब पीते हैं तो उसमें कटौती करना
  • धूम्रपान बंद करना
  • नमक और कैफीन में कटौती करना

उच्च रक्तचाप को रोकने के तरीके के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

यदि आपका रक्तचाप उच्च है, तो इसे नियंत्रण में लाने तक बारीकी से निगरानी करना ज़रूरी है। आपका डॉक्टर आमतौर पर इसे ठीक करने के लिए आपकी जीवनशैली और कभी-कभी, दवा में परिवर्तन का सुझाव देगा।

लक्षण

Try checking your symptoms with our AI-powered symptom checker.

उच्च रक्तचाप का आमतौर पर कोई स्पष्ट लक्षण नहीं होता है और बहुत से लोगों को यह पता भी नहीं होता कि उन्हें यह है।

अनुपचारित उच्च रक्तचाप से गंभीर बीमारियां हो सकती हैं, जिनमें स्ट्रोक और हृदय रोग भी शामिल हैं। यह जानने का कि क्या आपको उच्च रक्तचाप है, एकमात्र तरीका है कि आप अपने रक्तचाप को मापें (जो चिकित्सकीय रूप से हायपर टेंशन के रूप में जाना जाता है)।सभी वयस्कों को कम से कम हर पाँच साल में अपना रक्तचाप जाँचना चाहिए।

कुछ दुर्लभ मामलों में, जहाँ किसी व्यक्ति को बहुत अधिक रक्तचाप होता है, उन्हें इनमें से कुछ लक्षणों का अनुभव हो सकता हैं:

  • लगातार सिरदर्द होना
  • धुंधली या दोहरी दृष्टि
  • नाक से खून आना
  • साँस की तकलीफ

अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण है तो जितनी जल्दी हो सके अपने डॉक्टर से मिलें।

कारण

90% से अधिक मामलों में, उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन) का कारण पता नहीं चलता है, लेकिन कई ऐसे कारक हैं जो इस बीमारी के खतरे को बढ़ा सकते हैं।

जहाँ कोई विशिष्ट कारण नहीं पता चलता है, वैसे में डॉक्टर उच्च रक्तचाप को प्राथमिक उच्च रक्तचाप (या आवश्यक उच्च रक्तचाप) कहते हैं।

प्राथमिक उच्च रक्तचाप के खतरे को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  • उम्र: जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है तो उच्च रक्तचाप होने का खतरा बढ़ जाता है
  • उच्च रक्तचाप का पारिवारिक इतिहास (बीमारी पीढ़ियों में चलती है)
  • आप अफ्रीकी या कैरिबियन मूल के हैं
  • आपके भोजन में नमक की अधिक मात्रा
  • व्यायाम की कमी
  • अधिक वजन होना
  • धूम्रपान
  • ज़्यादा मात्रा में शराब पीना
  • तनाव

ज्ञात कारण

लगभग 10% उच्च रक्तचाप के मामले एक अंदरूनी बीमारी या कारण का परिणाम होते हैं। इन मामलों को द्वितीयक उच्च रक्तचाप कहा जाता है।

द्वितीयक उच्च रक्तचाप के सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • गुर्दे की बीमारी
  • मधुमेह
  • गुर्दे में रक्त पहुंचाने वाली धमनियों (बड़ी रक्त वाहिकाओं) का सिकुड़ना
  • हार्मोनल बीमारियाँ, जैसे कुशिंग सिंड्रोम (ऐसी बीमारी जिसमे शरीर स्टेरॉयड हार्मोन ज़्यादा पैदा करता है)
  • ऐसी बीमारियाँ जो शरीर के ऊतक को प्रभावित करती हैं, जैसे कि ल्यूपस
  • मौखिक गर्भनिरोधक गोली लेना
  • दर्द निवारक दवाइयां जिन्हें नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स भी कहते हैं(NSAIDs), जैसे कि इबुप्रोफेन
  • मनोरंजक औषधियाँ, जैसे कोकीन, एम्फ़ैटेमिन और क्रिस्टल मेथामफेटामाइन
  • हर्बल उपचार, जैसे कि हर्बल सप्लीमेंट

पता करें कि आपके रक्तचाप का परीक्षण कैसे किया जाए।

एड्रेनालाईन: एड्रेनालाईन एक ऐसा हार्मोन है जो तनाव के समय उत्पन्न होता है और जो हृदय गति, रक्त परिसंचरण और शरीर के अन्य कार्यों को प्रभावित करता है।

आनुवंशिकी: आनुवंशिकी एक ऐसा शब्द है जो जीन को संदर्भित करता है- परिवार के सदस्यों से विरासत में मिली विशेषताएं।

दिल का दौरा: दिल का दौरा तब होता है जब दिल की धमनियों में से किसी एक में अवरोध हो।

किडनी: किडनी पेट के पीछे स्थित बीन के आकार के अंगों की एक जोड़ी होती है, जो रक्त से अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ को निकाल देती हैं और मूत्र के रूप में शरीर से बाहर निकाल देती हैं।

उत्पत्ति: उत्पत्ति वह स्थान है जहाँ कुछ शुरू होता है।

निदान

यह जानने का कि क्या आपको उच्च रक्तचाप है, एकमात्र तरीका है कि आप अपने रक्तचाप (हायपर टेंशन) को मापें।

यह आपके डॉक्टर या किसी अन्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा किया जा सकता है, और आप इसे स्वयं भी घर पर एक परीक्षण किट से देख सकते हैं।

40 वर्ष से अधिक आयु के स्वस्थ वयस्कों को हर पाँच साल में कम से कम एक बार अपना रक्तचाप जाँचना चाहिए।

यदि आपको उच्च रक्तचाप का खतरा है, तो आपको अपना रक्तचाप अधिक बार जाँचना चाहिए, आदर्श रूप से वर्ष में एक बार।

अपने डॉक्टर से जाँच करवाएं

रक्तचाप की जाँच आमतौर पर अधिकांश डॉक्टर सर्जरी और स्वास्थ्य क्लीनिक में अनुरोध पर हो जाती है।

रक्तचाप को अक्सर एक स्फिग्मोमेनोमीटर का उपयोग करके मापा जाता है, यह एक ऐसा उपकरण है जिसमें स्टेथोस्कोप, आर्म कफ, डायल, पंप और वाल्व होते हैं।

कफ को आपकी बाँह के चारों ओर बाँधा जाता है और रक्त प्रवाह को प्रतिबंधित करने के लिए पंप किया जाता है। दबाव को धीरे-धीरे छोड़ा जाता है और स्टेथोस्कोप का उपयोग करके आपकी नाड़ी की जाँच की जाती है।

कफ निकलने के बाद आपकी नाड़ी कैसे धड़कती है, यह सुनकर पारे के पैमाने पर माप ले सकते हैं, जिससे आपके रक्तचाप का सटीक पता चलता है।

कई डॉक्टर सर्जरी अब डिजिटल स्फिग्मोमेनोमीटर का उपयोग करते हैं, जो विद्युत सेंसर का उपयोग करके आपकी नाड़ी को मापते हैं।

आपका रक्तचाप होने से पहले, आपको कम से कम पाँच मिनट के लिए आराम करना चाहिए और अपने मूत्राशय को खाली करना चाहिए।

एक सटीक ब्लड प्रेशर जानने के लिए, आपको बैठकर रीडिंग लेनी चाहिए और बात नहीं करनी चाहिए।

रक्तचाप की रीडिंग

एक बार बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर आने का मतलब ये नहीं है कि आपको उच्च रक्तचाप होगा ही। पूरे दिन रक्तचाप में उतार-चढ़ाव हो सकता है। जब आप अपने डॉक्टर से मिलने जाते हैं तो आप चिंतित या तनावग्रस्त महसूस करते हैं।

इसलिए, आपको संभवतः घर ले जाने के लिए ब्लड प्रेशर किट दिया जाएगा ताकि आप पूरे दिन अपने रक्तचाप के स्तर की निगरानी कर सकें। इससे यह साफ़ हो जायेगा कि क्या आपको लगातार उच्च रक्तचाप है।

आपको उन बीमारियों की जाँच के लिए रक्त और मूत्र परीक्षण भी बताये जा सकते हैं जो रक्तचाप में वृद्धि का कारण हो सकती हैं, जैसे कि किडनी रोग।

गृह परीक्षण किट

पोर्टेबल परीक्षण किट जो आपके रक्तचाप को घर पर या यात्रा करते समय मापती है, एक अधिक सटीक रीडिंग दे सकती है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि कुछ लोग चिकित्सा क्लीनिक में घबर जाते हैं, जिससे रक्तचाप बढ़ सकता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसे व्हाइट कोट हायपर टेंशन कहा जाता है।

होम या पोर्टेबल ब्लड प्रेशर मॉनिटरिंग किट ये दिखा सकती हैं कि जब आप तनावमुक्त होते हैं तब वास्तव में आपका ब्लड प्रेशर सामान्य होता है।

आप विभिन्न प्रकार के परीक्षण किट खरीद सकते हैं ताकि आप अपने रक्तचाप की निगरानी घर में भी कर सकें या बाहर भी कर सकें।

यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप ऐसा ब्लड प्रेशर मॉनिटर खरीदें जो विश्वसनीय है और सटीक रीडिंग देता है।

अपनी रीडिंग को समझना

रक्तचाप यह मापता है कि आपकी धमनियों (बड़ी रक्त वाहिकाओं) की दीवारों पर रक्त कितनी जोर से दबाव डालता है क्योंकि यह आपके ह्रदय द्वारा आपके पूरे शरीर में पंप किया जाता है।

रक्तचाप को पारे के मिलीमीटर (mmHg) में मापा जाता है और इसे दो आंकड़ों के रूप में दर्ज किया जाता है:

  • सिस्टोलिक दबाव: जब आपका हृदय रक्त को बाहर निकालने के लिए धड़कता है तब रक्त का दबाव
  • डायस्टोलिक दबाव: जब आपका दिल दो धड़कनों के बीच आराम करता है तब रक्त का दबाव

उदाहरण के लिए, जब आपका डॉक्टर कहता है कि आपका रक्तचाप 90 और 140 है, या 140 / 90mmHg है, तो इसका मतलब है कि आपको 140mmHg का सिस्टोलिक दबाव और 90mmHg का डायस्टोलिक दबाव है।

आदर्श रूप से, आपके रक्तचाप की रीडिंग का स्तर 120 / 80mmHg से कम होना चाहिए। हालांकि, 130/80 mmHg के नीचे किसी भी रीडिंग को सामान्य माना जाता है।

अगर अलग-अलग मौकों पर आपकी रीडिंग लगातार 140 / 90mmHg या इससे अधिक दिखती है, तो आपको उच्च रक्तचाप होने की सम्भावनाएँ है।

यदि आपको गुर्दे की बीमारी, मधुमेह या ऐसी कोई बीमारी है जो आपके दिल और परिसंचरण को प्रभावित कर सकती है, तो आपका रक्तचाप 130/80 80mmHg से कम होना चाहिए।

इलाज

आप अपनी जीवनशैली में बदलाव ला कर और दवाई ले कर अपने रक्तचाप को कम करने के लिए प्रभावी कदम उठा सकते हैं।

आपको तरह का उपचार लेना है ये इस बात पर निर्भर करेगा कि आपके रक्तचाप का स्तर क्या है और आपको हृदय रोग के विकास या दिल का दौरा या स्ट्रोक होने का कितना जोखिम है।

  • यदि आपका रक्तचाप 130 / 80mmHg से थोड़ा ऊपर है, लेकिन आपको हृदय रोग का खतरा कम है, तो आप अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करके अपने रक्तचाप को कम करने में सक्षम हो सकते हैं।
  • यदि आपका रक्तचाप मध्यम (140 / 90mmHg या अधिक) है और आपको अगले 10 वर्षों में हृदय रोग का खतरा है, तो उपचार में दवा और जीवन शैली समायोजन शामिल होंगे।
  • यदि आपका रक्तचाप बहुत अधिक है (180 / 110mmHg या इससे अधिक) तो आपको जल्द ही उपचार की आवश्यकता होगी, संभवतः आपके स्वास्थ्य के आधार पर, आगे के परीक्षण करके।

जीवन शैली में परिवर्तन

उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए आप अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव कर सकते हैं। इनमें से कुछ आपके रक्तचाप को कुछ हफ्तों में ही कम कर देंगे, कुछ को थोड़ा अधिक समय लग सकता है।

  • नमक का सेवन एक दिन में 6g (0.2oz) से कम करें।
  • ताज़े फल और सब्जियों सहित, स्वस्थ, कम वसा वाले, संतुलित आहार का सेवन करें।
  • सक्रिय रहें: उच्च रक्तचाप को रोकने या नियंत्रित करने के लिए शारीरिक रूप से सक्रिय रहना सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है।
  • शराब कम करें।
  • धूम्रपान करना बंद कर दें। धूम्रपान से आपको दिल और फेफड़ों के रोग होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • वजन कम करें।
  • कॉफ़ी, चाय या अन्य कैफीन युक्त पेय जैसे कोला का कम सेवन करें। दिन में चार कप से अधिक कॉफी पीने से आपका रक्तचाप बढ़ सकता है।
  • योग, ध्यान और तनाव प्रबंधन जैसे विश्राम चिकित्सा का प्रयास करें।

जितनी अधिक स्वस्थ आदतें आप अपनाते हैं, उतना आपके रक्तचाप के कम होने की संभावना होती है।

वास्तव में, कुछ लोगों का अनुभव है कि, एक स्वस्थ जीवन शैली अपना कर, उन्हें कोई दवा लेने की आवश्यकता नहीं पड़ती।

उच्च रक्तचाप को रोकने के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

दवाईयां

रक्तचाप-घटाने वाली दवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला है, जिसमें से आप चयन कर सकते हैं। आपको एक से अधिक प्रकार की दवा लेने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए दवाओं के संयोजन की आवश्यकता होती है।

कुछ मामलों में, आपको अपने पूरे जीवन रक्तचाप कम करने वाली दवा लेने की आवश्यकता हो सकती है। हालांकि, यदि आपका रक्तचाप का स्तर कई वर्षों तक नियंत्रण में रहता है, तो आप अपना उपचार रोक सकते हैं।

उच्च रक्तचाप का इलाज करने के लिए उपयोग की जाने वाली अधिकांश दवाएं साइड इफेक्ट्स पैदा कर सकती हैं लेकिन रक्तचाप की इतनी सारी दवाएँ हैं की अक्सर आप दवाएं बदलकर इन तकलीफों को दूर कर सकते हैं।

यदि दवा लेते समय आपको निम्नलिखित सामान्य दुष्प्रभाव में से कुछ होता है तो अपने चिकित्सक को बताएं:

  • सुस्ती महसूस करना
  • आपके गुर्दे के क्षेत्र के आसपास दर्द (आपकी पीठ के निचले हिस्से की तरफ)
  • सूखी खांसी
  • चक्कर आना, बेहोशी या हल्की-सी कमजोरी
  • त्वचा पर लाल चकत्ते

उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए नीचे सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। विभिन्न जातीय समूहों के लिए विभिन्न उच्च रक्तचाप उपचार बेहतर काम करते हैं। उपचार योजना बनाते समय आपका डॉक्टर आपकी जातीय पृष्ठभूमि पर विचार करेगा।

एसीई अवरोधक

एंजियोटेनसिन-परिवर्तित एंजाइम (एसीई) अवरोधक आपके रक्त वाहिकाओं को सुस्त करके रक्तचाप को कम करते हैं। इसके सबसे आम दुष्प्रभाव हैं लगातार सूखी खांसी। यदि साइड इफेक्ट्स बहुत अधिक तकलीफदेह हो जाते हैं, तो एक दवा जो एसीई इनहिबिटर के समान काम करती है, जिसे एंजियोटेंसिन -2 रिसेप्टर विरोधी के रूप में जाना जाता है, की सिफारिश की जा सकती है।

यदि ACE अवरोधक को कुछ ओवर-द-काउंटर सहित अन्य दवाओं के साथ लिया जाता है, तो प्रत्याशित प्रभाव पैदा कर सकते हैं। इस दवा के साथ संयोजन में कुछ भी लेने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से जाँच करें।

कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स

कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स कैल्शियम को हृदय और रक्त वाहिकाओं की मांसपेशियों की कोशिकाओं में प्रवेश करने से रोकते हैं। यह आपकी धमनियों (बड़ी रक्त वाहिकाओं) को चौड़ा करता है और आपके रक्तचाप को कम करता है।

कुछ प्रकार के कैल्शियम ब्लॉकर्स लेने के साथ अंगूर का रस पीने से आपके दुष्प्रभावों का खतरा बढ़ सकता है। आप अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संभावित जोखिमों पर बात कर सकते हैं।

ड्यूरेटिक्स

कभी-कभी पानी की गोलियों के रूप में जाना जाता है, ड्यूरेटिक्स मूत्र के माध्यम से शरीर से अतिरिक्त पानी और नमक को बहा कर काम करते हैं।

बीटा ब्लॉकर्स

बीटा-ब्लॉकर्स आपके दिल की धड़कन को धीमा कर देते हैं जिससे ये कम बल के साथ काम करता है, और रक्तचाप कम हो जाता है।

बीटा-ब्लॉकर्स उच्च रक्तचाप के लिए एक लोकप्रिय उपचार हुआ करते थे, लेकिन अब उनका उपयोग केवल तब किया जाता है जब अन्य उपचार काम न कर रहे हों। ऐसा इसलिए है क्योंकि उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली अन्य दवाओं की तुलना में बीटा-ब्लॉकर्स को कम प्रभावी माना जाता है।

बीटा-ब्लॉकर्स के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

बीटा-ब्लॉकर्स अन्य दवाओं के साथ रिएक्ट भी कर सकती हैं, जिससे संभावित दुष्प्रभाव हो सकते हैं। बीटा-ब्लॉकर्स के साथ संयोजन में अन्य दवाएं लेने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से पूछ लें।

अपने चिकित्सक से परामर्श के बिना अचानक बीटा-ब्लॉकर्स लेना बंद न करें। अचानक रुकने से गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जैसे कि रक्तचाप में वृद्धि या एनजाइना का दौरा।

अल्फा ब्लॉकर्स

अल्फा-ब्लॉकर्स को आमतौर पर उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए तब तक अनुशंसित नहीं किया जाता, जब तक कि अन्य उपचार काम न कर रहे हों। अल्फा-ब्लॉकर्स आपके रक्त वाहिकाओं को आराम देकर काम करते हैं, जिससे रक्त को उनसे गुज़ारना आसान हो जाता है।

अल्फा-ब्लॉकर्स के सामान्य दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • जब आप पहली बार उपचार शुरू करते हैं तो बेहोशी आती है
  • चक्कर आना
  • सिरदर्द
  • टखनों में सूजन
  • थकान

एनजाइना सीने में दर्द है जो हृदय में रक्त के कम प्रवाह के कारण होता है, आमतौर पर हृदय रोग के परिणामस्वरूप।

एंटीहाइपरटेन्सिव दवा उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन) को कम करती है।

धमनियां वे रक्त वाहिकाएं हैं जो हृदय से शरीर के बाकी हिस्सों तक रक्त ले जाती हैं। ।

कोलेस्ट्रॉल शरीर द्वारा बनाया गया एक वसायुक्त पदार्थ है जो रक्त और ऊतक में रहता है। इसका उपयोग पित्त एसिड, हार्मोन और विटामिन डी बनाने के लिए किया जाता है।

क्रोनिक आमतौर पर एक ऐसी स्थिति का अर्थ है जो लंबे समय तक जारी रहती है या जो बार बार वापस आती रहती है।

दिल का दौरा तब पड़ता है जब दिल की धमनियों में से किसी एक में अवरोध होता है।

प्लेटलेट्स रक्त में उपस्थित ऐसी कोशिकाएं होती हैं जो टूटी हुई रक्त वाहिका को प्लग करके रक्त को नियंत्रित करती हैं और रक्त को थक्का बनाने में मदद करती हैं।

निवारण

स्वस्थ रहने, अच्छा वजन बनाए रखने, नियमित व्यायाम करने, कम शराब पीने और धूम्रपान न करने से उच्च रक्तचाप को रोका जा सकता है।

आहार

अपने भोजन में नमक की मात्रा में कटौती करें और फलों और सब्जियों का खूब सेवन करें।

नमक आपके रक्तचाप को बढ़ाता है। जितना अधिक नमक आप खाते हैं, उतना ही उच्च रक्तचाप होता है। एक दिन में ज़्यादा से ज़्यादा 6g (0.2oz) नमक खाना है, जो एक चम्मच के बराबर है।

कम वसा वाले आहार का सेवन करना जिसमें बहुत सारे फाइबर शामिल हैं (उदाहरण के लिए, साबुत चावल, रोटी और पास्ता) और बहुत सारे फल और सब्जियां उच्च रक्तचाप को कम करने में मददगार साबित हुई हैं। फल और सब्जियां विटामिन, खनिज और फाइबर से भरी होती हैं जो आपके शरीर को अच्छी स्थिति में रखती हैं। हर दिन फलों और सब्जियों 80 ग्राम के पाँच हिस्से खाने का लक्ष्य रखें।

शराब

एनएचएस की सिफारिश के अनुसार नियमित रूप से शराब पीने से आपका रक्तचाप समय के साथ बढ़ेगा। अनुशंसित स्तरों के अंदर ही शराब पीना उच्च रक्तचाप खतरे को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है।

इसकी सलाह दी जाती है:

  • पुरुषों को नियमित रूप से दिन में तीन से चार यूनिट से अधिक नहीं पीना चाहिए।
  • महिलाओं को नियमित रूप से दिन में दो से तीन यूनिट से अधिक नहीं पीना चाहिए।

शराब में कैलोरी उच्च होती है, जो आपका वजन बढ़ाती है। इससे आपका रक्तचाप भी बढ़ेगा।

कैफीन

दिन में चार कप से अधिक कॉफी पीने से आपका रक्तचाप बढ़ सकता है। यदि आप कॉफी, चाय या अन्य कैफीन युक्त पेय (जैसे कोला और कुछ ऊर्जा पेय) पसंद करते हैं, तो इसे कम करने पर विचार करें। संतुलित आहार के एक हिस्से के रूप में चाय और कॉफी पीना ठीक है लेकिन इस बात का ध्यान रखिये कि सिर्फ यही पेय आपके तरल पदार्थ का एकमात्र स्रोत नहीं हैं।

वजन

अधिक वजन होने के कारण आपके दिल को पूरे शरीर में रक्त पंप करने के लिए अधिक मेहनत करनई पड़ती है, जो आपके रक्तचाप को बढ़ा सकता है। यदि आपको वजन कम करने की आवश्यकता है, तो यह बात याद रखने योग्य है कि कुछ पाउंड वज़न कम करने मात्र से आपके रक्तचाप और समग्र स्वास्थ्य पर बहुत फर्क पड़ेगा।

व्यायाम

सक्रिय होने और नियमित रूप से व्यायाम करने से आपके दिल और रक्त वाहिकाओं को अच्छी स्थिति में रखकर रक्तचाप कम होता है। नियमित व्यायाम भी आपको वजन कम करने में मदद कर सकता है, जो आपके रक्तचाप को कम करने में भी मदद करेगा।

वयस्कों को हर हफ्ते कम से कम 150 मिनट (2 घंटे और 30 मिनट) मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि (यानी साइकिल चलाना या तेज चलना) करना चाहिए। इसका असर हो, उसके लिए गतिविधि करते समय आपको गर्म महसूस होना चाहिए और थोड़ी सांस फूलनी चाहिए। अधिक वजन वाले किसी व्यक्ति को शायद सिर्फ ढलान पर चढ़ने से यह महसूस हो सकता है। शारीरिक गतिविधि में खेल से लेकर चलने और बागवानी तक कुछ भी शामिल हो सकता है।

आराम चिकित्सा

आराम थेरेपी और व्यायाम रक्तचाप को कम कर सकते हैं। इन उपचारों में शामिल हैं:

  • तनाव प्रबंधन, ध्यान या योग
  • संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी), जो इस बात पर ध्यान केंद्रित करती है कि विचार और विश्वास कैसे आपके महसूस करने के तरीके को प्रभावित कर सकते हैं और आप समस्याओं का सामना कैसे कर सकते हैं। सीबीटी आराम से हर जगह उपलब्ध है इसलिए इस प्रकार की चिकित्सा लेने के लिए अपने चिकित्सक से और जानकारी लें।
  • बायोफीडबैक, जिसमे एक छोटा सा मॉनिटर लगातार आपके दिल की धड़कन या रक्तचाप को दिखाता है, और इसका उपयोग आपके रक्तचाप को नियंत्रित करने में आपकी मदद करने के लिए किया जाता है। एक डॉक्टर बायोफीडबैक के लिए आपको भेज सकता है।

धूम्रपान

धूम्रपान सीधे उच्च रक्तचाप का कारण नहीं होता है, लेकिन इससे आपको दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है। धूम्रपान - उच्च रक्तचाप की ही तरह - आपकी धमनियों को संकीर्ण कर देगा। यदि आप धूम्रपान करते हैं और उच्च रक्तचाप है, तो आपकी धमनियां बहुत तेज़ी से संकुचित होंगी और भविष्य में आपको दिल या फेफड़ों की बीमारी का खतरा बहुत खतरनाक तरीके से बढ़ जाएगा।

आपके रक्तचाप का परीक्षण कैसे किया जाता है इस बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

जटिलताएं

उच्च रक्तचाप (हायपर टेंशन) आपके हृदय और रक्त वाहिकाओं पर अतिरिक्त दबाव डालता है।

यदि इलाज न कराया जाये है, तो समय के साथ यह अतिरिक्त दबाव आपके दिल का दौरा, स्ट्रोक और गुर्दे की बीमारी का खतरा बढ़ा सकता है।

हृदय रोग

उच्च रक्तचाप हृदय और रक्त वाहिकाओं के कई विभिन्न रोगों का कारण बन सकता है (चिकित्सकीय रूप से हृदय रोगों के रूप में जाना जाता है), जिसमें शामिल हैं:

  • स्ट्रोक: तब होता है जब मस्तिष्क के किसी हिस्से में रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है
  • दिल का दौरा: तब होता है जब हृदय में रक्त की आपूर्ति अचानक अवरुद्ध हो जाती है
  • एम्बोलिज्म: तब होता है जब रक्त का थक्का या वायु का बुलबुला किसी नली में रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध कर देता है
  • एन्यूरिज्म: तब होता है जब रक्त वाहिका की दीवार फट जाती है जिससे आंतरिक रक्तस्राव होता है

गुर्दे की बीमारी

उच्च रक्तचाप आपके गुर्दे में छोटी रक्त वाहिकाओं को भी नुकसान पहुंचा सकता है और उन्हें ठीक से काम करने से रोक सकता है।

इससे कई लक्षण पैदा हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • थकान
  • टखनों, पैरों या हाथों में सूजन (पानी भरने के कारण)
  • सांस की तकलीफ
  • आपके मूत्र में रक्त आना
  • अधिक बार पेशाब आना, खासकर रात में
  • त्वचा में खुजली होना

दवा और भोजन के सप्लीमेंट का संयोजन करके गुर्दे की बीमारी का इलाज किया जा सकता है।

अधिक गंभीर मामलों में डायलिसिस (एक उपचार जहां अपशिष्ट उत्पादों को कृत्रिम रूप से शरीर से हटाया जाता है) या एक गुर्दा प्रत्यारोपण की आवश्यकता हो सकती है।

उच्च रक्तचाप को रोकने के तरीकों के बारे में जानें।

एंडी की कहानी

एंडी जोन्स को अपने खाने के साथ नमक खाना बहुत पसंद था। वो जो कुछ भी खाता था, चाहे वह एक चायनीज़ पार्सल हो या मछली और चिप्स हो, एंडी हमेशा बहुत सारी सीज़निंग लेता था। यद्यपि वह खुद को अस्वस्थ नहीं मानता था, एंडी कभी व्यायाम नहीं करता था और उसका वजन भी अधिक था, जिसने उसे चंकी उपनाम मिला था।

एंडी अपने भोजन में अत्यधिक नमक खा रहा था, जिससे उसका रक्तचाप खतरनाक स्तर तक बढ़ गया था। उच्च रक्तचाप के कारण उसकी धमनियों में फुंसी हो गईं और उनके दिल पर अतिरिक्त दबाव पड़ने लगा।

उच्च रक्तचाप वाले अधिकांश लोगों में कोई लक्षण नहीं होते हैं, लेकिन ऐसी स्थिति में तेजी से स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ जाता है।

दिसंबर 2003 में, एंडी, जो वार्विक में एक कूरियर व्यवसाय चलाता था, एक डिलीवरी के दौरान किसी के दरवाजे पर गिर गया।

वो बताता है, "मुझे चक्कर जैसा महसूस हुआ और मेरा सर घूमने लगा।" “मैंने दरवाजा खटखटाया और जिसने दरवाज़ा खोला मैंने उस व्यक्ति को बताया कि मैं अस्वस्थ महसूस कर रहा हूँ। बाद में मैं गिर गया।”

उसका दाईं ओर काम नहीं कर रहा था और उसकी आवाज़ धीमी हो गयी थी। अस्पताल के परीक्षणों ने पुष्टि की कि उसे रक्त के थक्के के कारण स्ट्रोक हुआ था।

कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण

एंडी एक हफ्ते के लिए अस्पताल में था, जहां उसे फिजियोथेरेपी और स्पीच थेरेपी दी गई। उसने अपने रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए दवा ली।

"मैं क्रिसमस की पूर्व संध्या पर घर पर था," वो बताता है। “उस वक़्त तक मैं फिर से चलने लगा था, लेकिन मुझे अपने हाथ और बाँह का इस्तेमाल करने में तीन महीने लग गए।

“मेरी आवाज़ और निगलने की क्षमता 24 घंटों के भीतर वापस आ गई। हालांकि, अब भी मुझे जूतों के लेस बाँधने और चाबियों का उपयोग करने के लिए संघर्ष करता पड़ता है।”

उसका कहना है कि उसके ठीक होने में उसके परिवार का महत्वपूर्ण हिस्सा था। "वे मुझे बेहतर करने के लिए मेरे दृढ़ संकल्प को बढ़ाते हैं," वो बताता है। "मेरी माँ रोज़ मेरे साथ चलती थी।"

40 की उम्र में स्ट्रोक होना एंडी के लिए बड़ा झटका था। "मुझे लगता था कि मेरी उम्र के लोगों को स्ट्रोक नहीं होता है," उसने बताया।

वास्तव में, यूके में हर साल 150,000 लोगों को स्ट्रोक होता है, जिसमें से 31,000 लोग 60 साल से कम होते हैं।

एंडी कहता है, "मुझे अपने स्ट्रोक की सच्चाई को मानने में लंबा समय लगा।" "मैं अभी भी चिंता और अवसाद से गुज़रता हूँ।"

काम पर वापस लौटना

एंडी कहता है कि स्ट्रोक ने कुछ निशान छोड़ दिए हैं, लेकिन इसके कम स्पष्ट प्रभावों में अत्यधिक थकान के क्षण शामिल हैं।

"यह एक छिपी हुई विकलांगता है जिसे समझाना मुश्किल है," वो बताता है। "यह एक ऐसी थकान है जो मैंने पहले कभी अनुभव नहीं की है और यह काफी दुर्बल करने वाली है।"

स्ट्रोक के तुरंत बाद उसका अपना व्यवसाय ख़त्म हो गया, लेकिन जितनी जल्दी हो सके वह काम पर वापस जाने के लिए, अपने आत्मसम्मान को फिर से बनाने के लिए उत्सुक था। स्वैच्छिक क्षेत्र में ड्राइवर के रूप में काम करने के बाद, एंडी अब एक सट्टेबाजी की दुकान में पार्ट टाइम नौकरी करता है।

नमक में कटौती

वह अब बहुत अधिक सावधानी बरतता है कि वह क्या खाता है, उसने बाहर से खाना लाने पर कटौती की है और अपने आहार में नमक की मात्रा को बहुत कम कर दिया है।

"मैं अपने भोजन में नमक नहीं डालता," वो बताता है। "अगर मुझे स्नैक खाने की इच्छा होती है, तो मैं फल खा लेता हूँ।"

वह कहता है कि वह अपना भोजन बहुत धीरे-धीरे खाता है, जिससे वह अधिक संतुष्ट हो जाता है। वो बताता है, '' मेरा लक्ष्य हमेशा खाना अंत में ख़त्म करना होता है। "इसका मतलब है कि मैं कम खाता हूँ लेकिन अधिक भरा हुआ महसूस करता हूँ।"

एंडी का मानना ​​है कि नमक अधिक खाने से उसको स्ट्रोक हुआ। "मेरे आहार और व्यायाम की कमी ने मेरे स्ट्रोक में बहुत योगदान दिया," वो बताता है।

"काश मुझे पता होता कि मुझे उच्च रक्तचाप है, तो मैंने इसके बारे में कुछ किया होता और शायद स्ट्रोक को रोक सका होता।”

एंडी के अनुभव से कुछ अच्छा नतीजा निकला: उसने अपने छोटे भाई को स्ट्रोक से बचा लिया।

"मेरे स्ट्रोक के बाद, वह अपने रक्तचाप की जाँच करवाने गया और पाया कि वह बहुत बढ़ा हुआ था। अब वह इसका ख्याल रख रहा है।”

NHS Logo
शीर्ष पर लौटें